न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

 बोफोर्स कांड अलग, राफेल डील में भ्रष्टाचार और राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता दोनों किये गये :   प्रशांत भूषण

SC के सीनियर वकील प्रशांत भूषण के अनुसार राफेल लड़ाकू विमान करार के मामले में वित्तीय भ्रष्टाचार और राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता दोनों पहलू शामिल हैं,

48

NewDelhi : SC के सीनियर वकील प्रशांत भूषण के अनुसार राफेल लड़ाकू विमान करार के मामले में वित्तीय भ्रष्टाचार और राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता दोनों पहलू शामिल हैं, जबकि बोफोर्स कांड में ऐसा नहीं था. प्रशांत भूषण यहां शनिवार को संवाददाताओं से बात कर रहे थे. कहा कि राफेल करार में न केवल भ्रष्टाचार हुआ, बल्कि राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता भी किया गया हुआ. बताया कि बोफोर्स कांड 64 करोड़ रुपए के कमीशन का मामला था, लेकिन उसमें राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौते वाला पहलू नहीं था. आरोप लगाया कि राफेल करार में 20,000 करोड़ रुपए का घोटाला हुआ है और राष्ट्रीय सुरक्षा से भी समझौता किया गया है. बता दें कि प्रशांत भूषण से पूछा गया था कि क्या राफेल मुद्दे की तुलना बोफोर्स कांड से की जा सकती है?

mi banner add

इसे भी पढ़ें : कृषि विशेषज्ञ पी साईंनाथ की नजर में मोदी सरकार की फसल बीमा योजना राफेल से भी बड़ा गोरखधंधा

राफेल लड़ाकू विमान सौदा इतना बड़ा घोटाला है जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती

Related Posts

इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस ने पाकिस्तान के जेल में बंद कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक लगायी

अदालत के प्रमुख न्यायाधीश अब्दुलकावी अहमद यूसुफ मे फैसला पढ़कर सुनाया. 16 में से 15 जज, भारत के हक में थे.

बता दें कि इससे पहले प्रशांत भूषण ने दावा किया था कि राफेल लड़ाकू विमान सौदा इतना बड़ा घोटाला है जिसकी   कल्पना भी नहीं की जा सकती. प्रशांत भूषण ने आरोप लगाया था कि ऑफसेट करार के जरिये अनिल अंबानी के रिलायंस समूह को कमीशन के रूप में 21,000 करोड़ रुपये मिले. इस क्रम में उन्होंने इस सौदे से जुड़ी कथित दलाली की 1980 के दशक के बोफोर्स तोप सौदे में दी गयी दलाली से तुलना की. भूषण ने आरोप लगाया कि भाजपा नेतृत्व वाली सरकार नेअनिल अंबानी की कंपनी के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता किया.  भारतीय वायु सेना को बेबस छोड़ दिया. उन्होंने कहा, बोफोर्स 64 करोड़ रुपये का घोटाला था जिसमें चार प्रतिशत कमीशन दिया गया था. इस राफेलघोटाले में कमीशन कम से कम 30 प्रतिशत है. अनिल अंबानी को दिये गये 21,000 करोड़ रुपये कमीशन हैं. बता दें कि अंबानी ने इन आरोपों से इनकार कर चुके हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: