न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दुमका में ग्रामीणों ने अडानी और मुख्यमंत्री रघुवर का फूंका पुतला

गोड्डा में किसानों की फसल बर्बाद करने के खिलाफ प्रदर्शन

737

Dumka: गोड्डा में अडाणी ग्रुप द्वारा जमीन अधिग्रहण और प्रशासन द्वारा किसानों की फसल नष्ट करने को लेकर दुमका में प्रदर्शन किया गया. गोड्डा के माली गांव में अडानी पावर प्लांट के लिए झारखंड सरकार द्वारा भूमि अधिग्रहण किये जाने और कंपनी के लोगों द्वारा जबर्दस्ती किसानों के खेत में लगी धान की फसल को जेसीबी चलाकर नष्ट करने की घटना का रविवार को दुमका में विरोध किया गया.

इसे भी पढ़ेंःसरकार की नीतियों के विरोध में 11 सितंबर से जोरदार आंदोलन: शोभा यादव

दुमका की विभिन्न पंचायतों के कई गांवों नकटी, कुकुरतोपा, गुहियाजोड़ी, बुढियारी, बरई, गरडी, राजबांध, जोगीडीह, विजयपुर गांवों में ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री रघुवर दास एवं अडानी का पुतला फूंका और इनके खिलाफ नारेबाजी की.  विजयपुर में इसके साथ-साथ मंत्री डॉ लुईस मरांडी का भी पुतला जलाया गया. वहीं, जोगीडीह में सांसद निशिकांत दुबे और मंत्री डॉ लुईस मरांडी का पुतला जलाया गया. ग्रामीणों का कहना है कि भारत किसानों का देश है.

इसे भी पढ़ेंःतेल की बढ़ी कीमतों पर कांग्रेस का भारत बंद, एकजुट विपक्ष का प्रदर्शन

झारखंड में भी आदिवासियों, मूलवासियों का मूल व्यवसाय खेती ही है. ऐसे में सरकार द्वारा अडानी पावर प्लांट के लिए जमीन अधिग्रहीत किया जाना और खेतों में लगी धान की फसल को जेसीबी चलाकर नष्ट किया जाना दुर्भाग्यपूर्ण है. सरकार किसानों के साथ अन्याय कर रही है. किसानों के खेत व जमीन को जबरन हथियाने व रौंदने का काम हो रहा है, जिसे किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जायेगा.

इसे भी पढ़ेंःजलापूर्ति योजनाएं नहीं हो रहीं पूरी, 50 प्रतिशत आबादी को नहीं मिल रहा पानी

नष्ट की गयी फसल की भरपाई करें सरकार

palamu_12

ग्रामीणों ने गोड्डा के माली गांव में लगी धान की फसल को नष्ट करने की भरपाई करने की मांग सरकार से करते हुए कहा है कि अगर ऐसा नहीं किया गया, तो ग्रामीण किसानों के साथ मिलकर आंदोलन को और तेज करेंगे. ग्रामीणों का कहना है कि सरकार को कंपनी से अधिक किसानों के लिए सोचने और काम करने की जरूरत है, क्योंकि किसान सुखाड़ से जूझ रहे हैं और राज्य में सिंचाई की सुविधा नहीं है.

इसे भी पढ़ें: अपराधियों का शहर बना राजधानी, 15 दिनों के अंदर तीन हत्याएं

कार्यक्रम में ये थे मौजूद

कार्यक्रम में योगेश मुर्मू, मीरू हांसदा, सुभाष सोरेन, विरंची मोहली, चांदमुनी देवी, शांति देवी, ठाकुर प्रसाद सिंह, शंकर सिंह, संतोषनी बेसरा, प्रेमशिला किस्कू, मानसिंह मुर्मू, सोम मुर्मू, राम मुर्मू, बड़का सोरेन, सुरेंद्र राणा, सोनोती किस्कू, रानी हांसदा, बाबूराम टुडू, रामलाल मुर्मू, गुलशन मुर्मू, मंगल मुर्मू, बैजनाथ देहरी, शिवलाल मुर्मू, रामजन राणा, सूर्य मरांडी, मर्शिला हेम्ब्रोम, निर्मल मुर्मू, डोली मरांडी, सुफल सोरेन, बाबूजी सोरेन, प्रधान सोरेन, सुनीता टुडू, प्रेम प्रकाश हांसदा, पकलू मरांडी, मेलोनी मरांडी, शांति देवी, साहेब टुडू, सुभाष चंद्र मरांडी, सिकंदर मुर्मू, हेमंती मुर्मू, नीलू मरांडी के साथ काफी संख्या में ग्रामीण महिला और पुरुष उपस्थित थे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: