न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नहीं थम रहा #Mob का खूनी खेलः बच्चा चोरी के शक में तोड़ रहे कानून, कहीं महिला-कहीं विक्षिप्त की पिटायी

बच्चा चोरी की बात महज अफवाह, अफवाह से बचें और सावधानी और सतर्कता रखें

1,065

Ranchi: झारखंड में भीड़तंत्र का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है. बच्चा चोरी की अफवाह में कहीं विक्षिप्त महिला भीड़तंत्र का शिकार हो रही है, तो कहीं मानसिक रोगी. भीड़ तंत्र का कहर शहर से लेकर गांव तक में जारी है.

राज्य में हर दिन बच्चा चोरी के आरोप में कहीं ना कहीं लोगों की भीड़ के द्वारा पिटाई की जा रही है. झारखंड में इन दिनों बच्चा चोरी की अफवाह में भीड़ के द्वारा जिन लोगों की पिटाई की जा रही है, सही मायने में देखें तो वो बच्चा चोर नहीं होते हैं.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

इसे भी पढ़ेंः13 महीने के वेतन पर बोले पुलिस कर्मी- हमें सरकारी कैलेंडर में जितनी छुट्टी है दे दें और कुछ नहीं चाहिए

गलतफहमी में भीड़ के हाथों निर्दोष लोगों की पिटाई की जा रही है. हाल के दिनों में जितने भी लोगों की भीड़ के द्वारा पिटाई की गयी है, उसमें तो कई मानसिक रूप से विक्षिप्त भी पाये गये हैं. बच्चा चोरी की अफवाह में भीड़ जान से मारने को उतारू हो जा रही है.

पुलिस की लोगों से अपील

पुलिस ने लोगों से अपील की है, कानून को हाथ में लेने का किसी को अधिकार नहीं है. जो भी संलिप्त पाएंगे जाएंगे उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

पुलिस ने आमलोगों से अपील की है कि अगर किसी को किसी पर शक हो तो, फौरन पुलिस को सूचना दें.साथ ही पुलिस अधिकारी ने कहा है कि कानून को हाथ में नहीं लें.

बच्चा चोरी का मामला महज अफवाह है. इसमें कोई सच्चाई नहीं है. लिहाजा अफवाह को बढ़ावा नही दें. इसके बावजूद भी लोग कानून को हाथ में लेने से बाज नहीं आ रहे हैं.

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02

इसे भी पढ़ेंःभूल गयी सरकार : CM ने 2 हजार वनरक्षी के पदों पर नियुक्ति का किया था वादा, एक साल से इंतजार में युवा

पुलिस मुख्यालय ने सभी जिलों को किया है अलर्ट

झारखंड में एकबार फिर बच्चा चोरी की अफवाह पुलिस के लिए सिरदर्द बनने जा रही है. डेढ़ साल बाद प्रदेश में बच्चा चोरी को लेकर मारपीट आदि की घटनाएं जोर पकडऩे लगी है.
हालात यह बन गये हैं कि कहीं भी मॉब लिंचिंग की घटने की आशंका बनी रहती है.

Related Posts

मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस मुख्यालय ने सभी जिलों को अलर्ट किया है, ताकि बच्चा चोरी की अफवाह के चलते कोई हिंसक घटना न हो.

नहीं थम रहा है पिटायी का मामला

18 सितंबर- झारखंड में बच्चा चोरी की अफवाह पर होने वाली हिंसा रुकने का नाम नहीं ले रही है. बच्चा चोरी के शक में भीड़ ने 70 साल के एक बुजुर्ग की पीट-पीटकर हत्या कर दी. ताजा मामला साहिबगंज जिले के मिर्जा चौकी थाना क्षेत्र का है.

18 सितंबर- बुधवार को तीन घंटे के भीतर हिंदपीढ़ी इलाके से एक महिला सहित दो लोगों को बच्चा चोर समझकर पकड़ा गया. दोनों की धुनाई की गई. भीड़ आक्रोशित थी, दोनों मौके पर पुलिस ऐन वक्त पर पहुंच गई. इससे मॉब लिंचिंग की घटना टल गयी.

12 सितंबर- रामगढ़ के कुजू स्थित नया मोड़ में बच्चा चोर की अफवाह में गुरुवार की रात आरा कांटा के पास भीड़ ने सड़क किनारे खड़े हजारीबाग के एक युवक की जमकर पिटाई कर दी. मौके पर पहुंची कुजू पुलिस ने अधमरे युवक को भीड़ से निकालकर इलाज के लिए रामगढ़ सदर अस्पताल भेजा.

12 सितंबर- धनबाद के राजगंज थाना क्षेत्र के चुंगी गांव में बच्चा चोर के संदेह में ग्रामीणों ने एक निर्दोष बुजुर्ग की पिटाई कर दी. पुलिस मौके पर पहुंचे और बुजुर्ग को भीड़ के चंगुल से छुड़ाकर थाना ले गए.

12 सितंबर- गोड्डा के मुफस्सिल थाना क्षेत्र के लुकलुकी गांव में बच्चा चोर कहकर भीड़ ने एक विक्षिप्त की जमकर पिटाई कर दी, जिससे वह गंभीर रूप से जख्मी हो गया. घटनास्थल पर पहुंची पुलिस ने उसे छुड़ाकर अस्पताल में इलाज कराया.

11 सितंबर- गढ़वा सदर थाना क्षेत्र के अचला गांव में 11 सितंबर की देर रात ग्रामीणों ने बच्चा चोर होने के शक में एक वृद्ध महिला को पकड़ लिया. इसकी सूचना ग्रामीणों ने पुलिस को दी.

ग्रामीणों का कहना था कि इस महिला के साथ दो पुरुष भी थे, जो रात के अंधेरा का लाभ उठाकर भाग निकले. उन्हें पकडऩे के लिए ग्रामीणों ने कुछ दूर तक उनका पीछा भी किया लेकिन दोनों भाग निकले.

11 सितंबर- जामताड़ा के कुंडहित थाना क्षेत्र के बाबूपुर गांव में 11 सितंबर शाम दो अनजान युवकों को बाजार में चक्कर लगाते देख स्थानीय लोगों ने उन्हें पकड़ कर बच्चा चोर होने के संदेह में पूछताछ की. इस दौरान उनकी पिटाई भी की गई. मौके पर पहुंची पुलिस ने युवकों को छुड़ाया.

इसे भी पढ़ेंःऐसा झारखंड में ही संभव है- स्वास्थ्य विभाग के एक आरोपी कर्मचारी को एक माह का मानदेय देकर की गयी संविदा समाप्त

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like