न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भाजपा की न्याय पद यात्रा में पारा शिक्षकों ने दिखाये काले झंडे

75

Garhwa :  भाजपा नेताओं ने जैसे ही न्‍याय पद यात्रा का शुभारंभ किया, वैसे ही पारा शिक्षकों ने काले झंडे दिखाए. खरौंधी, भवनाथपुर और केतार प्रखंड के सैकड़ों पारा शिक्षकों ने पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा के प्रखंड अध्यक्ष दीना नाथ मेहता के नेतृत्व में सरकार विरोधी नारे लगाये. पारा शिक्षकों ने सरकार को तानाशाह बताते हुए पारा शिक्षकों को वेतनमान दिलवाने की मांग की. पारा शिक्षकों ने कहा कि अगर सरकार उनकी मांगों को पूरा नहीं करती है तो वे लोग गांव-गांव जाकर लोगों को अवगत करायेंगे. पारा शिक्षकों की मांग को पूर्व विधायक एवं अन्य नेताओं ने समर्थन करते हुए पारा शिक्षकों को वेतनमान दिलवाने हेतु मुख्यमंत्री तक उनकी मांगों को पहुंचाने की बात कही. इसके बाद ही न्‍याय पद यात्रा को जाने दिया. मौके पर आशीष पाठक, धनंजय तिवारी, धनंजय पटेल, दीपक पाल, बिनोद पाल, संतोष ठाकुर, रणजीत सिंह, उदय पाल समेत सैकड़ों पारा शिक्षक उपस्थित थे.

भाजपा कार्यकर्ताओं ने सरकार योजनाओं की दी जानकारी

न्‍याय पद यात्रा को संबोधित करते हुए पूर्व विधायक अनंत प्रताप देव ने कहा कि केंद्र और राज्य की भाजपा सरकार गरीबों के लिए कई कल्याणकारी योजनाओं को शुरू किया. जिससे गरीबों को फायदा हो रहा है. उन्होंने जनधन खाता, प्रधानमंत्री आवास योजना, प्रधानमंत्री उज्ज्वला गैस योजना, प्रधानमंत्री आयुष्मान योजना, लक्ष्मी लाड़ली योजना सभी गरीबों को मुफ्त आनाज सहित कई योजनाओं की जानकारी दी. कहा की अब गरीबों के नाम पर राजनीति करने वालों की दाल नहीं गल रही है. यही कारण है की लोग भाजपा सरकार द्वारा जनहित में चलाई जा रही योजनाओं की जगह जनता के बीच भ्रामक प्रचार कर रहे हैं. ताकि सरकार की छवि को धूमिल किया जा सके.

कार्यक्रम को वरिष्ठ भाजपा नेता शारदा महेश प्रताप देव, भाजपा के जिला अध्‍यक्ष ओमप्रकाश केशरी, न्याय पद यात्रा प्रभारी अलखनाथ पांडेय रघुराज पांडेय, अजय प्रताप देव, मुक्तेश्वर पांडेय, मंडल भाजपा के सुरेश प्रसाद, 20 सूत्री अध्यक्ष त्रिपुरारी सिंह, विनय प्रसाद, कामेश्वर सिंह खरवार, ईश्वरी बैद्य, संजय पटेल, जीतेंद्र राम, जगतपाल जायसवाल, दीनदयाल गुप्ता सहित अन्य लोगों ने संबोधित किया.

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: