न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

काले हीरे का काला कारोबारः अवैध कोयला लदे तीन ट्रक जब्त

जोड़ापोखर पुलिस ने पकड़े तीन ट्रक

58

Dhanbad: धनबाद में काला हीरा माना जाने वाले कोयले का अवैध कारोबार धड़ल्ले से जारी है. वही बुधवार रात जिला प्रशासन की सूचना पर कार्रवाई करते हुए जोड़ापोखर पुलिस ने 12 चक्के वाले तीन ट्रक को जाली कागजात के साथ पकड़ा है. इनपर अवैध कोयला लदा है.

इसे भी पढ़ेंःदेखें वीडियो : कैसे बीजेपी नेता ने की खुलेआम फायरिंग, फेसबुक पर किया अपलोड, फौरन हटाया

बताया जा रहा है कि जिला प्रशासन के उच्च अधिकारी ने बीती रात जोड़ापोखर थाना को निर्देश दिया कि पश्चिम बंगाल से झरिया तीन ट्रकों पर जाली कागजात के साथ अवैध कोयला ले जाया जा रहा है. जोड़ापोखर पुलिस ने आनन-फानन में जांच अभियान चलाया, इस दौरान पेपर नहीं दिखाये जाने के कारण पुलिस ने तीनों ट्रको को पकड़ लिया.

क्या है मामला

झरिया के जोड़ापोखर थाना अंतर्गत जोड़ापोखर पुलिस ने जांच के दौरान अवैध कोयले से लदे तीन ट्रक को पकड़ा. पेपर नहीं रहने के कारण पुलिस पकड़े हुए ट्रक को थाने ले आई. बताया जा रहा है कि बंगाल के दुबड़ा से अवैध कोयला झारखंड में पूरे जोरशोर से खपाया जा रहा हैं. यह काला खेल लम्बे समय से चल रहा है. कुछ महीने पहले ही झरिया के सुदामडीह थाना क्षेत्र में अवैध कोयला लदे कई ट्रकों को स्थानीय पुलिस द्वारा पकड़ा गया था.

इसे भी पढ़ेंःसबसे बड़ी इस्पात निर्माता कंपनी बनेगी टाटा स्टील, 2025 तक बढ़ायेगी…

हालांकि, उन ट्रकों के चालकों द्वारा भी कोयला सम्बंधित कोई कागजात नहीं दिखाया गया था, उसके बावजूद कई दिनों तक चले जांच में कई ट्रकों को सुदामडीह पुलिस ने उच्च अधिकारियों के निर्देश पर क्लीन चिट दे दी. जबकि कुछ वाहन मालिकों पर अवैध कोयला तस्करी का मामला भी दर्ज किया था. कुछ ट्रको को क्लीन चिट देने के बाद पूरे शहर में चर्चा का विषय बना हुआ था.

इसे भी पढ़ेंःभाजपा सांसद रवींद्र पांडेय पहुंचे कांग्रेस नेता रणविजय सिंह के घर,…

वही आपको बता दें कि अवैध कोयले से लदे ट्रकों को पकड़े जाने के बाद से ही काले धंधे से जुड़े सफेदपोश लोग जोड़ापोखर थाना के चक्कर लगा रहे हैं. अब देखने वाली बात ये होगी कि जिला प्रसासन के उच्च अधिकारी अवैध ट्रकों औऱ उनके मालिकों पर क्या कार्रवाई करती है. वही इस मामले में पुलिस ने अभी मीडिया के लोगों को कुछ भी बयान नहीं दिया है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: