न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जवान को पीटने का आरोपी #BJYM अध्यक्ष रांची पुलिस के लिए फरार लेकिन पूर्व CM के साथ आता है नजर

29 मार्च 2019 को ऑन ड्यूटी जवान को पीटने का आरोपी अमित सिंह 12 जनवरी को पूर्व सीएम रघुवर दास के साथ आया था नजर

2,368

Ranchi: जो शख्स सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास के साथ धूम रहा है, वो रांची पुलिस की नजर में फरार है. बात हो रही है बीजेपी युवा मोर्चा के अध्यक्ष अमित सिंह की.

बता दें कि बीजेपी कार्यालय में 29 मार्च 2019 को बीजेपी कार्यालय में ड्यूटी में तैनात सिपाही शिवपूजन यादव की पार्टी के लोगों ने पिटाई की थी. जिसका आरोप भाजयुमो अध्यक्ष अमित कुमार पर है, जो रांची पुलिस की नजर में फरार है.

इसे भी पढ़ेंः #Delhi में तीन महीनों के लिए रासुका: LG ने पुलिस कमीश्नर को दिया किसी को हिरासत में लेने का अधिकार

लेकिन अमित कुमार समय-समय पर पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास के साथ दिखता रहा है,जबकि रांची पुलिस ने उसे फरार बताया है. गौरतलब है कि रांची पुलिस ने भाजयुमो अध्यक्ष अमित कुमार, अभिषेक सिंह और राज सिन्हा के खिलाफ इश्तेहार के लिए कोर्ट में आवेदन दिया है, पुलिस ने तीनों आरोपियों को फरार बताया है.

पूर्व सीएम के साथ घूम रहा अमित कुमार रांची पुलिस के लिए फरार

सिपाही के साथ मारपीट करने का आरोपी भाजयुमो अध्यक्ष अमित कुमार को रांची पुलिस ने फरार बताया है, जबकि वह पूर्व मुख्यमंत्री के साथ घूम रहा है. बता दें कि बीते 12 जनवरी को स्वामी विवेकानंद की जयंती के अवसर पर झारखंड सरकार के पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास विशेष रुप से उपस्थित थे.

Whmart 3/3 – 2/4
रघुवर दास के सीएम रहते कई मौके पर उनके साथ मंच साझा करते दिखे अमित सिंह (फाइल फोटो)

मेकॉन स्थित स्वामी विवेकानंद की मूर्ति पर पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि दी थी. इस दौरान रघुवर दास के साथ अमित कुमार भी मौजूद थे. इसके अलावा पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास के कई बार मंच साझा कर चुके हैं अमित कुमार और बीजेपी ऑफिस में भी रघुवर दास के साथ नजर आए थे.

इसे भी पढ़ेंःगढ़वा: अपराधियों ने फूल कारोबारी पर किया हमला, फायरिंग में बाल-बाल बचा

घटना के बाद अबतक आरोपियों को गिरफ्तार नहीं कर पायी रांची पुलिस

बता दें कि बीजेपी कार्यालय में ड्यूटी पर तैनात शिवपूजन यादव के साथ मारपीट करने वाले भाजयुमो के अध्यक्ष अमित कुमार सहित उनके तीन आरोपियों को पुलिस ने घटना के बाद अब तक गिरफ्तार नहीं कर सकी है. अब पुलिस कोर्ट के आदेश का इंतजार कर रही है. बताया जा रहा है कि पुलिस तीनों आरोपियों के घर में इश्तेहार चिपकाने के बाद कुर्की की कार्रवाई का प्रयास करेगी.

क्या है मामला

29 मार्च 2019 को बीजेपी कार्यालय में तैनात सिपाही शिवपूजन यादव की पिटाई पार्टी के युवा मोर्चा के नेताओं ने की थी. घटना को लेकर शिवपूजन यादव ने अरगोड़ा थाना में लिखित शिकायत दर्ज करायी थी.

भाजयुमो अध्यक्ष और दूसरे कार्यकर्ताओं की पिटाई से घायल जवान की इलाज के दौरान ली गयी तस्वीर

पुलिस ने मामला दर्ज करते हुए अमित सिंह और उनके साथियों पर आइपीसी की धारा 147, 149, 341, 323, 332, 353 और 504 लगायी थी. बता दें कि धारा 353 सरकारी काम में बाधा डालने वाले आरोपी पर लगाया जाता है. यह धारा गौरजमानतीय सेक्शन में आता है.

बता दें कि इससे पहले सीसीटीवी फुटेज की जांच की गयी थी. उसमें पिटाई करनेवाले कार्यकर्ताओं का नेतृत्व मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष अमित सिंह कर रहे थे. सिपाही के मुताबिक, 29 मार्च को उसकी ड्यूटी पार्टी कार्यालय में 12 बजे से लेकर तीन बजे तक दो नंबर गेट पर थी.

युवा मोर्चा के नेता जब गेट के पास पहुंचे, तब सिपाही ने उन्हें कार्यालय प्रभारी के आदेश से अवगत कराया. इसके बाद उक्त नेता आक्रोशित होकर सिपाही के साथ गाली-गलौज करने लगे. फिर मारपीट शुरू कर दी. सिपाही किसी तरह जान बचाकर गार्ड रूम की ओर भागा. लेकिन भाजयुमो नेता नहीं माने, सिपाही को पटककर लात-घूंसों से मारने लगे.

बता दें कि इस मामले में हटिया के तत्कालीन डीएसपी प्रभात रंजन बरवार ने मामले का सुपरविजन करने के बाद केस को टू किया था. डीएसपी ने केस के अनुसंधानकर्ता को तीनों आरोपियों को गिरफ्तार करने का आदेश दिया था.

इसे भी पढ़ेंःइतिहासकार रामचंद्र गुहा ने केरलवासियों से पूछा- आपने राहुल गांधी को क्यों जिताया, ये विनाशकारी है

न्यूज विंग की अपील


देश में कोरोना वायरस का संकट गहराता जा रहा है. ऐसे में जरूरी है कि तमाम नागरिक संयम से काम लें. इस महामारी को हराने के लिए जरूरी है कि सभी नागरिक उन निर्देशों का अवश्य पालन करें जो सरकार और प्रशासन के द्वारा दिये जा रहे हैं. इसमें सबसे अहम खुद को सुरक्षित रखना है. न्यूज विंग की आपसे अपील है कि आप घर पर रहें. इससे आप तो सुरक्षित रहेंगे ही दूसरे भी सुरक्षित रहेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like