न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता के बयान से आरयू में छात्र राजनीति गरमायी

130
  • आजसू, एनएसयूआई और जेसीएम ने किया बयान का विरोध
mi banner add

Ranchi : भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने बुधवार को रांची विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव को लेकर बायान दिया था कि जेएमएम के हेमंत सोरेन और कांग्रेस के डॉ अजय कुमार झारखंड की सत्ता पर काबिज होने के ख्वाब देख रहे थे और रांची विश्वविद्यालय छात्रसंघ के चुनाव में युवाओं ने इन्हें इनकी राजनीतिक औकात बता दी. प्रतुल शाहदेव के इस बायान के बाद आरयू में छात्र राजनीति गरमा गयी. भाजपा के इस बायान का आजसू, एनएसयूआई, एसीएस और जेसीएम आदि छात्र संगठनों ने विरोध किया है. एनएसयूआई के अभिनव भगत ने कहा कि भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता द्वारा छात्रसंघ चुनाव पर दूसरे छात्र संगठनों व राजनीतिक दलों पर बयानबाजी की जा रही है, उससे यह प्रतीत हो रहा है कि सरकार किस तरह रांची विश्वविद्यालय में अभाविप की सरकार बनाने को उत्सुक है. छात्रों के चुनाव में राजनीतिक दलों का परदे के पीछे से किया जा रहा हस्तक्षेप पूर्णत: अनुचित है. एनएसयूआई भाजपा द्वारा छात्र राजनीति में दखलअंदाजी करने के इस प्रयास की कड़ी निंदा करती है.

छात्रसंघ चुनाव पर विश्व की सबसे बड़ी पार्टी का बयान समझ से परे : आजसू

आजसू के छात्र नेता गौतम सिंह ने कहा कि विश्व की सबसे बड़ी पार्टी का आरयू के छात्रसंघ चुनाव पर बयान समझ से परे है. प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव के बयान से यह स्पष्ट होता है कि छात्रसंघ चुनाव में बीजेपी ने पूरी तरह से सक्रिय भागीदारी निभायी है. सिंह ने कहा कि प्रतुल जी कि राजनीतिक दल के पहले नेता हैं, जिन्होंने छात्र संघ चुनाव के मामले पर प्रतिक्रिया दी है. आजसू प्रतुल जी से अनुरोध करती है छात्रसंघ चुनाव के मामले पर हस्तक्षेप कर और प्रतिक्रिया देकर अपनी और विश्व की सबसे बड़े राजनीतिक दल की प्रतिष्ठा धूमिल करने का प्रयास न करें. लोकतंत्र की पौध छात्र राजनीति है. इस पौध को नुकसान पहुंचाने का प्रयास कदापि नहीं होना चाहिए.

भाजपा की राजनीति में छात्रसंघ चुनाव है, तो प्रतुल जी को अगली बार कैंपस से बीजेपी लड़वा दे छात्रसंघ चुनाव : जेसीएम

जेसीएम के तालकेश्वर महतो ने कहा कि भाजपा छात्रसंघ चुनाव पर बायान जारी करती है, इसका मतलब साफ है कि अभाविप को जिताने में बीजेपी के नेताओं का महत्वपूर्ण हाथ रहा है. बीजेपी के नेताओं के इशारे पर कुलपति ने कार्य किया और अभाविप को जीत दिलायी. प्रतुल जी का बयान समझ से परे है. छात्रसंघ चुनाव को लेकर बीजेपी इतनी गंभीर है, तो अगली बार छात्रसंघ चुनाव में प्रतुल जी चुनाव लड़ सकते हैं.

इसे भी पढ़ें- एसटी महिला ने गैर एसटी पुरुष से शादी की, तो वह नहीं खरीद सकेगी आदिवासी जमीन

इसे भी पढ़ें- विधायक ढुल्लू से संबंधित सवालों से घिरे भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: