JharkhandRanchi

इरफान के बयान पर बीजेपी का पलटवार, कहा- शेरों की आवाज मेमनों को समझ में नहीं आयेगी

Ranchi: बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने इरफान अंसारी पर मानसिक दिवालियापन का आरोप लगाया है. प्रतुल ने कहा कि इरफान सुर्खियां बटोरने के लिए कुछ भी बोल रहे हैं.

इस बार उन्होंने विधायकों की तुलना कुत्तों से करके संसदीय परंपराओं को रसातल में ले जाने का काम किया है. प्रतुल ने कहा ऐसा बयान इरफान अंसारी की राजनीतिक परवरिश को दिखाता है. बीजेपी के विधायक सरकार और स्पीकर की सभी गलत कार्यों का विरोध शेरों की तरह करेंगे. लेकिन इरफान अंसारी ने कांग्रेस में सिर्फ मेमनों का मिमयाना सुना है. इसलिए उन्हें शेर की दहाड़ समझ में नहीं आती.

प्रतुल ने कहा कि इस निम्न स्तरीय बयान के लिए स्पीकर को अविलम्ब इरफान अंसारी की सदस्यता को रद्द करना चाहिए. ऐसा बयान सभी विधायकों का अपमान है. ऐसे भी इरफान अंसारी के पास आत्मसम्मान नाम की चीज है ही नहीं. प्रदीप यादव के कांग्रेस में शामिल होने के बाद भी वो अभी तक प्रदेश कांगेस के कार्यकारी अध्यक्ष पद पर बने हुए है.

देखें क्या कहा इरफान ने

दरअसल विधानसभा में बीजेपी विधायकों के हंगामें को लेकर इरफान ने कहा कि ये सभी असंवैधानिक हैं और लगता नहीं है कि ये सदन में आये हैं. इससे आगे कहा कि ये लोग कल्चर भूल गये हैं और सदन में कुत्तों की तरह भौंक रहे हैं. स्पीकर महोदय से मैंने आग्रह किया है कि इसपर संज्ञान लें. और जो लोग सदन में भौंक रहे हैं . उनपर कार्रवाई करें. इसके बाद से ही बीजेपी के पदाधिकारी इरफान पर बयान जारी कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – #Coronavirus: बढ़ी टेंशन, इटली से छुट्टी मना कर लौटे गुरुग्राम के पेटीएम कर्मचारी को कोरोना

माफी मांगें इरफान

कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष  इरफान अंसारी  के बिगड़े बोल पर  घोर आपत्ति  जताते हुए कहा प्रदेश प्रवक्ता दीनदयाल बर्णवाल ने कहा है कि इरफान के साथ कांग्रेस सार्वजनिक रूप से माफी मांगें. कहा कि इरफ़ान अंसारी का विधायकी  तुरंत खत्म होनी चाहिए, ऐसे विधायक जिनका अपने जुबान पर लगाम ना हो लोकतंत्र में विधायक रहने की  पात्रता खो देते  हैं.

श्री बर्णवाल ने कहा विधानसभा अध्यक्ष से हम मांग करते हैं कि कल कोई और सत्ता पक्ष के विधायक  असंसदीय भाषा का इस्तेमाल न कर पाए. इरफान अंसारी पर तत्काल करवाई करनी चाहिए. बर्णवाल ने कहा कि  पिछले विधानसभा में इन्हीं सब विधायकों ने विधानसभा में जूता फेंकने, माइक फेकने का काम किया  था.  आज किस मुंह से भाजपा विधायकों को नसीहत दे रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – लंबे आंदोलन और संघर्षों के बलबूते हासिल हुआ झारखंड, इसे सुरक्षित रखना हर एक की जिम्मेवारीः शिबू सोरेन

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close