न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दुमका में खाली कुर्सियों से शुरू हुआ बीजेपी का चुनावी अभियान

2,545

Dumka:  लोकसभा चुनाव में प्रत्याशियों के नाम की घोषणा के साथ ही बीजेपी के चुनावी अभियान का दौर चालू हो गया है. सातवें चरण में दुमका में होने वाले चुनाव को लेकर यज्ञ मैदान दुमका में चुनावी सभा का आयोजन किया गया था.

mi banner add

यहां के भाजपा के कई दिग्गज मौजूद थे. झारखंड के मंत्री राज पलिवार, पूर्व विधायक जरमुंडी- देवेंद्र कुमार, पूर्व मंत्री बाटुल झा, दुमका लोस क्षेत्र के प्रभारी सत्येंद्र सिंह सहित कई दिग्गज मौजूद थे.

आयोजन स्थल पर सारे इंतजाम थे. पर,  जनता और भीड़ नदारद थी. साफ है खाली कुर्सियों के साथ झामुमो सुप्रीमो शिबू सोरेन के गढ़ में भाजपा की सेंधमारी का ये अभियान खाली कुर्सियों के साथ शुरू हुआ है.

इसे भी पढ़ेंःजगरनाथ महतो के केस की सुनवाई तीन अप्रैल को, नामांकन 16 अप्रैल से, अभी तक उम्मीदवार की घोषणा नहीं

नहीं पहुंचे प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुआ

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुआ को भी यज्ञ मैदान दुमका में होने वाले कार्यक्रम में भाग लेने पहुंचना था. पर न तो जनता पहुंची और न ही राज्य की सबसे बड़ी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष. कार्यक्रम स्थल में दिग्गज तो थे पर उनको सुनने के लिए जनता नहीं पहुंची थी.

सभा स्थल में मौजूद आधे से अधिक कुर्सियां खाली पड़ी रहीं. लोगों का कहना था कि भीड़ नहीं होने का अनुमान शायद पहले ही लक्ष्मण गिलुआ को हो गया था इसलिए वो नहीं पहुंचे.

Related Posts

पलामू : डायरिया से बच्चे की मौत, माता-पिता व भाई गंभीर, गांव में दर्जन भर लोग पीड़ित

स्वास्थ्य विभाग के डायरिया नियंत्रण की खुली पोल, आनन-फानन में कुछ लोगों को एंबुलेंस से भेजा अस्पताल

इसे भी पढ़ेंः झारखंड अर्बन प्लानिंग और डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट में दो वर्षों तक होगा रांची स्मार्ट सिटी का काम

महागठबंधन के उम्मीदवार शिबू सारेन का माना जाता है गढ़

भाजपा के प्रत्याशी सुनील सोरेन को पहले भी झामुमो सुप्रीमो शिबू सोरेन दुमका सीट से परास्त कर चुके हैं. 2009 और 2014 चुनाव में भी भाजपा के सुनील सोरेन ने इस सीट से चुनाव लड़ा है पर दोनों ही बार वे हार चुके हैं.

दुमका लोकसभा सीट अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित है. दुमका लोकसभा क्षेत्र आर्थिक रूप से पिछड़ा हुआ है और नक्सली प्रभावित भी है. इस लोकसभा सीट के अन्तर्गत जामताड़ा, देवघर और दुमका जिले की 6 विधानसभा सीट आती है.

1989 से ही यह सीट झारखंड मुक्ति मोर्चा का गढ़ रही है और इस सीट से सात बार से शिबू सोरेन सांसद बनते आ रहे हैं. 2014 में प्रचंड मोदी लहर के बावजूद शिबू सोरेन अपनी सीट बचाने में कामयाब हुए थे.

इसे भी पढ़ेंः आयोजक ही नहीं बता पाये झारखंड में औसतन कितने बाल विवाह होते हैं प्रति वर्ष

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: