BiharLead News

बिहार में मंदिर खोलने को लेकर बीजेपी ने सीएम नीतीश कुमार को लिखा पत्र

Desk: बिहार में जैसे-जैसे कोरोना संक्रमण की रफ़्तार कम होती गई सरकार ने लोगों को छूट भी देना शुरू कर दिया. सरकार ने अनलॉक की प्रक्रिया शुरू करते हुए बाजार, ट्रांसपोर्ट, पार्क, शादी विवाह जैसी पब्लिक गेदरिंग वाली गतिविधियों में छूट दी, लेकिन धार्मिक स्थलों में आज भी ताले लटक रहे हैं. पूजा पाठ करने वाले पंडित और श्रद्धालु हैं अब वो भी सरकार के आदेश का इंतजार कर रहे हैं कि कब धार्मिक स्थलों से पाबंदियां हटेंगी ? अब बीजेपी के तरफ से मंदिरों को खोलने की मांग उठने लगी है. यहां तक की बीजेपी के नेता ने इसे लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र भी लिखा है.

इसे भी पढ़ें : केंद्रीय कर्मचारियों को बड़ी राहतः सरकार ने डीए 17 से बढ़ा कर 28 फीसदी किया!

बीजेपी सांसद विवेक ठाकुर ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र लिखकर कहा है कि कोरोना के मामले काफी घट गए हैं. क्योंकि श्रावण मास नजदीक है, ऐसे में अब आम लोगों की मांग है कि मंदिरों पर लगा प्रतिबंध भी हटे. लोगों को कोविड नियमों के पालन के साथ मंदिरों में दर्शन की इजाजत दी जाय. वहीं बीजेपी प्रवक्ता मनोज शर्मा ने भी सरकार से मांग करते हुए कहा है कि ये लोगों के आस्था का सवाल है. कोविड नियमों के पालन के साथ मंदिरों को खोल देना चाहिए. बिहार के लोग जागरुक हैं. स्वविवेक पर उन्हें मंदिरों में दर्शन की इजाजत मिले.

ram janam hospital
Catalyst IAS

इसे भी पढ़ें : रांची के हिनू चौक पर जमीन कारोबारी को गोलियों से भून डाला

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

बीजेपी का कहना है कि जल्द सावन का महीना शुरू होने वाला है. तो ऐसे में लोगों की आस्था को देखते हुए कोविड नियमों के साथ मंदिरों के दरवाजे खोल देने चाहिए. लेकिन उन्हीं के सहयोगी जेडीयू को ऐसा नहीं लगता और उनके नेता बीजेपी की इस मांग पर कोरोना के तीसरे लहर की आशंकाओं का हवाला दे रहे है. जेडीयू के मुख्य प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा है की सभी बड़े मंदिर कोविड के कारण बंद है और मंदिर खुले या नहीं मंत्रीपरिषद उसपर सामूहिक निर्णय लेगा.

तो कुल मिला के देखा जाए तो बीजेपी का कहना है कि सावन का महीना जल्द ही शुरू होने वाला है. ऐसे में लोगों की आस्था को देखते हुए कोविड नियमों के साथ मंदिरों के दरवाजे खोल देने चाहिए. लेकिन उन्हीं के सहयोगी जेडीयू को ऐसा नहीं लगता और उनके नेता बीजेपी की इस मांग पर कोरोना के तीसरे लहर की आशंकाओं का हवाला दे रहे है. जेडीयू के मुख्य प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा है की सभी बड़े मंदिर कोविड के कारण बंद हैं और मंदिर खुले या नहीं मंत्रीपरिषद उसपर सामूहिक निर्णय लेगा.

इसे भी पढ़ें : रोहतास में ट्रिपल मर्डर से सनसनी, भूमि विवाद में पिता और दो बेटों की धारदार हथियार से हत्या

Related Articles

Back to top button