JharkhandRanchi

हेमंत सोरेन के एक लीगल नोटिस के बदले 10 लीगल नोटिस भेजेगी भाजपा : प्रतुल शाहदेव

Ranchi : भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने पूर्व सीएम हेमंत सोरेन के द्वारा मुख्यमंत्री रघुवर दास को लीगल नोटिस भेजे जाने की बात को हास्यास्पद बताया. प्रतुल ने कहा कि निराशा और कुंठा में घिरे हेमंत सोरेन अब सब हथकंडे अपना रहे हैं. कहा कि हेमंत सोरेन को स्पष्ट करना चाहिए कि उनके द्वारा अर्जित की गयी प्रॉपर्टी 500 करोड़ की नहीं है. तो क्या यह उससे ज्यादा की है, या कम की है?

सार्वजनिक जीवन में होने के कारण हेमंत सोरेन को राज्य की जनता को अपनी प्रॉपर्टी के वास्तविक मार्केट मूल्य के बारे में बताना चाहिए. हेमंत सोरेन ने पिछले 5 वर्षों के दौरान भ्रष्टाचार के बेबुनियाद आरोप लगाकर सरकार की छवि को धूमिल करने का प्रयास किया है .भारतीय जनता पार्टी इन मामलों में हेमंत सोरेन को लीगल नोटिस भेजेगी और हेमंत सोरेन एक लीगल नोटिस दे रहे हैं तो उसके जवाब में भाजपा 10 लीगल नोटिस देगी.

इसे भी पढ़ें : हेमंत ने सीएम को भेजा लीगल नोटिस, कहा – “सार्वजनिक तौर पर माफी मांगे सीएम“

सोरेन परिवार ने पांच सितारा सुविधाओं वाला सोहराई भवन बनाया

प्रतुल शाहदेव ने कहा कि पूरी दुनिया जानती है कि सोरेन परिवार के द्वारा पूरे राज्य में जम कर जमीन की रजिस्ट्री की गयी है और पांच सितारा सुविधाओं वाला सोहराई भवन भी बनाया गया है. इनमें से अधिकांश संपत्ति सीएनटी एसपीटी कानून की धज्जियां उड़ा कर ली गयी है.प्रतुल ने कहा कि हेमंत सोरेन के द्वारा भाजपा सरकार पर लगातार निराधार भ्रष्टाचार के आरोप लगाये गये हैं .रघुवर सरकार के दामन पर कोई दाग नहीं है.

लेकिन हेमंत सोरेन ने पिछले 5 वर्षों के दौरान भ्रष्टाचार के बेबुनियाद आरोप लगाकर सरकार की छवि को धूमिल करने का प्रयास किया है. दरअसल राज्य की जनता के द्वारा रिजेक्ट कर दिये जाने के बाद हेमंत सोरेन इतने हैरान और परेशान हैं. वह अब अपनी छवि को सुधारने के लिए कुछ भी करने को तैयार है.

इसे भी पढ़ें : रांची विवि में परीक्षण कार्यों से डिबार हो चुके प्रोफेसर जांच रहे हैं #JPSC की कॉपी

सीएनटी-एसपीटी जमीन घोटालों का इनका लंबा इतिहास है

राज्य की जनता सोरेन परिवार की कारस्तानी से अच्छे से वाकिफ है. सांसद रिश्वत कांड से लेकर सीएनटी-एसपीटी जमीन घोटालों का इनका लंबा इतिहास रहा है और जनता सब समझती है.चिदंबरम भी अपने आप को निर्दोष बताते थे, लेकिन उनका क्या हश्र हुआ वो किसी से नहीं छिपा है. असल मे सीएनटी, एसपीटी से जुड़े मामलों में हेमंत सोरेन पर कानून का शिकंजा कस रहा है और वह यह सब ड्रामेबाजी करके जनता का ध्यान भटकाना चाहते हैं.

Related Articles

Back to top button