Khas-KhabarNational

#BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव आज, अमित शाह की जगह ले सकते हैं जेपी नड्डा

New Delhi: भारतीय जनता पार्टी के लिए सोमवार का दिन बेहद अहम है. सोमवार को पार्टी को अमित शाह के स्थान पर नया राष्ट्रीय अध्यक्ष मिल सकता है. पिछले 6 साल से केंद्र की सत्ता में विराजमान बीजेपी को नया पार्टी अध्यक्ष मिलेगा.

SIP abacus

इसे भी पढ़ेंःभाजपा का तंज, 22 दिन के शासनकाल में मुख्यमंत्री को दिल्ली दरबार में पांच बार लगानी पड़ी है हाजिरी

Sanjeevani
MDLM

सोमवार को होने वाले राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव में जेपी नड्डा का चुना जाना पक्का माना जा रहा है. राज्यों से भाजपा के नेताओं सहित पार्टी के शीर्ष नेताओं के नड्डा के समर्थन में नामांकन पत्र दाखिल करने के लिए भाजपा मुख्यालय पहुंचने की उम्मीद है. नड्डा भाजपा के अध्यक्ष पद के लिए लंबे समय से प्रधानमंत्री मोदी और शाह की पसंद के तौर पर देखे जा रहे हैं.

नड्डा के नाम पर लगेगी मुहर

भाजपा के वरिष्ठ नेता राधामोहन सिंह पार्टी के संगठन चुनाव प्रक्रिया के प्रभारी हैं. उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव के लिए नामांकन पत्र 20 जनवरी को दाखिल किये जाएंगे और जरूरी होने पर अगले दिन चुनाव होगा.

नामांकन के दौरान बीजेपी मुख्यालय में पार्टी के कई दिग्गज मौजूद रहेंगे. केंद्रीय मंत्री, राज्य के मुख्यमंत्री, बड़े नेता इस दौरान बीजेपी मुख्यालय में मौजूद रहेंगे. सोमवार को नामांकन होना है और अगर कोई दूसरा उम्मीदवार नहीं होता है तो देर शाम तक अध्यक्ष पद का ऐलान कर दिया जाएगा.

भाजपा में अध्यक्ष आम सहमति से और बिना किसी मुकाबले के चुने जाने की परंपरा रही है और इसकी कम ही संभावना है कि इस बार भी उस परंपरा से कुछ अलग हटकर होगा.

इसे भी पढ़ेंःदेश में कोयले की कमी दूर करने की कवायद, सरकार कर रही 100 #Coal_Blocks नीलाम करने की तैयारी

खत्म हुआ अमित शाह का कार्यकाल

2014 के लोकसभा चुनाव में विराट जीत के बाद पार्टी की कमान संभालने वाले अमित शाह की अगुवाई में बीजेपी ने कई ऊंचाईयों को चुना.
नये अध्यक्ष के चुनाव के साथ ही पार्टी के वर्तमान अध्यक्ष अमित शाह का साढ़े पांच वर्ष से अधिक का कार्यकाल भी समाप्त हो जाएगा.

इस दौरान भाजपा ने देशभर में अपने आधार का विस्तार किया. बीजेपी के चाणक्य कहे जाने वाले शाह का कार्यकाल पार्टी के लिये चुनावों के लिहाज से सर्वश्रेष्ठ काल था, हालांकि पार्टी को कुछ राज्य विधानसभा चुनावों में झटके भी लगे.

शाह ने रविवार शाम में कई केंद्रीय मंत्रियों और भाजपा शासित राज्य के मुख्यमंत्रियों सहित पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ एक बैठक की.

हालांकि, इस बारे में कोई आधिकारिक जानकारी नहीं दी गई कि बैठक में क्या चर्चा हुई, सूत्रों ने कहा कि पार्टी नेताओं ने चुनावी कवायद के बारे में विस्तार से चर्चा की.

मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में शाह के गृहमंत्री बनने के बाद भाजपा ने उनका उत्तराधिकारी चुनने की कवायद शुरू कर दी थी क्योंकि पार्टी में ‘एक व्यक्ति, एक पद’ की परंपरा रही है.

छात्र राजनीति से नड्डा ने की थी शुरूआत

गौरतलब है कि जेपी नड्डा को पिछले वर्ष जुलाई में कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त किया गया था. यह इस बात का संकेत था कि हिमाचल प्रदेश से भाजपा के नेता संगठन के शीर्ष पद के लिए संभावित पसंद हैं.
नड्डा ने राजनीति में शुरूआत छात्र राजनीति से की थी. संगठन में उनका दशकों पुराना अनुभव, आरएसएस से उनकी नजदीकी और स्वच्छ छवि उनकी ताकत है.

नड्डा 2019 के लोकसभा चुनाव में राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण राज्य उत्तर प्रदेश में भाजपा के चुनाव अभियान के प्रभारी थे, जहां पार्टी को सपा और बसपा के महागठबंधन से कड़ी चुनौती थी.

भाजपा ने उत्तर प्रदेश में 80 लोकसभा सीटों में से 62 पर जीत दर्ज की. आम चुनावों में भाजपा के लिए महत्वपूर्ण राज्य संभालने के अलावा नड्डा मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में मंत्री भी थे. वह संसदीय बोर्ड के एक सदस्य रहे हैं जो कि पार्टी का निर्णय लेने वाला शीर्ष निकाय है.

इसे भी पढ़ेंःझारखंड में कितनी सुरक्षित हैं महिलाएं, हर तीसरे दिन हो रहा रेप और आपसी विवाद में हत्या  

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button