West Bengal

प. बंगाल : मेदिनीपुर सांसद दिलीप घोष व TMC छोड़ BJP में आये MLA विश्वजीत दास पर हमला

Kolkata : भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष पर कोलकाता में हमला हुआ है. यह घटना शुक्रवार सुबह लेक टाउन की है. इसके कुछ ही घंटे के अदर उत्तर 24 परगना जिले के बनगांव के विधायक विश्वजीत दास पर भी हमला हुआ. दास दो महीने पहले तृणमूल छोड़ भाजपा में शामिल हुए हैं.

सांसद घोष पर हमले के दौरान पार्टी के दो कार्यकर्ता घायल हुए हैं,  जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है. हमले के बाद आक्रोशित भाजपा कार्यकर्ताओं ने सड़क पर जाम लगाकर हमलावरों की गिरफ्तारी की मांग की.

इसे भी पढ़ें : सीबीआई  के रडार पर  रेलवे, परिवहन, बैंक, बीएसएनएल, 150 जगहों पर तलाशी

चाय पर चर्चा के दौरान सांसद पर हमला

पार्टी की ओर से बताया गया कि घोष सुबह मॉर्निंग वॉक और चाय पर चर्चा के लिए गये थे. उनके साथ पार्टी के कार्यकर्ता और नेता उपस्थित थे. एक जगह बैठकर वो लोगों से बातचीत कर रहे थे तभी स्थानीय पार्षद के नेतृत्व में 250 की संख्या में सत्तारूढ़ पार्टी तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) कार्यकर्ता आये और उनपर हमला कर दिया. हालांकि दिलीप घोष को चोट नहीं आयी है लेकिन उन्हें बचाने की कोशिश में भाजपा के दो कार्यकर्ता गंभीर रूप से घायल हो गये. उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष मेदिनीपुर से सांसद भी हैं. उन्हें केंद्रीय सुरक्षा मिली हुई है, जिसकी वजह से हमलावर उन तक आसानी से नहीं पहुंच पाये.  वैसे हमलावरों ने ईंट-पत्थर, लाठी-डंडे आदि फेंककर उन्हें घायल करने की कोशिश जरूर की है.

सड़क जाम कर विरोध प्रदर्शन

घटना के बाद बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता भी मौके पर एकत्रित हो गये और सड़क जाम कर विरोध प्रदर्शन किया. हमलावरों की जल्द गिरफ्तारी की मांग की गयी है. ऐसा नहीं होने पर भाजपा ने चक्का जाम की चेतावनी दी है. वैसे पुलिस ने इस मामले में अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं की है.

उल्लेखनीय है कि प्रदेश भाजपा अध्यक्ष पर इसके पहले भी कई बार हमले होते रहे हैं. हुगली, बीरभूमि, बांकुड़ा में भी उनपर इसी तरह से हमले हुए थे. अभी कुछ दिनों पहले उनके साल्टलेक स्थित आवास पर भी पथराव किया गया था. इन मामलों में पुलिस शायद ही किसी की गिरफ्तारी करती है.

इसे भी पढ़ें : 42 हजार की एवज में दो लाख चुकाया, फिर भी सूदखोर दे रहा है जान मारने की धमकी

तृणमूल छोड़ भाजपा का दामन थामने वाले विधायक पर जानलेवा हमला

विश्वजीत दास पर जानलेवा हमला तब हुआ जब वे अपने घर से विधानसभा जाने के लिए निकले थे. गोपालनगर के घोषपाड़ा मोड़ पर कुछ लोगों ने मिलकर उनकी गाड़ी का रास्ता रोक दिया. भीड़ में से एक व्यक्ति ने गालियां देनी शुरू की. उसने कहा कि विश्वजीत तृणमूल छोड़कर भाजपा में क्यों गये? उसके बाद उनकी गाड़ी के शीशे तोड़ दिये और बंदूक से उनपर हमला करने की कोशिश की गयी. घटना में उनके पीठ और सिर पर चोटें आयी है. उन्हें घायल अवस्था में बनगांव महकमा अस्पताल में भर्ती किया गया है.

सूचना मिलने के बाद पुलिस की टीम भी मौके पर पहुंची। विधायक ने हमला करने वालों के खिलाफ थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी है. उन्होंने बताया कि वे तृणमूल छोड़कर भाजपा  में शामिल हुए हैं इसीलिए योजनाबद्ध तरीके से उन पर हमले किए गये हैं. उन्होंने कहा कि जब विधायकों की सुरक्षा को लेकर इस तरह से लापरवाही बरती जा रही है तो राज्य में आम लोग किस तरह से असुरक्षित हैं, इसका अंदाजा लगाया जा सकता है. स्थानीय प्रशासन का कहना है कि हमलावरों की शिनाख्त करने की कोशिश की जा रही है। स्थानीय लोगों से भी पूछताछ जारी है.

राजनीतिक रंजिश की आग

दरअसल 2019 के लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने राज्य में 42 में से 18 सीटों पर कब्जा जमा लिया है. उसके बाद 2021 में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा जी जान से कोशिश कर रही है. इसके लिए संगठन की ओर से राज्यव्यापी “चाय पर चर्चा” कार्यक्रम का आयोजन किया गया है, जिसमें प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विभिन्न क्षेत्रों में जाकर लोगों से चाय पीते हुए बात करेंगे.

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राज्य में अपनी सत्ता बचाए रखने के लिए राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर को नियुक्त किया है, जिन्होंने दो टूक शब्दों में कहा है कि प्रदेश में विपक्षी कार्यकर्ताओं और नेताओं पर हमले हर हाल में बंद होने चाहिए क्योंकि इसका गलत संदेश लोगों के बीच जाता है. किशोर की सलाह के मुताबिक मुख्यमंत्री ने भी यही निर्देश दिया था लेकिन तृणमूल समर्थक एवं नेता अपनी पार्टी सुप्रीमो की भी नहीं सुन रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : हाल-ए-आरयूः दो कमरों में पढ़ने को मजबूर हैं कॉमर्स के लगभग एक हजार छात्र

दिलीप घोष पर हमले के खिलाफ कोलकाता में भाजयुमो का प्रदर्शन, 30 गिरफ्तार

दिलीप घोष पर हमले के खिलाफ पार्टी के युवा मोर्चा ने जोरदार प्रदर्शन किया है. शुक्रवार दोपहर बाद प्रदेश भाजपा मुख्यालय के पास सड़क जाम कर विरोध प्रदर्शन की शुरूआत की गयी. प्रदर्शनकारियों पर नियंत्रण के लिये पहले से ही अतिरिक्त संख्या में पुलिसकर्मियों की तैनाती की गयी थी.

पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को बलपूर्वक गिरफ्तार करना शुरू कर दिया. भाजपा की ओर से बताया गया है कि पार्टी के राज्य महासचिव राजू बनर्जी और सांस्कृतिक सेल के संयोजक सुमन बनर्जी समेत 30 लोगों को हिरासत में लिया गया है. इसमें कुछ महिलाएं भी शामिल हैं.

 

Related Articles

Back to top button