न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#BJP MP अनंत हेगड़े का दावाः केंद्र के 40 हजार करोड़ लौटाने के लिए फडणवीस बने 80 घंटों के लिए CM

फडणवीस ने बयान को सिरे से नकारा, शिवसेना बोली- ये महाराष्ट्र के साथ गद्दारी

1,417

New Delhi: महाराष्ट्र में रातों-रात सियासत में बड़ा फेर बदल कर देवेंद्र फडणवीस के सीएम बनने के मामले को लेकर शिवसेना अब भी हमलावर है. वहीं इस पूरे प्रकरण को लेकर भाजपा सांसद अनंत हेगड़े ने बड़ा खुलासा किया है.

पूर्व केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने दावा किया है कि महाराष्ट्र में बीजेपी ने फडणवीस को 40 हजार करोड़ का फंड बचाने के लिए मुख्यमंत्री बनाकर ड्रामा किया.

40 हजार करोड़ केंद्र को लौटाने के लिए रचा नाटक

बीजेपी सांसद अनंत हेगड़े ने दावा किया कि सीएम देवेंद्र फडणवीस के नियंत्रण में 40 हजार करोड़ रुपए थे और अगर महाराष्ट्र में पहले ही शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस गठबंधन वाली सरकार बन जाती तो इस रकम का दुरुपयोग हो सकता था.

इसे भी पढ़ेंःमोबाइल फोन यूजर्स को बड़ा झटकाः Jio, वोडा-आइडिया,एयरटेल ने महंगे किये कॉल रेट और इंटरनेट सेवाएं

Sport House

इसलिए देवेंद्र फडणवीस को दोबारा सीएम बनाया गया, ताकि 40 हजार करोड़ रुपए वापस केन्द्र सरकार के पास आ सकें.

भाजपा सांसद रविवार को उत्तर कन्नड़ इलाके में एक जनसभा को संबोधित करते हुए बोल रहे थे. जहां उन्होंने उक्त बातों का खुलासा किया. अपने संबोधन में पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि आप सभी जानते हैं कि महाराष्ट्र में हमारा नेता(फडणवीस) सिर्फ 80 घंटे के लिए सीएम बना.

इसके बाद उन्होंने इस्तीफा दे दिया. ये ड्रामा उन्होंने क्यों किया? क्या हमें नहीं पता था कि हमारे पास बहुमत नहीं है? इसके बावजूद वह सीएम बने. ये सवाल हर कोई पूछ रहा है.

हेगड़े ने आगे कहा कि “सीएम फडणवीस के पास केन्द्र सरकार से मिले 40 हजार करोड़ रुपए का नियंत्रण था. जो कि विकास कार्यों के लिए थे. लेकिन अगर पहले ही महा विकास अघाड़ी की सरकार बन जाती तो उसका दुरुपयोग कर सकते हैं. इसलिए फैसला किया गया कि यहां ड्रामा होना चाहिए. इसलिए फडणवीस सीएम बने और 15 घंटों में बतौर मुख्यमंत्री, उन्होंने 40 हजार करोड़ रुपए की रकम वापस केन्द्र सरकार के पास भेज दी.”

फडणवीस ने बयान को नकारा

बीजेपी सासंद के बयान को महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस ने सिरे से नकार दिया है. पूरे मामले को लेकर उन्हें खुद इस पर सफाई देनी पड़ी है.

इसे भी पढ़ेंः#Chatra: चुनाव ड्यूटी पर तैनात #CRPF का जवान गायब, तलाश जारी

मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि ऐसा कुछ भी नहीं हुआ है. मेरे सीएम या कार्यवाहक सीएम रहते हुए महाराष्ट्र सरकार ने एक भी पैसा केंद्र को वापस नहीं किया है.

उन्होंने कहा कि ऐसी कोई घटना हुई है. ना ही केंद्र सरकार ने महाराष्ट्र से कोई पैसा मांगा, ना महाराष्ट्र ने दिया. ऐसा कोई भी बड़ा पॉलिसी निर्णय मैंने नहीं लिया. उन्होंने ये भी कहा कि वित्तीय विभाग पूरे मामले की जांच कर के सच सामने लाये.

इस तरह की बयानबाजियों को मैं सिरे से नकारता हूं.

महाराष्ट्र के साथ गद्दारी- राउत

भाजपा सांसद के उक्त खुलासे पर राजनीति तेज हो रही है. बयान पर शिवसेना ने बीजेपी को आड़े हाथों लिया है. पार्टी के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने इसे महाराष्ट्र की जनता के साथ गद्दारी बताया है.

इसे लेकर उन्होंने ट्वीट कर सरकार से जवाब तलब किया है.

फडणवीस ने सुबह 8 बजे सीएम पद की ली थी शपथ

गौरतलब है कि महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना गठबंधन को बहुमत मिला था. लेकिन दोनों पार्टियों में सीएम को लेकर विवाद था. जिसके बाद राज्य में राष्ट्रपति शासन लगा था.

सीएम पद पर फंसे पेंच के बाद शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी के साथ मिलकर सरकार बनाने की तैयारी में थी. तभी अहले सुबह राज्य से राष्ट्रपति शासन हटाया गया था.

और देंवेद्र फडणवीस से सीएम, जबकि एनसीपी नेता अजित पवार ने डिप्टी सीएम के तौर पर शपथ ली थी. हालांकि, ये सरकार 80 घंटों में ही गिर गयी थी. और देवेंद्र फडणवीस ने सीएम पद से इस्तीफा दे दिया था.

इसे भी पढ़ेंः#Coimbatore: भारी बारिश से तीन मकान जमींदोज, 10 महिलाओं समेत 15 की मौत

SP Jamshedpur 24/01/2020-30/01/2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like