BiharBihar Election 2020

भाजपा विधायक ने निगरानी थाने में किया लालू प्रसाद पर मुकदमा

Patna: राष्ट्रीय जनता दल सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के कथित फोन कॉल को लेकर भाजपा विधायक ललन पासवान ने मामला दर्ज कराया है. ललन पासवान ने पटना के निगरानी थाने में लालू प्रसाद यादव के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है.

बिहार के भागलपुर जिले की पीरपैंती विधानसभा सीट से भाजपा विधायक ललन पासवान ने अपनी लिखित शिकायत में कहा है कि उनके पास लालू यादव ने 24 नवबंर को फोन किया और बिहार विधानसभा अध्यक्ष के चुनाव में अनुपस्थित होकर अपना वोट नहीं देने दें तो राजद की सरकार बनने पर मंत्री पद दिलवायेंगे.

पासवान ने शिकायत में लिखा है कि “दिनांक – 24.11.2020 को उनके मोबाइल पर 8051216302 से फोन आया जिसमें बताया गया कि मैं लालू प्रसाद यादव बोल रहा हूं, तब मैंने समझा की शायद चुनाव जीतने के कारण वो मुझे बधाई देने के लिए फोन किये हैं, इसी लिए मैंने उनको कहा, आपको चरण स्पर्श.

उसके बाद उन्होंने मुझे कहा कि वो मुझे आगे बढ़ाएंगे और मुझे मंत्री पद दिलवाएंगे, इसीलिए दिनांक- 25.11.2020 को बिहार विधान सभा अध्यक्ष की चुनाव में मैं अनुपस्थित होकर अपना वोट नहीं दूं. उन्होंने यह भी बताया कि इस तरह से वो कल NDA की सरकार गिरा देंगें.

इसे भी पढ़ें – 100 साल पुराने मंदिर के पुनर्निर्माण को लेकर निकली जल यात्रा, भूमि पूजन भी हुआ

इसपर मैंने उन्हें कहा कि मैं पार्टी का सदस्य हूं, ऐसे करना मेरे लिए गलत होगा, उसपर उन्होंने मुझे पुनः प्रलोभन दिया और कहा कि आप सदन से गैरहाजिर हो जाइए और कह दीजिये कि कोरोना हो गया है बाकी हम देख लेंगे.

इस तरह लालू प्रसाद यादव जो कि राष्ट्रीय जनता दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं एवं रांची में चारा घोटाला केस में सजायाफ्ता हैं, उन्होंने जानबूझ कर सोची समझी साजिश के तहत मुझे राजनीति में आगे बढ़ाने एवं मंत्री बनाने का लालच देकर मुझे विधायक जो एक जन सेवक (पब्लिक सर्वेंट) होता है उसका वोट खरीदने एवं राष्ट्रीय जनतांत्रिक पार्टी की सरकार को गिराने के लिए जेल के अंदर से फोन लगाकर मुझसे मोबाइल फोन पर सम्पर्क किया एवं मेरा वोट अपने एवं अपनी पार्टी के महागठबंधन के पक्ष में लेने की कोशिश की एवं मुझसे भ्रष्टा आचरण कराने का प्रयास किया.

अतः श्री लालू प्रसाद यादव के विरुद्ध भारतीय दंड विधान एवं भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम, 1988 की सुसंगत धाराओं के अंतर्गत मुकदमा दर्ज कर कानूनी कार्रवाई की जाये.”

इसे भी पढ़ें – 3 महीने से सहायक पुलिसकर्मियों को वेतन नहीं, भुखमरी की नौबत

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: