JharkhandRanchi

भाजपा महिला मोर्चा ने राज्यपाल से की ओरमांझी घटना की सीबीआइ जांच की मांग

Ranchi : भाजपा महिला मोर्चा ने ओरमांझी घटना की जांच सीबीआइ से कराने की मांग की है. राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू से सोमवार को मोर्चा के एक प्रतिनिधिमंडल ने मुलाकात की.

प्रतिनिधिमंडल में शामिल पार्टी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और सांसद अन्नपूर्णा देवी ने कहा कि राज्य में महिलाओं के विरुद्ध लगातार आपराधिक घटनाएं बढ़ रही हैं. पिछले दिनों ओरमांझी में एक महिला की सिर कटी लाश मिली.

इस मामले में राज्य की पुलिस अब तक फेल रही है. ऐसे में इस घटना की जांच के लिए सीबीआइ की मदद ली जाये. इसके लिए राज्य सरकार को निर्देश दिया जाये. इस संबंध में एक ज्ञापन भी राज्यपाल को सौंपा गया.

Sanjeevani

प्रतिनिधिमंडल में मोर्चा अध्यक्ष आरती कुजूर, प्रदेश उपाध्यक्ष गंगोत्री कुजूर,विधायक नीरा यादव, अपर्णा सेन गुप्ता, मेयर आशा लकड़ा, प्रदेश मंत्री काजल प्रधान,पूर्व मंत्री लुइस मरांडी सहित अन्य लोग शामिल थे.

इसे भी पढ़ें : ओरमांझी युवती हत्याकांड सुलझाने के करीब पहुंची पुलिस, शेख बिलाल की है तलाश

कानून व्यवस्था बनाये रखने में विफल है सरकार

राजभवन के समक्ष महिलाओं के खिलाफ बढ़ते मामले की शिकायत लेकर भारतीय जनता पार्टी (महिला मोर्चा) का विरोध प्रदर्शन पिछले चार दिनों से लगातार जारी है.

सोमवार को सांसद अन्नपूर्णा देवी ने कहा कि आदिवासियों का खुद को हितैषी कहने वाली सरकार में सबसे ज्यादा आदिवासी और दलित महिलाओं के साथ अत्याचार हुआ है.

कानून व्यवस्था बनाये रखने की बजाये राज्य के पुलिस कप्तान एक पार्टी कार्यकर्ता की बोली बोल रहे हैं. ओरमांझी मामले में जल्दी से जल्दी अपराधियों को गिरफ्तार किया जाये.

इसे भी पढ़ें : पीएम मोदी ने कहा- 3 करोड़ कोरोना फाइटर्स को वैक्सीन लगाने का खर्च केंद्र सरकार उठायेगी

जनता की आवाज को कुचला जा रहा

पूर्व मंत्री लुईस मरांडी ने कहा कि हत्या के कारण प्रदेश की महिलाओं में आक्रोश है. सरकारी आंकड़े बताते हैं कि विगत एक साल में 1765 केस दर्ज हुए हैं जिनमें महिलाओं के साथ दुष्कर्म, हत्या की घटनाएं शामिल हैं.

इस प्रकार औसत 5 घटनाएं प्रतिदिन घटित हो रही हैं. ऐसे में सरकार की अकर्मण्यता निराशाजनक है. लोग सड़कों पर उतरने को मजबूर हैं.

परंतु पुलिस प्रशासन समस्याओं के समधान की बजाये जनता की आवाज को कुचलने में लगी है. सीएम के काफिले पर हमले के मामले में आम आदमी पर झूठे मुकदमे दायर कर परिवारों को परेशान किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें : राज्यपाल ने चीफ जस्टिस से बात की, हत्या और दुष्कर्म की घटना पर चिंता जतायी

Related Articles

Back to top button