JharkhandPalamu

भाजपा नेता पुत्री हत्याकांड : ग्रामीण हुए गोलबंद, पुलिस की कारवाई और पिता के आरोप पर उठाए सवाल

Palamu : भाजपा नेता श्याम नारायण प्रजापति की नाबालिग पुत्री हत्याकांड में पलामू जिले की पांकी थाना की कार्रवाई और पिता के आरोप पर ग्रामीणों ने सवाल उठाया है.

पांकी प्रखंड के बुढ़ाबार के ग्रामीण ने शुक्रवार को समाजिक बैठक की. जहां सबों ने एक स्वर में घटना की कड़ी निंदा की.

advt

लोगों ने कहा कि समाज में अपराधियों के लिए कोई स्थान नहीं है, लेकिन सही आरोपी को सजा मिले, इसके सभी पक्षधर हैं. ग्रामीणों का आरोप है कि श्यामनारायण प्रजापति ने स्वयं अपनी बेटी की हत्या की है.

विदित हो कि भाजपा नेता श्याम नारायण प्रजापति की नाबालिग पुत्री हत्याकांड में एफआईआर के अनुसार गुरूवार को दो युवकों को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. इसमें एक विवाहित युवक भी शामिल है, जबकि छह पर कार्रवाई की जा रही है.

इसे भी पढ़ें :मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने दिया निर्देश- सीबीएसई और आइसीएसई बोर्ड से पहले जैक का रिजल्ट प्रकाशित करें

आरोप लगाते हुए ग्रामीणों ने कहा कि जब गुमशुदगी का मामला थाने में दर्ज करवाया गया था तो गांव के किसी भी व्यक्ति को कोई जानकारी क्यों नहीं दी गयी.

चंदा कुमारी की बातचीत गांव के ही स्व. नारायण सिंह के पुत्र प्रदीप कुमार सिंह से लगातार हो रही थी. चंदा के प्रदीप कुमार से बात करते देखकर उसके परिवार वाले काफी नाराज रहते थे तथा अक्सर लड़की से मारपीट करते रहते थे. जान से मारने की धमकी भी देते रहते थे.

ग्रामीणों ने बताया कि श्यामनारायण प्रजापति व उसके परिवार वाले गत 7 जून सोमवार की रात्रि करीब 11 बजे चंदा के साथ मारपीट कर रहे थे, जिससे वह जोर-जोर से रो रही थी और चिल्ला रही थी.

इसे भी पढ़ें :MNREGA में पकड़ाया ‘रॉयल्टी घोटाला’, सरकार को लगाया करोड़ों का चूना

चिल्लाने की आवाज आस-पड़ोस में साफ-साफ सुनाई पड़ रही थी. यहां तक कि चंदा द्वारा यह भी बोला जा रहा था कि मुझसे गलती हो गई है, ऐसा कभी नहीं करूंगी. नहीं मारिए पापा. श्याम नारायण प्रजापति भी काफी गुस्से में जोर-जोर से चिल्ला रहे थे. इसके पश्चात हो-हल्ला अचानक बंद हो गया.

दूसरे दिन 8 जून मंगलवार को श्यामनारायण प्रजापति के द्वारा चंदा कुमारी के गुम हो जाने का आवेदन पांकी थाना में दिया जाता है. जबकि गांव या आस पड़ोस में किसी को गुम होने की जानकारी नहीं दी गयी.

अगले दिन 9 जून बुधवार को मामला गांव के सामने यह आता है कि बान्दुबार के दक्षिण दिशा के लालीमाटी जंगल में लड़की का शव पेड़ से लटका हुआ है.

इसे भी पढ़ें :झारखंड के शहरों के सुधरेंगे दिन, एडीबी के सहयोग से 4700 करोड़ की योजना होगी शुरू

बुढ़ाबार के ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि चंदा कुमारी की उसके परिवार वालों ने ही हत्या की है और गांव के युवकों को झुठे मुकदमे में फंसा रहे हैं.

लोगों का कहना है कि चंदा कुमारी की हत्याकांड का निष्पक्ष खुलासा करने के लिए उसके परिवार के सदस्यों से भी पूछताछ की जाए, ताकि दूध का दूध एवं पानी का पानी हो सके.

न्याय मांगने वाले ग्रामीणों बिन्दु प्रजापति, भोला सिंह, प्रमेश्वर सिंह, सचिन सिंह, लखेन्दर कुमार, सोमर सिंह, राम प्रवेश सिंह, राजेश प्रसाद सोनी, राम कुमार, पंचम कुमार, श्रीकांत कुमार, अरधा कुंवर, निशा देवी, रंजू देवी, बैजंती देवी, सतीश कुमार सिंह, माला देवी सुन्ती देवी, धनेश्वर सिंह, सिंह, सुरेन्द्र सिंह, विकास कुमार, डब्लू कुमार, सुबेदार सिंह, सुकन सिंह, उज्जवल सिंह, पप्पू कुमार शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें :नक्सलियों के खिलाफ सर्च ऑपरेशन में भारी मात्रा में तीर बरामद, सुरक्षाबलों की उड़ी नींद, जानिये क्यों…

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: