न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सांसद प्रतिनिधि पर जमीन हथियाने का आरोप, ग्रामीणों ने लगायी न्याय की गुहार

206

Giridih : गिरिडीह के गांडेय प्रखंड के मेदनीसार पंचायत में 102 एकड़ 77 डिसमिल जमीन घोटाले का खुलासा हुआ है. इसमें इलाके के एक प्रभावशाली भाजपा नेता का नाम सामने आ रहा है. फिलहाल मामले की पड़ताल की जा रही है. लेकिन जो तथ्य उभरकर सामने आए हैं उसके मुताबिक कुछ रसूखदार लोगों ने अपने पावर और पोजीशन का इस्तेमाल कर कई एकड़ जमीन को अपने नाम करा लिया है.

इसे भी पढ़ें- चार साल में 8 नगर आयुक्त आए और गये,धनबाद मेयर चंद्रशेखर अग्रवाल को कौन पसंद आए ?

क्या है मामला

hosp3

मामला गांडेय प्रखंड का है. ग्रामीणों का आरोप है कि कोडरमा सांसद प्रतिनिधि अर्जुन बैठा के पिता के नाम से 102 एकड़ 77 डिसमिल जमीन की बंदोबस्ती फर्जी तरीके से की गई है. जानकारी के मुताबिक गांडेय इलाके के विभिन्न स्थानों पर नुनुलाल बैठा के नाम से सरकारी जमीन जंगल / गोचर इत्यादी बंदोबस्ती लगान रसीद भी निर्गत हो गया है. इस मामले का खुलासा होते ही क्षेत्र के ग्रामीणों का गुस्सा भड़क उठा. ग्रामीणों के मुताबिक जो कागजात उपलब्ध हुए हैं, उसमें ग्राम रुकोटाड थाना संख्या 443, हल्का संख्या 4 है, खाता संख्या 31, प्लाट संख्या 646, रकवा 30 एकड़ 50 डिसमिल, ग्राम आहारडीह थाना संख्या 452, हल्का संख्या 4 है. खाता 02, 58, प्लाट संख्या 01, 30, 58, रकवा 25 एकड़ 77 डिसमिल, ग्राम मनियाडीह, थाना संख्या 445, हल्का संख्या 4 है. खाता संख्या 01, प्लॉट संख्या 27/99, रकवा 28 एकड़, ग्राम कर्णपुरा, 422 खाता संख्या 01, प्लाट संख्या 11, रकवा 18, एकड़ 50 डिसमिल. कुल रकवा 102 .77 एकड़ (एक सो दो एकड़ सतहत्तर) डिसमील जमीन नुनुलाल बैठा के नाम से दर्ज पाया गया है.

इसे भी पढ़ें- टीपीसी उग्रवादी कोहराम हजारीबाग से गिरफ्तार

ग्रामीणों ने जांच की मांग की

इस मामले को लेकर ग्रामीणों ने गांडेय विधायक, गांडेय अंचलाधिकारी, गिरिडीह डीएफओ, चीफ कंजरवेटर ऑफ फॉरेस्ट रांची और मुख्यमंत्री को आवेदन भेज कर इंसाफ की गुहार लगाई है. इस मामले में आहारडीह, मनियाडीह, रुकोटाड, करमाटांड़, मेदनीसरे, खमरताड़, कर्णपुरा सहित 18 गांवों के ग्रामीणों ने बैठक कर इस मामले में आंदोलन की रणनीति भी तैयार की. इलाके के ग्रामीणों ने इस मामले में शीघ्र जांच की मांग की है.

इसे भी पढ़ें- सांसद रामटहल चौधरी पर ST/SC अधिनियम के तहत प्राथमिकी दर्ज

क्या कहते हैं अधिकारी

इधर इस मामले में गांडेय प्रखंड के अंचल अधिकारी धनंजय पाठक ने कहा कि उन्हें आवेदन प्राप्त हुआ है. जल्द ही मामले की जांच की जाएगी. बहरहाल, जो तथ्य उभर कर सामने आए हैं उससे स्पष्ट है कि मामला गंभीर है. अब जांच के बाद पूरे मामले पर सच्चाई सामने आएगी.

इसे भी पढ़ें- झारखंड से किनारा कर रहे IAS अधिकारी, 11 चले गये 4 जाने की तैयारी में

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: