National

महाराष्ट्र में भाजपा को दलबदलू विधायकों के पलटने का डर: मलिक

Mumbai: राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने शनिवार को कहा कि महाराष्ट्र में भाजपा इस बात से घबरायी हुई है. उन्हें डर है कि 21 अक्टूबर को हुए विधानसभा चुनावों से पहले जिन राजनेताओं ने उसका दामन थामा था वे अब उसका साथ छोड़ सकते हैं, इसलिये उनके नेता दावा कर रहे हैं कि वे राज्य में अगली सरकार बनाने जा रहे हैं.

Jharkhand Rai

राकांपा के मुख्य प्रवक्ता नवाब मलिक ने यह टिप्पणी महाराष्ट्र भाजपा अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल के उस बयान के एक दिन बाद दी जिसमें उन्होंने कहा था कि उनकी पार्टी जल्द ही सरकार बनायेगी और उसके साथ निर्दलीय समेत 119 विधायकों का समर्थन हैं.

इसे भी पढ़ें- सरयू राय ने जमशेदपुर प. के साथ-साथ रघुवर के विधानसभा क्षेत्र जमशेदपुर पू. का भी नामांकन पत्र खरीदा, बढ़ेगी CM की मुश्किलें

मलिक ने साधा फड़णवीस पर निशाना

मलिक ने महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस पर निशाना साधा. फड़णवीस ने अपनी हालिया टिप्पणी में कहा था कि गैर भाजपा सरकार छह महीने से ज्यादा नहीं चलेगी.

Samford

मलिक ने इस पर कहा कि वह (फड़णवीस) एक हारी हुई सेना के सेनापति की तरह बोल रहे है जो अपने पार्टी कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाने के लिये ऐसा कह रहा है.

मलिक ने कहा कि पूर्व मुख्य मंत्री एक हारे हुए सेनापति की तरह अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं. हम मानते हैं कि वे हार चुके हैं और उन्हें यह स्वीकार करना होगा. वो हार स्वीकार करने को राजी नहीं हैं, लेकिन समय लगता है.

पाटिल की टिप्पणी पर मलिक ने पूछा कि महाराष्ट्र भाजपा अध्यक्ष द्वारा जैसा दावा किया जा रहा है कि उनके पास आंकड़े हैं तो भाजपा ने पूर्व में ही सरकार बनाने का दावा क्यों पेश नहीं किया.

इसे भी पढ़ें- महाराष्ट्र: शिवसेना का आरोप- सरकार गठन पर BJP का भरोसा विधायकों की खरीद-फरोख्त की ओर करता है इशारा 

भाजपा ने दूसरे दलों के नेताओं को अपने पाले में खींचा

मलिक ने कहा कि कोई भी सरकार महाराष्ट्र में नहीं बना सकता जब तक 145 विधायकों का समर्थन न हो. भाजपा के पास अपने विधायक नहीं है, उसने दूसरे दलों के नेताओं को अपने पाले में खींचा.

वह 21 अक्टूबर को हुए विधानसभा चुनावों से पहले कांग्रेस और राकांपा के कई नेताओं के भाजपा में शामिल होने के संदर्भ में यह बात कह रहे थे. मलिक ने कहा कि भाजपा को अब यह घबराहट है कि दूसरे दलों से भाजपा में आये विधायक पाला बदल सकते हैं. इसलिये, वे अपने कुनबे को एकजुट रखने के लिये ऐसे बयान दे रहे हैं.

महाराष्ट्र में मौजूदा राजनीतिक गतिरोध के बीच केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता नितिन गडकरी ने शुक्रवार को इस पूरे परिदृश्य को क्रिकेट से जोड़ते हुए कहा कि इन दोनों क्षेत्रों (क्रिकेट और राजनीति) में ‘कुछ भी’ हो सकता है. उन्होंने कहा कि जो मैच हारता हुआ दिखायी देता है वास्तव में वह जीत भी सकता है.

केंद्रीय मंत्री के बयान के बारे में पूछे जाने पर मलिक ने कहा कि उन्हें यह नहीं पता कि क्या गडकरी ये समझ चुके हैं कि लोगों ने भाजपा को “क्लीन बोल्ड” कर दिया है. गौरतलब है कि महाराष्ट्र में फिलहाल राष्ट्रपति शासन लगा हुआ है.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: