JharkhandRanchi

BJP ने की रामेश्वर मुर्मू के हत्यारों को फांसी देने की मांग, कहा-परिजनों को मिले सुरक्षा और मुआवजा

Ranchi:  प्रदेश भाजपा ने रामेश्वर मुर्मू की हत्या की सीबीआइ जांच की मांग की है. राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू से राजभवन में सोमवार को भेंट कर उनसे इस संबंध में पहल करने का आग्रह किया गया.

सांसद समीर उरांव ने कहा कि 30 जून को हूल दिवस मनाया जाता है. देशभर के आदिवासी इस दिवस को श्रद्धा के साथ मनाते हैं. हूल क्रांति के महानायक सिदो-कान्हू को याद कर उन्हें सम्मान दिया जाता है. हूल दिवस के ठीक पहले उनके वंशज की हत्या होना शहीद का अपमान है. सिदो-कान्हू के छठे वंशज रामेश्वर मुर्मू हत्याकांड की सीबीआइ से जांच करायी जानी चाहिए. साथ ही हत्यारों को फांसी की सजा दिलायी जाये. यही सिदो-कान्हू को सच्ची श्रद्धांजलि होगी.

इसे भी पढ़ें – 6th JPSC : सफल अभ्यर्थियों की अनुशंसा को सीएम की स्वीकृति 

परिजन को मिले सरकारी नौकरी

भाजपा ने राज्यपाल को सौंपे ज्ञापन में रामेश्वर मुर्मू की पत्नी को 10 लाख रुपये का मुआवजा और सरकारी नौकरी देने की भी मांग की है. साथ ही मुर्मू के बच्चों के लिए शिक्षा की व्यवस्था करने और पीड़ित परिवार को सुरक्षा उपलब्ध कराने की अपील की है.

बीजेपी प्रतिनिधिमंडल में शामिल पूर्व मंत्री हेमलाल मुर्मू ने कहा कि शहीद परिवार के वंशज की हत्या सामान्य बात नहीं है. इससे गलत संदेश जा रहा है. शहीद परिवार के वंशजों को अपने ही घर में डरना पडे, यह ठीक नहीं. सीएम के विधानसभा क्षेत्र में इतनी बड़ी घटना हो गयी. उन्होंने इस पर अब तक कोई संज्ञान नहीं लिया है. यह शहीद के प्रति सरकार के नकारात्मक मानसिकता को दर्शाता है.

पूरे प्रदेश में 30 जून को भाजपा के कार्यकर्ता सादगीपूर्ण तरीके से हूल दिवस मनाएंगे. एसटी मोर्चा प्रत्येक जिले में घटना की सीबाआइ जांच कराने, हत्यारों को फांसी की सजा दिये जाने और अन्य मांगों के लिये आवाज उठायेगा.

इसे भी पढ़ें – Corona Updates: 29 जून को 40 नये संक्रमित मिले, झारखंड में हुए 2426 मामले

प्रतिनिधिमंडल में कौन कौन थे शामिल

राज्यसभा सांसद समीर उरांव, पूर्व मंत्री हेमलाल मुर्मू, एसटी मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अरुण उरांव, एसटी मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सह पूर्व विधायक लक्ष्मण टुडू, एसटी मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष और पूर्व विधायक रामकुमार पाहन, उपाध्यक्ष अशोक बड़ाईक, महामंत्री बिंदेश्वर उरांव, पूर्व विधायक शिवशंकर उरांव और गंगोत्री कुजूर.

इसे भी पढ़ें – Corona : 80% लोगों ने टाल दी शादियां, गांव से शहर तक रोजगार पर पड़ा असर

Telegram
Advertisement

5 Comments

  1. Very good article! We are linking to this particularly great content on our site. Keep up the great writing.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close