National

TMC नेताओं के BJP में शामिल होने को लेकर डैमेज कंट्रोल में जुटी पार्टी

Kolkata: पश्चिम बंगाल की राजनीति लोकसभा चुनाव के दौरान से गरम है. बीजेपी-टीएमसी में टकराव रह-रहकर सामने आ रहे हैं. वहीं आम चुनाव के बाद से टीएमसी के कई नेता भाजपा में शामिल हो रहे हैं.

लेकिन तृणमूल नेताओं के भाजपा में शामिल होने पर पार्टी में ही विरोध के स्वर उठने लगे हैं. हाल ही में टीएमसी विधायक मोनिरुल इस्लाम भी टीएमसी छोड़कर भाजपा में शामिल हुए हैं. लेकिन जनसत्ता की खबर के अनुसार, मोनिरुल इस्लाम के भाजपा में शामिल होने पर पार्टी के कई नेताओं ने नाराजगी जाहिर की है.

इसे भी पढ़ेंःप. बंगालः ‘जय श्री राम’ पर सियासत गरम, ममता बनर्जी का आरोप- धर्म और राजनीति को मिला रही BJP

advt

नाराजगी जाहिर करने वाले नेताओं का तर्क है कि जिनके खिलाफ अभी तक लड़े, अब वो ही लोग भाजपा में शामिल हो रहे हैं. आलोचना के बाद अब भाजपा डैमेज कंट्रोल में जुट गई है.

जांच के बाद पार्टी में शामिल होंगे नेता

पार्टी में उठती आवाज के बीच प्रदेश नेतृत्व ने अब फैसला किया है कि नेताओं को अब जांच के बाद ही पार्टी में शामिल किया जाए. इसके साथ ही कुछ समय के लिए इस प्रक्रिया को थोड़ी धीमी करने पर भी सहमति बनी है.

उल्लेखनीय है कि मोनिरुल इस्लाम के भाजपा में शामिल होने की जानकारी प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष को भी नहीं थी और उन्होंने बताया था कि इस बारे में उनसे बातचीत भी नहीं की गई थी.

भाजपा के एक वरिष्ठ नेता का कहना है कि इस तरह नेताओं को पार्टी में शामिल करना पार्टी के लिए बुरा साबित हो सकता है. यह नहीं चल सकता.

adv

पूरे मामले को लेकर बीजेपी की किरकिरी भी हुई. सोशल मीडिया पर भी लोगों ने भाजपा के इस फैसले की आलोचना की. लोग कह रहे हैं कि भाजपा टीएमसी के आतंकी से कैसे बंगाल के लोगों को छुटकारा दिलाएगी, जब वह खुद ही आतंक का चेहरा रहे लोगों को अपने साथ जोड़ रही है.

इसे भी पढ़ेंःदर्द ए पारा शिक्षक: भाई के दिए 15 किलो चावल से हो रहा गुजारा, प्रीतम स्कूल के बाद मजदूरी कर चुकाते हैं उधार  

मोनिरुल को मुकुल लेकर आये बीजेपी में

वहीं बात करें मोनिरुल इस्लाम की तो वो पहले वामपंथी फॉरवर्ड ब्लॉक पार्टी में थे. वहां से टीएमसी में शामिल हुए और अब भाजपा में आ गए हैं. मोनिरुल इस्लाम को भाजपा में लाने के पीछे मुकुल रॉय को वजह माना जा रहा है.

बता दें कि मुकुल रॉय बीते दिनों में टीएमसी के कई नेताओं को भाजपा में शामिल करा चुके हैं. पार्टी नेताओं का मानना है कि पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनावों में जीत के लिए हिंदुत्व और पीएम मोदी का चेहरा ही काफी है, जिसके दम पर भाजपा टीएमसी को सत्ता से बेदखल कर सकती है.

इसे भी पढ़ेंःवर्ल्ड कपः कोहली ने बताया, आखिर क्यों उन्होंने दिसंबर 2017 के बाद से नहीं की गेंदबाजी

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button