न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

Exit Polls 2019 : भाजपा फिर से बना सकती है सरकार, एनडीए को 300 से ज्यादा सीटें मिलने के आसार  

2,343

लोकसभा चुनाव में एनडी टीवी की ओर से किये गये सर्वे के मुताबिक केंद्र में फिर से भाजपा की सरकार बनती दिखायी दे रही है. अभी तक के आंकड़ों के अनुसार एनडीए 300 सीटें मिलती दिखायी दे रही हैं. वहीं राहुल गांधी की अगुवाई वाला यूपीए गठबंधन 127 सीटों का आंकड़ा छू सकता है. साथ ही एक आकलन यह भी आ रहा है कि देश में त्रिशंकु सरकार बन सकती है. बहरहाल, अब देशभर की निगाहें 23 मई पर हैं, जिस दिन परिणाम आने वाले हैं.  

New Delhi: एनडीटीवी के एक्जिट पोल की मानें तो केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार बनती दिखायी दे रही है. मौजूदा  आंकड़ों के अनुसार एनडीए को 300 सीटें मिल सकती हैं. दूसरी ओर यूपीए 127 सीटों के आसपास सिमट सकता है. गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने 435 सीटों पर उम्मीदवार उतारे थे. शेष सीटों पर उसने सहयोगी पार्टियों के उम्मीदवार को समर्थन दिया था.

कांग्रेस पार्टी ने 420 सीटों पर उम्मीदवार उतारे हैं. वहीं बीजेपी की अगुवाई में इस चुनाव में एनडीए में 21 पार्टियां शामिल हैं. बिहार में भाजपा को नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू से मजबूती मिली है. इस वजह से बिहार में भाजपा का पलड़ा भारी है. इसी तरह यूपीए में इस बार कांग्रेस की अगुवाई में 25 पार्टियों का गठबंधन है.

इसी गहमा-गहमी के बीच आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने माकपा महासचिव सीताराम येचुरी से मुलाकात की है. इससे पहले उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, एनसीपी नेता शरद पवार और शरद यादव से भी मुलाकात की थी. येचुरी के बाद उन्होंने लखनऊ में मायावती और अखिलेश यादव से भी कुछ विमर्श किया है.

कांग्रेस जुटी सरकार बनाने की जुगत में

राजनीतिक गलियारों में माना जा रहा है कि कांग्रेस अब तीसरे मोर्चे की समर्थन से सरकार बनाने की कोशिश में जुट गयी है. इसी बीच खबर आ रही है कि बीएसपी सुप्रीमो मायावती सोमवार को यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मिलने वाली हैं.

हालांकि कौन किस तरफ रहेगा यह बहुत कुछ 23 मई को आने वाले नतीजों पर निर्भर करेगा. इस बीच बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने दावा किया है कि पार्टी 300 सीटे जीतकर एनडीए की सरकार बनायेगी.

एनडीटीवी को पोल ऑफ पोल्स के मुताबिक कहां किसको कितनी सीटें

उत्तर प्रदेश  : बीजेपी+ अपना दल गठबंधन को 80 में से 44 सीटें मिलती दिखाई दे रही हैं. वहीं सपा-बसपा और आरएलडी को 34 सीटें मिल रही हैं. जबकि कांग्रेस को मिल रही हैं. उत्तर प्रदेश में पिछली बार बीजेपी की अगुवाई में 73 सीटें जीती था.

जिसमें 71 बीजेपी के पास और 2 अपना दल को सीटें मिली थीं. इस बार सपा-बसपा और आरएलएडी ने मिलकर चुनाव लड़ा है. जिसका वोटबैंक मिलकर पूरे चुनाव में परेशान करता है. इस गठबंधन में यूपीए में तीन उपचुनाव जीते हैं. कांग्रेस ने यहां अकेले चुनाव लड़ा है.

छत्तीसगढ़ : बीजेपी को 7 और कांग्रेस को 4 सीटें मिलती दिखाई दे रही हैं.

मध्य प्रदेश  : बीजेपी को 25 और कांग्रेस को 4 सीटें मिलती दिखाई दे रही है. मध्य प्रदेश में मुख्य लड़ाई कांग्रेस और बीजेपी के पास है. कांग्रेस को बीएसपी और सपा का समर्थन है.

बिहार : बीजेपी एनडीए को 30 और आरजेडी-कांग्रेस गठबंधन को 11 सीटें मिलती दिखाई दे रही है.

महाराष्ट्र  : महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना 36 सीटें और कांग्रेस एनसीपी को 12 सीटें मिलती दिखाई दे रही हैं. महाराष्ट्र में बीजेपी, शिवसेना और आरपीआई ने मिलकर चुनाव लड़ा है. वहीं कांग्रेस ने एनसीपी के साथ मिलकर चुनाव लड़ा है.

हरियाणा  :  बीजेपी को 9 और कांग्रेस को एक सीटें मिलती दिखाई दे रही है.

राजस्थान :  बीजेपी को 16, कांग्रेस-3 और अन्य को 6 सीटें मिलती दिखाई दे रही हैं. राजस्थान में भी बीजेपी और कांग्रेस के बीच सीधी लड़ाई है.यहां भी बीएसपी ने कांग्रेस को समर्थन किया है.

कर्नाटक :  बीजेपी-19 और कांग्रेस+ जेडीएस -7 और अन्य को 2 सीटें मिलती दिखाई दे रही हैं.कर्नाटक में मुख्य लड़ाई बीजेपी और कांग्रेस-जेडीएस के बीच मुख्य लड़ाई है.

पश्चिम बंगाल :  टीएमसी-27, बीजेपी-13 और कांग्रेस को 2 सीटें मिलती दिखाई दे रही हैं. इस राज्य में बीजेपी को बहुत उम्मीदें हैं. यहां पर बीजेपी के अलावा सत्तारूढ़ टीएमसी और कांग्रेस-लेफ्ट गठबंधन के बीच त्रिकोणीय लड़ाई है.

ओडिशा :  एनडीटीवी पोल ऑफ पोल्स  ओडिशा में बीजेपी को 10, बीजेडी-10 और अन्य को एक सीट मिलती दिखाई दे रही है. इस राज्य को से भी बीजेपी को बड़ी उम्मीदें हैं.

आंध्र प्रदेश :  सत्तारुढ़ टीडीपी-9,  वाईएसआर कांग्रेस 16, बीजेपी-0 और कांग्रेस-0

असम: बीजेपी+एजीपी- 9, कांग्रेस-4 और अन्य-1

दिल्ली : दिल्ली में आम आदमी पार्टी को आम आदमी पार्टी का पत्ता साफ होते दिखाई दे रहा है. यहां पर बीजेपी को 6 और कांग्रेस को 7 सीटें मिलती दिखाई दे रही है.

गुजरात : पीएम मोदी के गृह राज्य गुजरात में बीजेपी 24 और कांग्रेस को 2 सीटें मिलती दिखाई दे रही हैं.

तेलंगाना : टीआरएस-14, कांग्रेस-2 और बीजेपी को एक सीट

झारखंड : बीजेपी + आजसू-8, कांग्रेस+जेएमएम -5 और अन्य-1

केरल : कांग्रेस-13, वामदल- 5, लेफ्ट-1

तमिलनाडु : एआईएडीमके+बीजेपी-11, डीएमके+कांग्रेस-26, अन्य-1

पंजाब : अकाली दल+ बीजेपी-4, आप-1, कांग्रेस-9

कौन सा सर्वे किसको दे रहा है कितनी सीटें

रिपब्लिक+ सी वोटर :  एनडीए- 287, यूपीए- 128, अन्य- 127

रिपब्लिक+ जन की बात : एनडीए- 305, यूपीए-124, अन्य- 113

टाइम्स नाऊ- वीएमआर : एनडीए- 306, यूपीए-142, अन्य- 94

न्यूज नेशन : एनडीए- 282-290,  यूपीए- 118-126, अन्य-130-138

न्यूज18 इंडिया-आईपीएसओएस :  एनडीए- 336, यूपीए-82, अन्य-124

सुदर्शन न्यूज :  एनडीए-313, यूपीए- 121, अन्य-108

एनडीए में प्रमुख शामिल पार्टियां

भारतीय जनता पार्टी, शिवसेना, जनता दल यूनाइटेड, लोक जनशक्ति पार्टी, अकाली दल, अपना दल(एस)

यूपीए में शामिल प्रमुख पार्टियां

कांग्रेस, राष्ट्रीय जनता दल, राष्ट्रीय लोकसमता पार्टी, हिंदुस्तान आवाम मोर्चा, लोकतांत्रिक जनता दल, नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी, जनता दल (सेक्यूलर), लेफ्ट पार्टियां, डीएमके, केरल कांग्रेस (जेकब)

ऐसे दल जो अभी किसी के साथ नही हैं

तृणमूल कांग्रेस, आम आदमी पार्टी, समाजवादी पार्टी+बहुजन समाज पार्टी, तेलंगाना राष्ट्र समिति, नेशनल कॉन्फ्रेंस, पीडीपी, बीजेडी.

 

 

 

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है. कारपोरेट तथा सत्ता संस्थान मजबूत होते जा रहे हैं. जनसरोकार के सवाल ओझल हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्तता खत्म सी हो गयी है. न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए आप सुधि पाठकों का सक्रिय सहभाग और सहयोग जरूरी है. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें मदद करेंगे यह भरोसा है. आप न्यूनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए का सहयोग दे सकते हैं. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता…

 नीचे दिये गये लिंक पर क्लिक कर भेजें.
%d bloggers like this: