न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भाजपा ने प्रशासनिक तंत्र का दुरुपयोग कर पीएम के रांची दौरे में जुटायी भीड़ : कांग्रेस

184

Ranchi : राज्य में अब तक जितनी भी मौतें भूख से हुई हैं, उसे लेकर कांग्रेस पार्टी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राजधानी दौरे पर सवाल खड़ा किया है. झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमिटी के मीडिया प्रभारी राजेश ठाकुर ने शुक्रवार को कहा कि हमारे प्रधानमंत्री को भीड़ की कैसी भूख है, इसे ऐसे समझ जा सकता है कि कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए पूरे प्रशासनिक तंत्र का दुरुपयोग किया गया.

भूख से मौत पर सरकार है संवदेनहीन

कांग्रेसी नेता राजेश ठाकुर ने कहा कि आज से एक वर्ष पहले सिमडेगा के कालीमाटी में संतोषी की मौत भूख से हुई थी. वहीं, भाजपा के शासनकाल में पूरे देश में कुल 56 लोगों की मौत भूख से हुई है. इसमें सिर्फ 2017-18 में 42 की मौत हो चुकी है. वहीं, भूख से मरनेवालों की संख्या झारखंड में 15 है. इसके बावजूद सरकार की संवेदनशीलता कैसी है कि आज तक भूख से मरनेवाले पीड़ित के घर पर न तो मुख्यमंत्री, न ही मंत्री या स्थानीय विधायक ने जाना उचित समझा है. उन्होंने कहा कि झारखंड में भूख से मरनेवालों में ज्यादातर लोग आदिवासी या दलित समुदाय से ताल्लुक रखते हैं. राज्य के मुखिया ने स्वयं संतोषी की मौत पर कहा था कि उसके गांव के लोगों को समृद्ध बनाने के लिए लोगों को अगरबत्ती-मोमबत्ती बनाने का प्रशिक्षण, बकरी-सूकर पालन के लिए आर्थिक सहायता दी जायेगी. परंतु, सरकारी उदासीनता की वजह से गांव के वर्तमान हालात आज किसी से छिपे नहीं हैं.

इसे भी पढ़ें- कांग्रेस के निगम घेराव कार्यक्रम में एस्सेल इन्फ्रा से कमीशनखोरी का मामला गरमाया

कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए प्रशासनिक तंत्र का हुआ दुरुपयोग

प्रधानमंत्री के रांची दौरे पर सवाल खड़ा करते हुए कांग्रेसी नेता ने कहा कि कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए प्रशासनिक तंत्र का दुरुपयोग कर पीएम की भूख को मिटाया गया. यह बताता है कि हमारे पीएम को कैसी भीड़ की भूख है. अगर इन संसाधनों का इस्तेमाल गरीबों की भूख मिटाने में होता, शायद भूख से मौत के मामलों में झारखंड की बदनामी राष्ट्रीय मानचित्र पर नहीं होती. उन्होंने बताया कि पीएम के रांची दौरे के दौरान सात जिलों (खूंटी, रांची, रामगढ़, बोकारो, गुमला, लोहरदगा, हजारीबाग) को भीड़ जुटाने, परिवहन विभाग को निजी विद्यालयों से वाहन लेने की जिम्मेदारी दी गयी थी. इसके कारण कई विद्यालयों को परीक्षाओं को स्थगित करना पड़ा. वहीं, समाज कल्याण, सामाजिक सुरक्षा कोषांग, मनरेगा, जेएसपीएलएस सहित कई विभागों के पैसे को भीड़ जुटाने के लिए खर्च किया गया. सिर्फ खूंटी से ही 18500 लोगों को लाने का निर्देश दिया गया था. वहीं, जिले के 500 राशन डीलरों को 10-10 लाभुकों को लाने की जिम्मेदारी दी गयी. इसी तरह प्रखंड विकास पदाधिकारी को 700-700 लोगों को कार्यक्रम में लाने की जिम्मेदारी दी गयी. यह बताता है कि कैसे हमारे पीएम को भीड़ की भूख है.

इसे भी पढ़ें- अजय मारू का मॉल और वनवासी कल्याण केंद्र भुइहरी जमीन पर बने हैं : देव कुमार धान

कांग्रेस करेगी पीड़िता की मां को आर्थिक सहायता

palamu_12

उन्होंने कहा कि प्रदेश अध्यक्ष डॉ अजय कुमार के निर्देश पर पूर्व मंत्री नियेल तिर्की संतोषी की मां कोयली देवी का हाल जानने गये हैं. उन्हें पीड़िता की मां का बैंक अकाउंट का नंबर प्रदेश कांग्रेस को उपलब्ध कराने के लिए कहा गया है, ताकि तमाम कांग्रेसजन उनकी आर्थिक सहायता कर सकें.

इसे भी पढ़ें- लोकमंथन कार्यक्रम में ट्राइबल सब-प्लान की राशि का उपयोग अनुचित: बाबूलाल

माफी मांगें सीएम और खाद्य आपूर्ति मंत्री : राजीव रंजन

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता राजीव रंजन ने कहा कि आधार की स्थिति को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने जो निर्णय दिया, वह स्वागतयोग्य है. कांग्रेस पार्टी मांग करती है कि आदिवासी और दलितों के हितैषी बननेवाले भाजपा के मुख्यमंत्री और खाद्य आपूर्ति मंत्री सार्वजनिक रूप से भूख से हुई मौत पर माफी मांगें.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: