National

पश्चिम बंगाल में रथयात्रा निकालने को लेकर भाजपा ने लगायी SC में गुहार  

विज्ञापन

NewDelhi : भाजपा ने पश्चिम बंगाल में अपनी रथयात्रा निकालने के लिए सोमवार को SC में गुहार लगाई. बता दें कि भाजपा ने कलकत्ता हाई कोर्ट की खंडपीठ के उस आदेश को चुनौती दी है, जिसने रथयात्रा निकालने की अनुमति देने वाले एकल न्यायाधीश के आदेश को रद्द कर दिया था. SC रजिस्ट्री के एक अधिकारी ने जानकारी दी है कि उन्हें हाई कोर्ट की खंडपीठ के आदेश के खिलाफ भाजपा की याचिका मिली हुई है. अधिकारियों ने बताया कि याचिका की जांच की जा रही है. खबरों के अनुसार भाजपा ने अपनी विशेष अनुमति याचिका पर तत्काल सुनवाई की मांग की है. जान लें कि पश्चिम बंगाल में भाजपा के महत्वाकांक्षी रोड शो को शुक्रवार को उस वक्त नजर लग गयी, जब कलकत्ता हाईकोर्ट की खंड पीठ ने रोड शो को अनुमति देने वाले एकल पीठ के फैसले को रद्द कर दिया. कलकत्ता उच्च न्यायालय ने एकल पीठ को राज्य की एजेंसियों की खुफिया सूचनाओं पर विचार करते हुए नये सिरे से मामले की सुनवाई करने के लिए कहा था. न्यायमूर्ति तपब्रत चक्रवर्ती की एकल पीठ को इस पर विचार करने के लिए कहा गया कि क्या यात्रा की अनुमति देने के नतीजे तक पहुंचने के लिए उनके समक्ष पर्याप्त दस्तावेज थे. खंडपीठ ने कहा एकल पीठ राज्य सरकार की ओर से दी गयी 36 खुफिया सूचनाओं पर नये सिरे से विचार करें.  

राज्य सरकार की ओर से पेश हुए महाधिवक्ता किशोर दत्ता ने कहा था कि एकल पीठ ने सीलबंद लिफाफे में सौंपी खुफिया सूचनाओं पर विचार नहीं किया और बिना खोले ही उन्हें लिफाफा वापस कर दिया था. राज्य सरकार ने पीठ के समक्ष 31 पुलिस जिलों और पांच पुलिस आयुक्त कार्यालयों से मिली खुफिया सूचनाएं सौंपी थी जिनमें कहा गया था कि अगर भाजपा के प्रस्तावित रोडशो को अनुमति दी गयी तो साम्प्रदायिक तनाव पैदा होने की आशंका है. 

ममता सरकार के खिलाफ पार्टी राज्य के अनेक हिस्सों में रैलियां निकालेगी

इस फैसले के बसद पश्चिम बंगाल भाजपा इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा था, हमने SC में जाने का निर्णय किया है. हमें न्यायपालिका पर पूरा भरोसा है और हम अंत तक लडेंगे. कहा कि तृणमूल कांग्रेस  सरकार यह सुनिश्चित करना चाहती है कि हम रथ यात्रा नहीं निकाल पायें. भाजपा सूत्रों के अनुसार  यात्रा की अनुमति नहीं देने के सरकार के फैसले के खिलाफ पार्टी फिलहाल राज्य के अनेक हिस्सों में रैलियां करेगी. बता दें कि भाजपा की अपील पर सुनवाई के बाद गुरुवार को हाईकोर्ट की एकल पीठ ने रथ यात्रा की इजाजत दे दी थी,  लेकिन शुक्रवार के आदेश के बाद इस कार्यक्रम पर एक बार फिर संकट के बादल मंडरा रहे हैं. भाजपा के नेतृत्व ने पूरे राज्य से गुजरने वाली तीन चरणों की अपनी महत्वाकांक्षी रथयात्रा के बाधाओं में घिर जाने के बाद पार्टी की अगली कार्ययोजना तय करने के लिए शुक्रवार को आपात बैठक की थी.   

Telegram
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close