न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भाजपा ने प्रशांत किशोर पर लगाया राज्य सरकार के कार्यों में हस्तक्षेप करने का आरोप

पार्टी के राष्ट्रीय सचिव राहुल सिन्हा ने कहा कि मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों को पीके और उनकी टीम की बात मानने के लिए बाध्य कर रही हैं.

796

Kolkata : पश्चिम बंगाल प्रदेश भाजपा ने तृणमूल कांग्रेस के चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर (पीके) और उनकी टीम पर राज्य सरकार के अधिकारियों के कामकाज में दखल देने और अधिकारियों को निर्देशित करने का आरोप लगाया है.

पार्टी के राष्ट्रीय सचिव राहुल सिन्हा ने रविवार को कहा कि हमें इस बात से कोई समस्या नहीं है कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी खुद को और अपनी पार्टी को बचाने के लिए किसकी मदद ले रही हैं, लेकिन समस्या इस बात से है कि जिस पीके को राजनीतिक रणनीतिकार नियुक्त किया गया है वे सरकार के कार्यों में हस्तक्षेप कर रहे हैं. यहां तक कि मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों को पीके और उनकी टीम की बात मानने के लिए बाध्य कर रही हैं.

इसे भी पढ़ें : गिरिडीह : फर्नीचर मिस्त्री के घर के शौचालय में मिली लोडेड पिस्तौल व बम बनाने का कच्चा माल

सिन्हा ने मीडिया रिपोर्टों के हवाले से कहा कि पीके और उनकी टीम के सदस्य सरकारी कार्यालयों का दौरा कर रहे हैं और अधिकारियों को आदेश दे रहे हैं कि उन्हें क्या करना चाहिए, क्या नहीं.

उन्होंने कहा कि समस्या इस बात से है कि वे सरकारी अधिकारियों को सौंपे गए कार्य में हस्तक्षेप कर रहे हैं. यह अस्वीकार्य है.

इसे भी पढ़ें : नानी के साथ सोयी बच्ची को बोरे में बांधकर ले जा रहा युवक पुलिस के हत्थे चढ़ा

Related Posts
SMILE

टीएमसी का इनकार

उधर राज्य के संसदीय मामलों के मंत्री पार्थ चटर्जी ने कहा कि मीडिया रिपोर्ट और भाजपा के आरोप दोनों निराधार हैं. इस तरह का कुछ भी नहीं हुआ है. कोई भी सरकार के कामकाज में हस्तक्षेप नहीं कर रहा है.

इधर पीके की अध्यक्षता वाले आइपैक के अधिकारियों ने भी आरोपों से इनकार किया है.

इसे भी पढ़ें : धनबाद : लिलोरी पथरा के कई घरों के नीचे बना है गोफ, कभी भी भूधंसान संभव, सर्वे के बावजूद नहीं हो रहा पुनर्वास

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: