न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बीआईटी मेसरा के एमबीए पाठ्यक्रम की मान्यता पर एआईसीटीई ने लगायी रोक

बीआईटी मेसरा के कुलपति प्रो मनोज मिश्रा की अक्षमता पर हुई कार्रवाई

2,030

Ranchi: बीआईटी मेसरा के प्रबंधन पाठ्यक्रम की मान्यता पर अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद ने रोक लगा दी है. ऐसा बीआईटी मेसरा के प्रबंधन कार्यक्रम को लेकर देश भर के प्रबंधन संस्थान में गिरती रेटिंग की वजह से की गयी है. एआईसीटीई के एक्शन की वजह से संस्थान की साख पर और बट्टा लगेगा. यहां पर इंजीनियरिंग समेत प्रबंधन, होटल मैनेजमेंट, एमसीए, बायो-इंजीनियरिंग, एमएससी भौतिकी, एमएससी गणित समेत अन्य पाठ्यक्रम संचालित किये जाते हैं. जेईई मेंस के आधार पर इंजीनियरिंग के विभाग और गैर-इंजीनियरिंग विभाग में प्रवेश परीक्षा और साक्षात्कार के बाद नामांकन लिया जाता है. बीआईटी के कुलसचिव एवी कृष्णा ने न्यूज विंग को बताया कि एआईसीटीई ने कार्रवाई की है. इसकी पूरी जानकारी उनके पास नहीं है. उन्होंने कहा कि एआईसीटीई के द्वारा पाठ्यक्रमों को संबद्धता देनेवाली प्रक्रिया को लेकर यह कार्रवाई की गयी है.

इसे भी पढ़ें: झारखंड राज्य तकनीकी विवि से पाठ्यक्रम को संचालित करने के पूर्व अनुमति जरूरी

दो वर्षीय एमबीए और शोध कार्यक्रम संचालित होते हैं संस्थान में

hosp3

जानकारी के अनुसार एआईसीटीई ने बीआईटी मेसरा में चल रहे मास्टर इन बिजनेस मैनेजमेंट (एमबीए) के दो वर्षीय डिग्री कार्यक्रम और शोध के पाठ्यक्रम की मान्यता समाप्त कर दी गयी है. यह कहा जा रहा है कि वर्तमान कुलपति प्रो मनोज मिश्रा के कार्यकलापों की वजह से संस्थान की रेटिंग 4.5 सालों में गिरी है. प्रबंधन संकाय की रैंकिंग भी देश के प्रमुख संस्थानों में 14 से घट कर 27 तक पहुंच गयी है. इस संबंध में न्यायालय में भी कुलपति को लेकर एक याचिका दायर की गयी है. इसमें यह कहा गया है कि लखनऊ विश्वविद्यालय में कुलपति बनने के लिए श्री मिश्रा ने गलत सूचना दी थी. इस पर न्यायालय की ओर से काफी फटकार भी लगायी गयी थी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: