JharkhandLead NewsNEWSRanchi

बिरसा हरित ग्राम : 25 फीसदी क्षेत्रों में होगी मिश्रित फलों की बागवानी

Ranchi :  मनरेगा आयुक्त राजेश्वरी बी ने बिरसा हरित ग्राम योजना से संबंधित कार्य समय पर शुरू किए जाने का निर्देश सभी उपविकास आयुक्तों को दिया है. आयुक्त ने बारिश के मौसम में गुणवत्तापूर्ण पौधों की खरीदारी के लिए विशेष दिशा-निर्देश भी दिया है. इस बार आम की बागवानी के अलावा अन्य फलदार पौधों जैसे- अमरूद, निम्बु, नासपाती, सरीफा, बेर, कटहल, सहजन इत्यादि की बागवानी को बढ़ावा देने के साथ ही मिश्रित फलदार पौधों की बागवानी को प्रोत्साहित करने पर बल दिया है. सभी डीडीसी को लिखे गये पत्र में स्पष्ट कहा गया है कि वातावरण के अनुरूप पौधों को लगाने से अलग-अलग समय पर विभिन्न प्रकार के फल प्राप्त हो सके एवं फलों की बिक्री से लाभुकों की अच्छी आमदनी भी प्राप्त हो सके.

मनरेगा आयुक्त ने कहा कि कुल बागवानी क्षेत्र में कम से कम 25 फीसदी क्षेत्र में मिश्रित फलों की बागवानी लगाना सुनिश्चित किया जाये. पौधों की उपलब्धता समय पर लाभुकों को हो सके इस पर उन्होंने जोर दिया. मनरेगा आयुक्त ने स्पष्ट कहा कि अगर गुणवत्तापूर्ण पौधा की खरीद नहीं की गयी तो कड़ी कार्रवाई की जायेगी. नर्सरियों को भी काली सूची में डालने की चेतावनी दी गयी है.

स्थानीय नर्सरियों से ही पौधों की खरीद

पौधों की खरीदारी झारखंड राज्य में अवस्थित स्थानीय एनआईबी रजिस्टर्ड नर्सरियों से ही किए जाने का निर्णय लिया गया है. ऐसे में जिनके पास झारखंड का जीएसटी नंबर हो उससे ही पौधें लिए जायेंगे. नर्सरियों की सूची भी उपलब्ध करायी गयी है. फलदार पौधों के क्रय के लिए निर्धारित मानदंड के रूप में संलग्न है जिनका ध्यान पौधा क्रय के समय आवश्यक रूप से रखने को कहा गया है.

Sanjeevani

इसे भी पढ़ें: Big News : वायुसेना की ओर से अग्निपथ योजना में भर्ती के लिए डिटेल जारी, अग्निवीरों को मिलेगा 1 करोड़ का बीमा, कैंटीन की सुविधा व 30 दिन की छुट्टी

Related Articles

Back to top button