JharkhandRanchi

झारखंड के वीर शहीदों की जीवनी पाठ्यक्रम में शामिल करें : महेश पोद्दार

Ranchi :  राज्यसभा सांसद महेश पोद्दार ने झारखण्ड के प्रेरक प्रसंगों, वीर शहीदों, स्वतंत्रता सेनानियों, महात्मा गांधी के जीवित स्मारक टाना भगतों एवं बिरसाईतों से सम्बंधित पाठ्य सामग्री विद्यालयों के पाठ्यक्रम में शामिल करने की मांग की है. महेश पोद्दार ने यह मामला राज्यसभा में उठाया था, जिसका सन्दर्भ देते हुए उन्होंने राज्य की स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता मंत्री डॉ. नीरा यादव को पत्र लिखकर यह मांग की है.

इसे भी पढ़ें – रंजय सिंह हत्याकांड का मुख्य आरोपी “मामा” पहुंचा सलाखों के पीछे

advt

साथ ही महेश पोद्दार ने अपने पत्र में इस बात पर चिंता जताई है कि झारखण्ड के महापुरुषों की जीवनी और राज्य के प्रेरक ऐतिहासिक प्रसंगों को विद्यालयों के पाठ्यक्रम में अपेक्षा के अनुरूप स्थान नहीं मिल पाया है. उन्होंने शहीद सिदो कान्हों, भगवान बिरसा मुंडा, विश्वनाथ शाहदेव, पाण्डेय गणपत राय, शेख भिखारी, टिकैत उमरांव, टाना भगत समुदाय, बिरसाईत समुदाय आदि की चर्चा भी अपने पत्र में की है.

इसे भी पढ़ें – झारखंड के आधे राज्यसभा सांसद सदन में रहते हैं खामोश

महान विभूतियों को पाठ्यक्रम में जगह देना सरकार की जिम्मेवारी

श्री पोद्दार ने राज्यसभा में पूछे गए अपने प्रश्न और सरकार के उत्तर का उल्लेख करते हुए कहा है कि एनसीआरटी के पाठ्यक्रम में सभी राज्यों की विभूतियों को एक साथ स्थान दे पाना संभव नहीं हो पाता. शिक्षा समवर्ती सूची का विषय है और यह राज्य सरकारों की जिम्मेवारी है कि राज्य की सभी महान विभूतियों और प्रेरक प्रसंगों को पाठ्यक्रम में पर्याप्त और सम्मानजनक जगह दी जाये. उन्होंने आगाह किया है कि पाठ्यक्रम में प्रेरक ऐतिहासिक प्रसंगों एवं महापुरुषों की पर्याप्त व सम्मानजनक उपस्थिति का अभाव कुछ षड्यंत्रकारी संगठनों और समूहों को इतिहास को विकृत तरीके से प्रस्तुत और प्रचारित करने का अवसर प्रदान कर रहा है. यदि यह क्रम जारी रहा तो हमारी आनेवाली पीढ़ियां विकृत इतिहास और हमारे महापुरुषों के बारे में भ्रामक तथ्य से ही परिचित रहेंगी.

इसे भी पढ़ें – छात्र बन रहे हैं ड्रग्स सप्लायरों के एजेंट, स्कूल और कॉलेज के पास होती है नशीले पदार्थों की बिक्री

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: