JamshedpurJharkhand

बाइकर्स हो जायें सावधान : साइलेंसर से गोली चलने जैसे आवाज आयी तो कट जायेगा चालान

Jamshedpur : शहर में सक्रिय बाइकर्स महंगी और स्टाइलिश बाइक के मूल साइलेंसर को बदलवाकर तेज आवाज वाले साइलेंसर और फायरिग किट लगवा रहे हैं. इनसे गोली-पटाखे जैसी आवाज निकलती है. नियमों के अनुसार बाइक पर प्रेशर हार्न एवं वाहन को मोडिफाई करने पर रोक है, लेकिन इसकी परवाह किए वगैरह युवा वर्ग बेधड़क स्पीड ड्राइव करके लोगों की जान सांसत में डालते हुए निकल रहे हैं.  लेकिन अब जिला प्रशासन की उन पर पैनी नजर रहेगी. साथ ही ओवर स्पीडिंग, बिना हेलमेट, बगैर सीट बेल्ट तथा ट्रिपल राइडिंग करने वाले वाहन चालकों के खिलाफ भी सघन अभियान चलेगा. ऐसे चालकों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करते हुए जुर्माना वसूला जाएगा.

अनसेफ है यह नकली साइलेंसर  :  बड़ी संख्या में युवा बुलेट और अन्य महंगी मोटरसाइकिलों से कंपनी का साइलेंसर हटा कर असुरक्षित साइलेंसर लगवा रहे हैं. इसकी कोई गारंटी भी नहीं होती है. कंपनी के साइलेंसर लगभग पांच हजार रुपये की कीमत के होते हैं, जबकि नकली साइलेंसर साढ़े आठ सौ से हजार रुपये का आता है. यह अधिक आवाज के साथ-साथ गोली चलने जैसी आवाज भी करता है.

advt

क्या कहता है कानून : केंद्रीय मोटर वाहन अधिनियम की धारा 190 के अनुसार, “कोई भी व्यक्ति जो किसी भी सार्वजनिक स्थान पर मोटर वाहन चलाते वक्त सड़क सुरक्षा, ध्वनि और वायु प्रदूषण के नियंत्रण के संबंध में निर्धारित मानकों का उल्लंघन करता है, तो यह  अपराध की श्रेणी में आता है. ऐसे व्यक्ति को पहली बार में 1000 रुपये का जुर्माना और दूसरी बार ऐसा ही करने पर 2000 रुपये की राशि जुर्माने के तौर पर देनी होगी. इसके अलावा दूसरी बार पकड़े जाने पर उसे अन्य दंड भी भोगने पड़ सकते हैं, जिसमें ड्राइविंग लाइसेंस रद्द किया जाना भी शामिल है.

एक  मैकेनिक ने बताया – कंपनी का साइलेंसर धीमी आवाज करता है, जबकि नकली साइलेंसर से जाली निकाल लिये जाने के कारण वह अधिक आवाज करता है. बुलेट मोटर साइकिल पर नकली साइलेंसर की पहचान यह है कि नकली साइलेंसर ओरिजनल से अधिक लंबे होते हैं. साइलेंसर से गोली या पटाखे जैसी आवाज निकालने के लिए इंजन के बीच लगे प्लग का गैप कम करके उसकी सेटिंग की जाती है. चलती हुई मोटरसाइकिल को बंद करने के बाद दोबारा चलाने पर उसमें खुद ब खुद आवाज आने लगती है, जो कानूनी तौर पर गलत है, लेकिन गाड़ियों में लगवाने के लिए युवा आते हैं, तो हम लगाते हैं.

इसे भी पढ़ें –  Hit & Run मामलों के पीड़ित परिवार मुआवजे के लिए करें डीटीओ कार्यालय में आवेदन: उप विकास आयुक्त

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: