Crime NewsGiridihJharkhand

गिरिडीह में एक बार फिर सक्रिय हुए बाइक चोर गिरोह, कौन दे रहा संरक्षण?

विज्ञापन

Giridih. गिरिडीह जिले में बाइक चोर गिरोह एक बार फिर सक्रिय हो गए हैं. यही नहीं, गिरिडीह के पड़ोसी जिला धनबाद से भी रह-रहकर बाइक चोरी की घटना होने की जानकारी मिल रही है. जिले में अब तक कितनी बाइक्स की चोरी हुई है, इसका आंकड़ा फिलहाल पुलिस ने अपटूडेट नहीं किया है. लेकिन सबसे बड़ा सवाल है कि आखिर बाइक्स की चोरी कर कौन रहा है?

पुलिस सूत्रों की माने तो दो साल पहले साल 2018 में पूर्व डीएसपी पी के मिश्रा ने नगर थाना पुलिस के सहयोग से जामताड़ा और मधुपूर से बाइक चोर गिरोह के आधा दर्जन अपराधियों को दबोचने में सफलता पाया था. इस गिरोह के पास से पुलिस ने दर्जन भर बाइक भी बरामद किया था.

ये भी पढ़ें- लूट का अड्डा बना है CIP कांके, पूर्व भाजपा सांसद आरके सिन्हा के लिए 20 सालों से टेंडर प्रक्रिया की शर्तों को हो रहा उल्लंघन : झामुमो

advt

नगर थाना पुलिस ने मधुपूर और जामताड़ा से बाइक चोर गिरोह के जिन अपराधियों को दबोचा था। उसमें सद्दाम अंसारी, लोधा मियां, रफीक मियां, मो. शाहजहां, मुख्तार अंसारी, नस्रुल्लाह शामिल थे. इसमें सद्दाम अंसारी अब भी मधुपूर जेल में बंद है.

वहीं अधिकांश अपराधियों के गिरिडीह जेल से जमानत पर छूटने की बात कही जा रही है. हालांकि इस बात की अधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है, लेकिन पुलिस सूत्रों की माने तो सद्दाम अंसारी को कुछ महीने पहले ही कोरोना के कारण गिरिडीह जेल से मधुपूर जेल में शिफ्ट किया गया था.

पुलिस सूत्रों की माने तो गिरिडीह समेत दूसरे जिलें की पुलिस भी फिलहाल यही मानकर चल रही है कि जमानत पर छूटे इन अपराधियों ने ही एक बार फिर से शहर के अलावे गिरिडीह जिला और दूसरे पड़ोसी जिलों से बाइक चोरी कर रहे हैं. लेकिन गिरिडीह समेत पड़ोसी जिले की पुलिस इन अपराधियों को पकड़ भी नहीं पा रही है.

ये भी पढ़ें-  सरना धर्मकोड को लेकर मंगलवार को विधानसभा में प्रस्ताव लायेगी झारखंड सरकार

adv

जानकारी के अनुसार, दो साल पहले इन अपराधियों को जब पुलिस ने दबोचा था, तब यही बात सामने आई थी कि गिरफ्तार सभी अपराधी आपस में रिश्तेदार हैं. यही नहीं, पुलिस ने इन अपराधियों को दबोचने के बाद यह खुलासा भी किया था कि पूरे गिरोह का संचालन सद्दाम अंसारी ही करता था. हालांकि लोधा मियां और रफीक की भूमिका रेकी करना और चोरी के बाद रिसीवर के रुप में था.

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button