न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड के गांवों में दौड़ेगी बाइक एंबुलेंस, लातेहार में शुरू हो चुकी है सेवा

आसानी से पूरा हो सकेगा गांव के संकीर्ण रास्तों से अस्पताल तक का सफर

228

Ranchi : हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक, गोवा, तमिलनाडु, महाराष्ट्र के बाद अब झारखंड में भी बाइक एंबुलेंस सेवा शुरू कर दी गयी है. झारखंड के लातेहार जिला से इस कल्याणकारी योजना का शुभारंभ किया गया है. इस सेवा से मरीजों को गांवों के संकीर्ण रास्तों से होकर अस्पताल तक पहुंचने की सुविधा मिल सकेगी और समय रहते इलाज भी मिल जायेगा. प्रथम चरण में 20 बाइक एंबुलेंस तैयार की जा रही हैं.

झारखंड के गांवों में दौड़ेगी बाइक एंबुलेंस, लातेहार से शुरू हो चुकी है सेवा
संतोष कुमार सिंह.

इसे तैयार करने की जिम्मेदारी रांची के हरमू किशोरगंज स्थित प्रेमसंस होंडा को दी गयी है. शोरूम के सेल्स मैनेजर संतोष कुमार सिंह ने बताया कि शोरूम द्वारा तैयार की गयी बाइक एंबुलेंस का डेमो लोहरदगा के सुदूर क्षेत्र में किया गया था, जहां इसके उपयोग को सफल पाया गया. इसकी सफलता को देखते हुए लातेहार डीसी एवं डीटीओ ने इसे अपने जिला में आरंभ करने की पहल की, जिसके बाद अब तक 11 बाइक एंबुलेंस की सेवा लातेहार की जनता को मिल रही है. उन्होंने बताया कि 125 सीसी होंडा शाइन बाइक को एंबुलेंस के रूप में तैयार किया गया है.

इसे भी पढ़ें- डस्टबिन लगाने के बहाने खाया कमीशन ! जनता के 21 लाख निगम ने किये बर्बाद

क्या है बाइक एंबुलेंस

ग्रामीण एवं सुदूर क्षेत्रों में एंबुलेंस नहीं पहुंच पाती है, जिससे मरीजों को अस्पातल तक पहुंचने में काफी दिक्कत होती है. कभी-कभी मरीज अस्पताल पहुंचने से पहले ही दम तोड़ देते हैं. ऐसे में यह सुविधा काफी कारगर साबित होगी. बाइक एंबुलेंस सेवा लोगों को चिकित्सीय सुविधा देने के लिए आंरभ की गयी है. ग्रामीण एवं सुदूर क्षेत्र जहां एंबुलेंस नहीं पहुंच पाती है, ऐसे स्थानों पर पहुंचकर ये बाइक एंबुलेंस मरीज को नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाने का काम करेंगी. इस बाइक एंबुलेंस को चलाने की जिम्मेदारी सीआरपीएफ के जवानों को दी गयी है. ये जवान लातेहार के किसी भी स्थान में मरीज की सूचना मिलने पर तत्काल वहां पहुंचकर उन्हें अस्पताल पहुंचाने का काम कर रहे हैं. यदि मरीज को तुरंत इलाज की आवश्यकता हो, तो बाइक में यह सुविधा भी उपलब्ध करायी गयी है.

इसे भी पढ़ें- दुर्गा पूजा को लेकर 20 अक्टूबर तक के लिए बदली गयी राजधानी की ट्रैफिक व्यवस्था

बाइक एंबुलेंस में भी उपलब्ध है मेडिकल सुविधा

palamu_12

बाइक एंबुलेंस में एक मरीज और बाइक चालक के बैठने की व्यवस्था की गयी है. मरीज के बैठने के स्थान पर सीटबेल्ट भी दिया गया है. इससे मरीज को अच्छे से बिठाकर अस्पताल तक आसानी से पहुंचाया जा सकेगा. इसके अलावा बाइक में ही फर्स्ट एड बॉक्स भी बनाया गया है. बॉक्स में प्राथमिक उपचार से संबंधित मेडिकल किट रखे जा सकते हैं. वहीं, एंबुलेंस की तरह ही बाइक एंबुलेंस में सायरन भी अटैच किये गये हैं. यह बाइक गांव की पगडंडियों व संकीर्ण रास्तों में भी आराम से चल सकेगी.

झारखंड के गांवों में दौड़ेगी बाइक एंबुलेंस, लातेहार से शुरू हो चुकी है सेवा

इसे भी पढ़ें- 266 पुलिसकर्मियों के भरोसे रांची का ट्रैफिक विभाग

गोल्डेन आवर में बचाते हैं जान

बाइक एंबुलेंस रोगी को गोल्डेन आवर में आपात चिकित्सा, दवा, मेडिकल किट जैसी सुविधाएं उपलब्ध कराती है. इससे रोगी को आपात स्थिति में तत्काल सहायता मिलती है, ताकि अस्पताल से पहले जरूरी उपचार मिल जाये. इससे पहले जिन-जिन राज्यों में यह सेवा आरंभ की गयी है, वहां यह सफल रही है. मरीजों को तत्काल इलाज मिलने से उनकी जान बचने के चांसेस काफी हद तक बढ़ जाते हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: