न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जंगलराज की ओर बिहार ! तीन दिनों में तीसरा मर्डर, दरभंगा में एक व्यवसायी की गोली मारकर हत्या

1,921

Darbhanga: बिहार में सुशासन बाबू की सरकार सवालों के घेरे में है और कानून व्यवस्था ठंडे बस्ते में नजर आती है. राज्य में तीन दिनों में तीसरी हत्या हुई है. वही तीन दिनों में दूसरे व्यवसायी का मर्डर हुआ है. दरभंगा के रानीपुर के पास नेशनल हाइवे-57 पर बाइक सवार बदमाशों ने गोली मारकर व्यवसायी केपी शाही की हत्या कर दी.

इससे पहले शुक्रवार रात मुजफ्फरपुर के हथौड़ी में अज्ञात बदमाशों ने ठेकेदार लड्डू सिंह पर गोलियां बरसाकर उन्हें मौत के घाट उतार दिया था. वही इससे पहले गुरुवार 20 दिसंबर को पटना के बड़े व्यापारी गुंजन खेमका की हत्या कर दी.

2 दिन पहले हुई बीजेपी नेता के बेटे की हत्या

बिहार में बदमाशों के हौसले बुलंद है. 20 दिसंबर को बीजेपी नेता गोपाल खेमका के बेटे गुंजन खेमका की हत्या कर दी थी. बदमाशों ने उनपर ताबड़तोड़ फायरिंग की, जिससे गुंजन की मौके पर ही मौत हो गई थी. ये घटना तब हुई जब गुंजन पटना से वैशाली स्थित अपनी फैक्ट्री गए थे. उल्लेखनीय है कि गुंजन पर पहले भी हमला हो चुका था. गुंजन खेमका की गिनती बिहार के बड़े व्यवसायी में होती थी. ऐसे में दिन दहाड़े उनकी हत्या ने कानून व्यवस्था पर सवाल उठने लगे हैं.

तेजस्वी यादव का नीतीश सरकार पर हमला

तीन दिनों में तीन हत्याओं को लेकर नेता प्रतिपक्ष ने नीतीश सरकार को आड़े हाथों लिया है. पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने एक ट्वीट में लिखा, ‘मुजफ्फरपुर में एक व्यापारी की गोली मारकर हत्या. बिहार में गाजर-मूली की तरह लोग काटे जा रहे है. चहुंओर गोलियों की तड़तड़ाहट से आम आदमी खौफ में है. सीएम ने थानों की बोली लगा दी है. जेडीयू नेताओं और पुलिसकर्मियों के लिए शराबबंदी कामधेनु गाय बन गई है.’
इधर महज तीन दिन में दो बड़े कारोबारियों की हत्या से लोगों में उबाल है. सोशल मीडिया पर लोग मामले को लेकर तंज भी कस रहे हैं. लोगों का कहना है कि नीतीश इस वक्त बीजेपी और एलजेपी के साथ सीटें बांटने में व्यस्त हैं. इसी वजह से कानून व्यवस्था पर ध्यान नहीं दे पा रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंःसेवा में बने रह सकते हैं अपर मुख्य सचिव खंडेलवाल, वीआरएस से पहले गये छुट्टी पर

इसे भी पढ़ेंः मिनिमम बैलेंस न होने पर साढ़े तीन सालों में सरकारी बैंकों ने ग्राहकों से वसूले 10 हजार करोड़

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: