BiharKhas-Khabar

बिहारः उद्घाटन से पहले ही बह गया 1.42 करोड़ की लगात से किशनगंज में बन रहा पुल

पुल का एप्रोच रोड बनना था बाकी, ग्रामीणों ने निर्माण में लापरवाही का लगाया आरोप

विज्ञापन

Kishanganj: बिहार में नवंबर से पहले चुनाव होने हैं. विधानसभा चुनाव से पहले केंद्र सरकार की ओर से प्रदेश के लिए सौगातों की बौछार लगा दी गयी है. वहीं दूसरी ओर इस चुनावी माहौल में उद्घाटन से पहले ही किशनगंज में बन रहा पुल टूट गया है. बताया जा रहा है कि पुल पूरी तरह से बनकर तैयार था और केवल एप्रोच रोड बनना बाकी था. माना जा रहा था कि जल्द ही इस पुल का उद्घाटन भी किया जायेगा, लेकिन उसके पहले ही ये पुल टूट गया.

इसे भी पढ़ेंः CoronaUpdate:  संक्रमितों का आंकड़ा 52 लाख के पार, 10 लाख से अधिक एक्टिव केस

1.42 करोड़ की लगात से बन रहा था पुल

किशनगंज के दिघलबैंक प्रखंड के पथरघट्टी पंचायत के गोआबाड़ी गांव में कन्कई नदी पर बन रहा पुल ध्वस्त हो गया है. खबर है कि नदी की बरसाती धार में बन रहे निर्माणाधीन पुल का एक पाया धंस गया. फिर देखते ही देखते पूरा का पूरा पुल टूट गया.

advt

मिली जानकारी के मुताबिक इस पुल को बनाने में करीब 1.42 करोड़ रुपये का खर्च आया था. यह 26 मीटर स्पैन का पुल था. खबर है कि ये घटना 16 सितंबर यानी मंगलवार रात की है. बता दें कि लगातार दो दिनों से हो रही बारिश की वजह से नदी की दिशा बदल गई. और नदी की धार उस इलाके से निकली जहां पर निर्माणाधीन पुल था.
पुल के पास 20 मीटर का डायवर्जन बनाना था, लेकिन इसे नहीं बनाया गया. इसकी वजह से नदी की धार घूम गई और पुल टूट गया. डायवर्जन बना होता तो नदी की धार नहीं बदलती और पुल नहीं गिरता.

इसे भी पढ़ेंः फेमस फैशन डिजाइनर शरबरी दत्ता का निधन, बाथरूम में मिली लाश

adv

बाढ़ की त्रासदी झेलने को मजबूर बड़ी आबादी

बता दें कि ये गोआबाड़ी पुल जिस इलाके में बनाया जा रहा है, वह इलाका इन दिनों बाढ़ की त्रासदी झेल रहा है. पास के इलाका कई दिनों से पानी में डूबे हुए हैं. वहीं कई दिनों से हो रही बारिश के कारण पथरघट्टी के पास कनकई नदी का बहाव तेज हो गया और इस बहाव में पुल भी बह गया. पुल के ढह जाने के बाद यह पूरा इलाका एक टापू समान दिखाई दे रहा है. फिलहाल पुल के धंस जाने के कारण इस रास्ते खुद को मुख्य धारा से जोड़ने का आस वर्षों से संजोए ग्वाल टोली, गुवाबाड़ी, दोदरा, कमरखोद, बेलबारी, संथाल टोला आदि गांवों के हजारों की आबादी का इंतजार एक बार फिर से बढ़ गया है. ग्रामीणों का आरोप है कि पुल बनाने में लापरवाही बरती गई है, जिससे ये घटना घटी है.

इसे भी पढ़ेंः लक्ष्मी विलास पैलेस प्रकरणः मोदी सरकार के मंत्रियों व अफसरों को डरने की जरुरत

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button