JamshedpurJharkhand

बिहार स्पंज आयरन श्रमिक संगठन ने भी खोला मोर्चा, जमीनदाताओं को नौकरी दे प्रबंधन वरना बेमियादी धरना

बिहार स्पंज का संचालन अधिकार लेनेवाले वनराज स्टील के स्थानीय रैयतों और कामगारों को काम कर रखने से इनकार से लोगों में है आक्रोश

Chandil : चांडिल स्थित बिहार स्पंज आयरन कंपनी की विनिर्माण सुविधाओं और रेलवे साइडिग के संचालन का अधिकार कोलकाता के आधुनिक कंपनी वाले अग्रवाल बंधुओं के स्वामित्ववाले वनराज स्टील प्रा.लि. को दिये जाने के बाद से वहां स्थानीय लोगों में उबाल है. वनराज स्टील ने बिहार स्पंज को जमीन देनेवाले रैयतों और वहां कई साल से काम करनेवाले स्थानीय कामगारों को नौकरी पर रखने को तैयार नहीं है. गौरतलब है कि कई साल तक बंद रहने के बाद बिहार स्पंज प्रबंधन ने वनराज स्टील प्रा. लि. को विनिर्माण सुविधाओं और रेलवे साइडिंग के संचालन का अधिकार देने का करार किया है. बिहार स्पंज की कंपनी सेक्रेटरी हिमानी मित्तल ने 11 फरवरी 2021 को बांबे स्टॉक एक्सचेंज को पत्र लिखकर इसकी जानकारी दी है.  

इसे भी पढ़ें – चांडिल : अग्रवाल बंधुओं की वादाखिलाफी से बिफरे ग्रामीण, कहा – वापस मांगेंगे बिहार स्पंज की जमीन

advt

इधर कंपनी के शुरू होने की खबर से उत्साहित स्थानीय लोग तब आक्रोश में आ गये, जब नये प्रबंधन ने पुराने कामगारों और रैयतों को काम पर रखने के बदले फुल एंड फाइनल सेटलमेंट लेने को कहा. उसके बाद पिछले कुछ महीनों से वहां लगातार आंदोलन जारी है. अब बिहार स्पंज आयरन कंपनी प्रबंधन के रवैये के खिलाफ बिहार स्पंज आयरन श्रमिक संगठन ने भी मोर्चा खोल दिया है. रविवार को चांडिल के हुमिद स्थित श्रमिक संगठन के कार्यालय में लुसा मांझी की अध्यक्षता में हुई बैठक में कहा गया कि कंपनी प्रबंधन प्राथमिकता के आधार पर जमीनदाताओं को नौकरी दे, अन्यथा श्रमिक संगठन आंदोलन की राह पकड़ेगा. संगठन ने जमीनदाताओं एवं कामगारों से अपील की है कि जब तक कंपनी का प्रबंधन जमीनदाताओं को नौकरी एवं रोजगार देने का लिखित समझौता नहीं करता, तब तक कंपनी द्वारा दिया जा रहा फाइनल सेटेलमेंट स्वीकार नहीं करें. संगठन के प्रेस प्रवक्ता मनोज वर्मा ने कहा कि जमीनदाता चाहते हैं कि कंपनी निर्बाध रूप से चले, लेकिन कंपनी प्रबंधन को भी जमीनदाता एवं कामगारों के हित के बारे में सोचना होगा. कंपनी प्रबंधन पहले की तरह जमीनदाताओं एवं कामगारों को नौकरी पर बहाल करे. उन्होंने कहा कि इस संबंध में एक प्रतिनिधिमंडल डीएलसी एवं कंपनी प्रबंधन से मिलेगा, उसके बाद भी प्रबंधन सकारात्मक कदम नहीं उठाता है, तो श्रमिक संगठन के बैनर तले हुमिद में अनिश्चतकालीन धरना शुरू किया जायेगा. बैठक में महासचिव हराधन बेसरा, घासीराम टुडू, बुद्धेश्वर बेसरा, सोनू प्रमाणिक, बांका कर्मकार, सुबन बेसरा, श्यामल सिंह सरदार आदि उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें – कैडर बंटवारे से झारखंड आये बिहार निवासी कर्मी को आरक्षण का लाभ नहीं देने के झारखंड हाई कोर्ट के आदेश पर सुप्रीम कोर्ट की रोक

 

Nayika

advt

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: