Bihar

बिहारः राज्य में 16 अगस्त तक लॉकडाउन बढ़ाने की खबर अफवाह, सरकार ने किया खंडन

विज्ञापन

Patna: बिहार में कोरोना का संक्रमण तेजी से अपना पैर पसार रहा है. प्रदेश में अबतक 43,591 लोग इस महामारी की चपेट में आ चुके हैं. उनमें से 29,220 संक्रमित स्वस्थ हो चुके हैं. वहीं 269 लोगों की बीमारी से जान जा चुकी है. बढ़ते संक्रमण के बीच प्रदेश में लॉकडाउन बढ़ाये जाने की खबर सामने आ रही थी, जिसका बिहार सरकार ने खंडन किया है. और लॉकडाउन बढ़ाने की बात को भ्रामक बताते हुए कहा है कि अभी इस पर कोई निर्णय नहीं हुआ है.

इसे भी पढ़ेंःराज्य सूचना आयुक्त का पद खाली, छह हजार से ज्यादा अपील पेंडिंग

adv

16 अगस्त तक लॉकडाउन की खबर अफवाह

बता दें कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच बिहार में 31 जुलाई तक के लिए लॉकडाउन है. वही मीडिया और सोशल मीडिया में राज्य में लॉकडाउन बढ़ाये जाने की खबर तेजी से फैल गयी है. जिसका बिहार सरकार ने खंडन किया है.  सूचना एवं जनसंपर्क विभाग की ओर से जारी लेटर में इस खबर का खंडन किया गया है.

लॉकडाउन की खबर का खंडन करते हुए बिहार सरकार की ओर से जारी पत्र

पत्र में कहा गया है कि लॉकडाउन बढ़ाने पर फिलहाल बिहार सरकार की ओर से कोई निर्णय नहीं लिया गया है, ना ही कोई चिट्ठी जारी की गयी है. बता दें कि बीते कुछ दिनों में इस महामारी का संक्रमण तेजी से बढ़ा है. प्रदेश में रोजाना लगभग दो हजार नये केस सामने आ रहे हैं. वहीं औसतन पांच लोगों की जान बीमारी के कारण जा रही है.

 

इसे भी पढ़ेंःCoronaUpdate: मेदिनीनगर शहर से 64 समेत पलामू से 128 नये केस, 384 पहुंचा आंकड़ा

रिकवरी रेट 67.03 प्रतिशत

बिहार में कोरोना के केसेज तेजी से बढ़े हैं. बीते चार दिनों से रोजाना दो हजार से अधिक नये मामले सामने आ रहे हैं. राज्य में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 43,591 हो गयी है. वहीं 29,220 संक्रमित लोग स्वस्थ हो चुके हैं. जबकि 269 लोगों की मौत हो चुकी है.

हालांकि, बिहार में कोरोना संक्रमितों की रिकवरी रेट 67.03 फीसदी है, जो राष्ट्रीय औसत से अधिक है. बीते 24 घंटे में 1376 लोगों ने इस संक्रमण को मात दी है. बिहार में अब रोजाना 16 हजार से ज्यादा सैंपल की जांच की जा रही है.

इसे भी पढ़ेंःCID जांच से सामने आया सांसद निशिकांत के फर्जी MBA सर्टिफिकेट का सच, डीयू ने कहा- सही है RTI

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close