Bihar

बिहार : विपक्ष को EVM से छेड़छाड़ का अंदेशा, BJP ने कहा- हताश हो चुका है विपक्षी महागठबंधन

Patna : बिहार में विपक्षी महागठबंधन ने आरोप लगाया कि लोकसभा चुनाव के नतीजों को सत्तारूढ़ राजग के पक्ष में करने के लिए हेराफेरी के प्रयास किए जा रहे हैं. साथ ही आगाह किया कि जबरदस्त जनाक्रोश के कारण सड़कों पर खून की नदियां बह सकती हैं.

इस पर पलटवार करते हुए भाजपा ने कहा कि आसन्न हार को देखते हुए विपक्षी महागठबंधन हताश हो चुका है और उसका बयान सशस्त्र विद्रोह के लिए उकसाने जैसा है.

राजग को 40 में से 30 से अधिक सीटों का अनुमान गुमराह करने वाला

राजद के प्रदेश प्रमुख रामचंद्र पूर्वे, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा और महागठबंधन के अन्य नेताओं के साथ रालोसपा प्रमुख एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा ने आरोप लगाया कि एग्जिट पोल में बिहार में राजग को 40 में से 30 या उससे अधिक सीटों का अनुमान गुमराह करने वाला है. इसका एकमात्र उद्देश्य हमारे कार्यकर्ताओं का उत्साह भंग करने का है.

advt

कुशवाहा ने पत्रकारों से कहा कि पहले हम बूथ लूट के बारे में सुनते थे. इस बार, ऐसा संदेह है कि नतीजों को लूटने का प्रयास किया जा सकता है. यह ईवीएम से छेड़छाड़ या मतगणना केन्द्र पर अन्य तरह की गतिविधियों द्वारा किया जा सकता है.

राजग के नेताओं को ऐसे किसी भी गलत काम में लिप्त ना होने की चेतावनी दी जाती है. जबरदस्त जनाक्रोश से सड़कों पर खून की नदियां बह सकती हैं, जिसके लिए हम जिम्मेदार नहीं होंगे.

उन्होंने कहा कि एग्जिट पोल इस दिशा की ओर एक कदम प्रतीत होते हैं. हम सभी ने चुनाव के दौरान राज्य का दौरा किया है और बिना किसी हिचकिचाहट के कह सकते हैं, हम राज्य में हर एक सीट पर जीत रहे हैं. लोगों की प्रतिक्रिया महागठबंधन के पक्ष में है.

गौरतलब है कि बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री और राजद नेता राबड़ी देवी ने भी एक बयान जारी कर ‘‘राज्य के कुछ हिस्सों में स्ट्रांग रूम के बाहर ईवीएम के मिलने’’ पर सवाल उठाया और पूछा कि ‘‘कहां पर इसे रखा गया था और कहां इसे ले जाया जा गया और मकसद क्या है.

adv

भाजपा की प्रतिक्रिया

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राजनीतिक दलों द्वारा ईवीएम के दुरुपयोग को लेकर जताई गई आशंकाओं को ‘‘झूठा’’ करार दिया. मुख्यमंत्री ने कहा कि ईवीएम के इस्तेमाल से चुनावी प्रक्रिया में बहुत पारदर्शिता आई है.

उन्होंने कहा कि जब राजनीतिक दलों का सामना हार से होता है तो वे इस तरह के झूठे आरोप लगाने पर उतर आते हैं. मोदी सरकार के सत्ता में आने से पहले से ईवीएम का इस्तेमाल होता रहा है. मैं हमेशा से इसके समर्थन में रहा हूं क्योंकि यह तकनीक चुनावी प्रक्रिया में बहुत पारदर्शिता लेकर आई है.

वहीं, प्रदेश भाजपा के प्रवक्ता निखिल आनंद ने कुशवाहा की टिप्पणी पर तीखी प्रतिक्रिया जताते हुए इसे अलोकतांत्रिक और असंवैधानिक बताया.

 

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button