Bihar

बिहार: नीतीश ने बाढ़ प्रभावित इलाकों का किया निरीक्षण, कहा जल्द सामान्य होंगे हालात

विज्ञापन

Patna: बिहार में पिछले तीन दिनों से जारी मूसलाधार बारिश के कारण जनजीवन के अस्तव्यस्त होने के बीच अनेक हादसों में अब तक 42 लोगों की जान जा चुकी है. वहीं, 9 अन्य व्यक्ति घायल हुए हैं.

आपदा प्रबंधन मंत्री लक्ष्मेश्वर राय ने मंगलवार को बताया कि अत्याधिक बारिश के कारण 42 लोगों के मारे जाने और नौ लोगों के घायल होने की सूचना है.

advt

इसे भी पढ़ें- #GSTCollection: आर्थिक मोर्चे पर मोदी सरकार के लिए बुरी खबर, GST कलेक्शन में 6 हजार करोड़ से ज्यादा की गिरावट

कहां कितने लोगों की हुई मौत

भारी वर्षा से मरने वाले 42 लोगों में भागलपुर में दस, गया में छह, पटना एवं कैमूर में चार-चार, खगड़िया एवं भोजपुर में तीन-तीन, बेगूसराय, नालंदा एवं नवादा में दो-दो, पूर्णिया, जमुई, अरवल, बांका, सीतामढ़ी और कटिहार में एक-एक व्यक्ति शामिल हैं.

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को पटना के जलमग्न हो गये इलाकों का निरीक्षण किया और अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये. पटना के एक अणे मार्ग स्थित अपने सरकारी आवास से गांधी मैदान होते हुए नीतीश ने मंगलवार को शहर के जलजमाव वाले क्षेत्रों का मुआयना किया.

adv

मुख्यमंत्री ने श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में चलाये जा रहे आपदा राहत बचाव कार्य के लिये राहत सामग्री आपूर्ति, भंडारण, पैकेटिंग एवं निर्गत केंद्र का जायजा लिया. उन्होंने इसके पश्चात सैदपुर के जलजमाव वाले क्षेत्रों का जायजा लिया और अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये. साथ ही उन्होंने कहा कि जल्द से जल्द हालात सामान्य होंगे.

इसे भी पढ़ें- कोल्हान की सीटों पर #JMM के दावे पर #Congress की सहमति, #Mahagathbandhan पर हुई बातचीत

जल निकासी के कार्य में तेजी लाने का निर्देश

निरीक्षण के उपरांत मुख्यमंत्री ने जलभराव से प्रभावित क्षेत्रों के लोगों से मुलाकात कर उनकी समस्यायें सुनी तथा उनके निदान के लिए अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये. मुख्यमंत्री ने जल निकासी के कार्य में तेजी लाने का निर्देश दिया.

बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने सचिवालय स्थित अपने कार्यालय कक्ष में मंत्रियों, स्थानीय विधायकों व पटना नगर निगम, बुडको तथा नगर विकास विभाग के आला अधिकारियों के साथ उच्चस्तरीय बैठक कर जलमग्न इलाकों में उच्च क्षमता के पम्प लगा कर जमे हुए पानी में अगले 48 घंटे में उल्लेखनीय कमी लाने का निर्देश दिया.

उन्होंने बताया कि कोल इंडिया, एनटीपीसी और कल्याणपुर सीमेंट से मंगाए गए उच्च क्षमता के पम्पों के जरिए कंकड़बाग और राजेन्द्र नगर जैसे सर्वाधिक प्रभावित इलाकों से पानी को निकाला जायेगा.

बैठक में अन्य अलग-अलग मुहल्लों में जमे पानी को 50 नये पम्पों के जरिए युद्ध स्तर पर निकालने के साथ ही जल संसाधन विभाग से भी पम्प मंगाने का निर्णय लिया गया.

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close