BiharBihar UpdatesEducation & CareerNEWS

Bihar News : बिहार के 149 जर्जर आईटीआई की सूरत बदलेगी टाटा टेक्नोलॉजी, सेंटर्स ऑफ एक्सीलेंस में बदलने का हुआ समझौता

 भविष्य की जरूरतों को ध्यान में रख ये आईटीआई बनेंगे सेंटर ऑफ एक्सीलेंस

Jamshedpur : वैश्विक स्तर की इंजीनियरिंग और उत्पाद विकास डिजिटल सेवा कंपनी टाटा टेक्नोलॉजीज, बिहार के सरकारी औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आईटीआई) को अपग्रेड कर इस पुर्नद्धार करेगी. सोमवार 31 जनवरी को टाटा टेक्नोलॉजी ने इसे लेकर बिहार सरकार के साथ एक समझौता (एमओयू) किया. इस समझौते के तहत 149 सरकारी औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों (आईटीआई) में सुधार लाकर उन्हें उत्कृष्टता केंद्र (सेंटर्स ऑफ एक्सीलेंस – सीओई) में बदला जाएगा. अपग्रेडेशन के बाद यह उत्कृष्टता केंद्र छात्रों के साथ-साथ भावी नियोक्ताओं की उन्नत कौशल आवश्यकताओं को पूरा करेंगे.  इतना ही नहीं, सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमियों के लिए प्रौद्योगिकी और औद्योगिक केंद्र के रूप में भी कार्य करेंगे. इस परियोजना के तहत लगभग 4,606.97 करोड़ रुपयों का निवेश किया जायेगा.

पहले चरण में 60 केंद्रों को सेंटर्स ऑफ एक्सीलेंस बनाया जायेगा

इन 149 उत्कृष्टता केंद्रों में सभी सुविधाओं को अपग्रेड करके इस परियोजना को लागू करने के लिए टाटा टेक्नोलॉजीज विश्व स्तर के 20 उद्योग साझेदारों के साथ सहयोग कर रहा है. प्रौद्योगिकी के उन्नत क्षेत्रों में विनिर्माण के अपने ज्ञान और कौशल का लाभ उठाते हुए एक आईटीआई पाठ्यक्रम विकसित कर रहा है,  प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन कर रहा है, और उत्कृष्टता केंद्रों में उपकरण और सॉफ्टवेयर सहायता प्रदान कर रहा है. पहले चरण में सितंबर 2022 तक 60 केंद्रों को सेंटर्स ऑफ एक्सीलेंस में अपग्रेड किया जाएगा. शेष 89 केंद्रों को जून 2023 तक सेंटर्स ऑफ एक्सीलेंस में बदला जायेगा. कंपनी अपने उद्योग साझेदारों के साथ 298 प्रशिक्षण कर्मियों को भी तैनात करेगी और उन्नत उपकरणों और उपकरणों की तैनाती की सुविधा प्रदान करेगी. भविष्य की उद्योग आवश्यकताओं के अनुसार बुनियादी कार्यबल के कौशल को उन्नत करना और प्रशिक्षणर्थियों को उद्योगों में प्लेसमेंट में वरीयता पाने में मदद करने के लिए एक मंच प्रदान करना टाटा टेक्नोलॉजीज़ का उद्देश्य है. इससे राज्य भर में उन्नत कौशल की उपलब्धता में भी सुधार होगा जो स्मार्ट विनिर्माण के लिए आवश्यक है और कौशल आधारित विनिर्माण के लिए प्रोत्साहन प्रदान करेगा, जिससे इंडस्ट्री 4.0 प्रौद्योगिकियों में निवेश को बढ़ावा मिलेगा.

इससे बिहार में निवेश की संभावनाएं बढ़ेंगी

इस अवसर पर बिहार राज्य के श्रम संसाधन मंत्री जिबेश कुमार ने कहा, “आईटीआई को उत्कृष्ट केंद्र में परिवर्तन राज्य के प्रौद्योगिकी परिदृश्य को बदल देगा और राज्य के युवाओं के लिए कौशल और रोजगार के बेहतर अवसर निर्माण करेगा. क्षेत्र की युवा प्रतिभा को प्रशिक्षित करने और इन सीओई के माध्यम से उन्हें एक औद्योगिक मंच प्रदान करने की इस पहल को लागू करने से बिहार, उन उद्योगों के लिए एक निवेश गंतव्य बनेगा, जो इंडस्ट्री 4.0 और विनिर्माण के लिए स्मार्ट प्रौद्योगिकियों को अपनाने के इच्छुक हैं. इन सीओई में नए तकनीकी रूप से उन्नत 23 व्यापार पाठ्यक्रमों की सुविधा प्रदान की जाएगी, जिसमें इलेक्ट्रिक वेहिकल्स, रोबोटिक्स, डिजिटल मैन्युफैक्चरिंग, आईओटी, ऑटोमेशन और आर्टिसनशिप जैसी कुछ नवीनतम तकनीकों को शामिल किया जाएगा जिनकी मांग काफी ज़्यादा है. अपग्रेड के बाद छात्रों को सभी ट्रेडों में सीओई द्वारा प्रदान किए गए सर्टिफिकेशन के अलावा प्रौद्योगिकी/ओईएम प्रदाताओं से कई प्रमाणपत्र भी दिए जा सकते हैं, जिससे उनके लिए रोजगार के बेहतर अवसरों का लाभ उठा पाएंगे.

इंडस्ट्री 4.0 के सपने होंगे साकार

टाटा टेक्नोलॉजीज़ के अध्यक्ष पवन भगेरिया ने कहा, भारत ऐसे प्रौद्योगिकी नवाचारों की राह पर निकल चका है जो विनिर्माण और इंडस्ट्री 4.0 के भविष्य को आकार दे रहे हैं. वैश्विक ओईएम के साथ मिलकर नई तकनीकों और समाधानों पर काम करने का हमारा अनुभव और विनिर्माण मूल्य श्रृंखला की हमारी समझ के आधार पर हम ऐसे पाठ्यक्रम विकसित करेंगे, जो उद्योग के लिए अनुकूल होंगे और छात्रों को निर्माण कंपनियों द्वारा मांगे जा रहे कौशल से लैस करेंगे.

इन क्षेत्रों में कौशल विकास होगा

यह अपग्रेडेड उत्कृष्टता केंद्र ऐसे क्षेत्रों के लिए कौशल विकास की सुविधाएं प्रदान करेंगे जो इंडस्ट्री 4.0, उत्पाद डिज़ाइन और विकास, उत्पाद सत्यापन और वर्चुअल विश्लेषण, कारीगरों और हैंडीक्राफ्ट्स के लिए डिज़ाइन, एडिटिव मैन्युफैक्चरिंग (3 डी प्रिंटिंग), आधुनिक ऑटोमोटिव रखरखाव मरम्मत और ओवरहाल, बैटरी इलेक्ट्रिक वेहिकल प्रशिक्षण, आईओटी और डिजिटल इंस्ट्रुमेंटेशन, एचएमआई के साथ प्रक्रिया नियंत्रण और स्वचालन, पीएलसी एससीएडीए, उन्नत विनिर्माण और प्रोटोटाइपिंग, आर्क वेल्डिंग के साथ औद्योगिक रोबोटिक्स, एआई-आधारित वर्चुअल वेल्डिंग और पेंटिंग, उन्नत प्लम्बिंग, डिजिटल मीटर, कृषि और बागवानी से संबंधित हैं। सभी केंद्र संचार, ई-लर्निंग प्लेटफॉर्म आदि के लिए उपग्रह के साथ जुड़े हुए हैं.

इसे भी पढ़ें – झामुमो ने रघुवर दास पर साधा निशाना, कहा- बतायें, शेखर अग्रवाल कौन हैं

 

Related Articles

Back to top button