न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बिहार राजग में रार थमी , सीट बंटवारे का फार्मूला तय! रविवार को हो सकती है घोषणा

बिहार राजग में 2019 लोकसभा चुनाव के लिए सीट बंटवारे को लेकर जारी रार खत्म होने के आसार हैं. जानकारी के अनुसार शनिवार को राजग सहयोगियों के बीच होने वाला सीटों का ऐलान अब रविवार को होगा.

1,323

NewDelhi : बिहार राजग में 2019 लोकसभा चुनाव के लिए सीट बंटवारे को लेकर जारी रार खत्म खत्म होने की खबर है. जानकारी के अनुसार शनिवार को राजग सहयोगियों के बीच होने वाला सीटों का ऐलान अब रविवार को होगा. सूत्रों के अनुसार दिल्ली में एनडीए के तीन सहयोगियों भाजपा, जदयू और लोजपा की प्रस्तावित साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस अब रविवार को होगी. इससे पूर्व मैराथन बैठक और नेताओं के बीच कई मुलाकातों के बाद भाजपा और लोजपा में सीटों के बंटवारे पर सहमति बन जाने की खबर है. सूत्रों के अनुसार अब रविवार को सुबह 11.30 बजे भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के आवास पर तीनों दलों के नेताओं की बैठक होगी. इस बैठक के बाद ही सीट बंटवारे को लेकर कोई ऐलान होने की उम्मीद है;  बिहार में लोजपा के पांच लोकसभा सीटों पर लड़ने की संभावना है;  इसके अलावा लोजपा चीफ रामविलास पासवान को राज्यसभा भेजा जा सकता है.  सूत्रों के अनुसार इस समझौते के तहत लोजपा को एक लोकसभा सीट यूपी में भी मिलेगी.

mi banner add

रविवार को एनडीए में सीटों के बंटवारे को लेकर दिल्ली में अहम घोषणा हो सकती है. बताया जा रहा है कि लोजपा के नेता इस समय मुंबई में हैं और इसी वजह से बैठक टल गयी है.  रविवार को बिहार में एनडीए में शामिल तीनों पार्टियां संयुक्त रूप से प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपनी एकजुटता भी साबित करने की कोशिश करेंगी.

लोजपा को मनाने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को आगे आना पड़ा

Related Posts

कर्नाटक : सियासी ड्रामा जारी, फ्लोर टेस्ट अटका,  विधानसभा शुक्रवार तक के लिए स्थगित ,भाजपा  धरने पर

भाजपा अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा ने कहा कि वे विश्वास मत पर फैसले तक सदन में रहेंगे.  हम सब यहीं सोयेंगे.

बिहार में एनडीए में सीटों के बंटवारे को लेकर यह रार तब शुरू हुई जब भाजपा और जदयू ने 50-50 फॉर्म्यूला के तहत बिहार में बराबर सीटों पर लड़ने की घोषणा की.  तब लोजपा को चार और आरएलएसपी को दो सीटें देने की तैयारी थी.  इसे लेकर एनडीए में शामिल रही आरएलएसपी ने मुखर विरोध शुरू किया और बाद में मतभेद जारी रहने के साथ वह गठबंधन से अलग हो गयी.  उधर, गठबंधन में शामिल लोजपा ने भी सीटों के बंटवारे पर अपने तेवर तल़्ख किये.

उसके बाद बिहार में गठबंधन  बचाने और लोजपा को मनाने के लिए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को खुद आगे आना पड़ा. शाह ने गुरुवार को रामविलास पासवान और चिराग को संदेश भिजवाकर घर बुलवाया और गिले-शिकवे दूर करने की कोशिश की. बता दें कि बिहार में लोकसभा की 40 सीटें हैं. समझौते के तहत जदयू को 18, भाजपा को 17 और लोजपा को पाचं सीटें मिल सकती हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: