BokaroJharkhand

ठेकेदार के साथ बिहार मजदूरी करने गए बेटे का नहीं मिल रहा सुराग, मां और पत्नी ने CM से लगाई गुहार

विज्ञापन

Bermo. गोमिया प्रखंड अंतर्गत महुआटांड़ के पुन्नू निवासी ठेकेदार निजाम अंसारी के साथ एक वर्ष पूर्व बिहार मजदूरी करने गए बेटे का कोई सुराग नहीं मिलने से नावाडीह प्रखंड के ऊपरघाट स्थित कंजकिरो निवासी मजदूर की लगभग 70 वर्षीय बूढ़ी मां जेसिया देवी और उसकी पत्नी सूरति देवी और बच्चे काफी चिंतित व परेशान हैं.

ये भी पढ़ें- इनोवेशन व आंत्रप्रेन्योर के आधार पर जारी राष्ट्रीय रैंकिंग में झारखंड के केवल 5 उच्च शिक्षण संस्थान

उन्होंने अपने लापता मजदूर बेटे का सुराग लागने की गुहार न्यूज विंग के माध्यम से सूबे के सीएम हेमंत सोरेन से की है. जबकि मजदूर के मां और उसकी पत्नी काम पर ले जाने वाले ठेकेदार की माने तो किसी प्रकार का कोई लेना देना ही नहीं है.

advt

पीड़ित मां

जून 2019 में गया था बिहार

दरअसल, जून 21019 में गोमिया प्रखंड के महुआटांड़ अंतर्गत पुन्नू निवासी ठेकेदार निजाम अंसारी बोकारो थर्मल के लाल चौक स्थित हरिजन बस्ती निवासी रतन भुईंया, विश्वास भुईंया, कतवा भुईंया, कंजकिरो निवासी बिरसा गंझू सहित कई मजदूरों को बिहार के मोकामा स्थित गंगा नदी पर बने राजेंद्र सेतु पर सड़क एवं पुल की मरम्मति के काम में बतौर मजदूरी करने ले गया था.

adv

ठेकेदार

बिहार काम करने गए उपरोक्त मजदूरों का कहना था कि लगभग 6 माह से भी ज्यादा समय तक काम करवाने के बाद भी ठेकेदार ने उन्हें किसी प्रकार की मजदूरी नहीं दी गयी थी. इसी बीच एक दिन बिरसा गंझू लापता हो गया. मजदूरों का कहना है कि बिरसा गंझू को आसपास के इलाकों में काफी खोजा गया, परंतु बिरसा का कोई सुराग नहीं मिला.

लॉकडाउन में लौटे मजदूर लेकिन बिरसा गंझू का नहीं मिला सुराग

मजदूरों ने कहा कि काम के बाद भी मजदूरी नहीं मिलने और अन्य परेशानियों को देखते हुए अंत में वे सभी बोकारो थर्मल लॉकडाउन के पहले ही लौट आये. मजदूरों के वापस लौटने की खबर पाकर बिरसा की मां उनसे अपने बेटे के बारे में जानकारी लेने गयी तो उन्होंने भी कोई सटीक जानकारी उन्हें नहीं दी.

ये भी पढ़ें- कोरोना काल में भी जनता दरबार लगा रहे उपायुक्त, युवक की शिकायत- तांत्रिक के पास रोज आते हैं सैकड़ों लोग

मंगलवार को इस संबंध में हरिजन बस्ती निवासी रतन भुईंया से पूछा गया तो उसने सारी जानकारी दी. अपने लापता बेटे के बारे में सुनकर 70 वर्षीय बूढ़ी मां जेसिया देवी दहाड़े मारकर रो पड़ी. उसने कहा कि बिरसा उसका इकलौता बेटा था, परिवार के पालन पोषण के लिए बिहार कमाने गया था, कमाकर एक भी रुपया नहीं भेजा, इसके उलट उसका सुराग भी नहीं मिल रहा है. उसने अपने बेटे को खोजने में मदद की गुहार लगाई है.

advt
Advertisement

5 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button