BiharBihar Election 2020Bihar UpdatesMain Slider

बिहार : बाहुबली आनंद मोहन की पत्नी लवली आनंद राजद में शामिल हुई

Patna :  बिहार में इन दिनों राजनीतिक पारा गर्म है. चुनाव आयोग ने विधानसभा चुनावों की घोषणा कर दी है. चुनावों से ठीक पहले एक बड़ी खबर आयी है कि जेल में बंद बाहुबली नेता अनंद मोहन की पत्नी लवली आनंद ने राष्ट्रीय जनता दल का दामन थाम लिया है. सोमवार की सुबह लवली आनंद पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के आवास पर पहुंची और उनसे आशीर्वाद लिया. गौरतलब है कि पिछले लोकसभा चुनावों में लवली आनंद ने जदयू सुप्रीमो नीतीश कुमार के पक्ष में प्रचार किया था. लवली आनंद को राजद प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने पार्टी की सदस्यता ग्रहण दिलाई. बता दें कि लवली आनंद के पति आनंद मोहन सिंह, गोपालगंज के डीएम जी कृष्णैया की हत्या के मामले में उम्रकैद की सजा काट रहे हैं.

Jharkhand Rai

इसे भी पढ़ें :Covid- 19 : क्या हवा के जरिए भी फैल सकता है वायरस, यह पता लगाने के लिए सीसीएमबी ने शुरू किया अध्ययन

नीतीश सरकार ने धोखा दिया

सदस्यता ग्रहण करने के बाद लवली आनंद ने कहा कि वे राजद के साथ हैं. पार्टी जो भी जिम्मेदारी देगी उसे वे निभायेंगी. उन्होंने यह भी कहा कि नीतीश सरकार ने उन्हें धोखा दिया है. पति आनंद मोहन को जेल भेजकर वे सत्ता सुख का आनंद ले रहे हैं. लवली ने कहा कि अब वे राजद के साथ हैं और पार्टी की बेहतरी के लिए काम करेंगी. तेजस्वी को मुख्यमंत्री बनाने के लिए पूरा जोर लगायेंगे.

आरजेडी प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने मौके पर कहा कि लवली आनंद के आने से पार्टी को मजबूती मिलेगी. वे पूरी ताकत के साथ पार्टी के लिए काम करेंगी. हम मिलकर तेजस्वी यादव को मुख्यमंत्री बनाएंगे.

Samford

इसे भी पढ़ें :मोदी सरकार पर राहुल गांधी का हमलाः किसानों की आवाज संसद और बाहर दोनों जगह दबाई गई

बिहार पीपुल्स पार्टी से राजनीति की शुरूआत 

बिहार की राजनीति में लवली आनंद जाना पहचाना नाम है. उन्होंने अपने राजनीतिक सफर की शुरुआत बिहार पीपुल्स पार्टी से की थी. यह उनके पति आनंद मोहन सिंह की पार्टी थी. 1994 में उन्होंने वैशाली उपचुनाव में पूर्व मुख्यमंत्री सत्येंद्र नारायण सिन्हा की पत्नी किशोरी सिन्हा को हराया था. इस जीत के बाद उनका कद काफी बढ़ गया था. 2014 के आम चुनाव से पहले तक वह कांग्रेस में थीं. 2014 के चुनाव में कांग्रेस ने उन्हें टिकट नहीं दिया. इसके बाद वे समाजवादी पार्टी (सपा) के टिकट पर चुनाव लड़ीं, जिसमें उनकी हार हो गईं. फिर 2015 में वह जीतनराम मांझी की पार्टी हिन्दुस्तानी अवाम मोर्चा (सेकुलर) से जुड़ी. जनवरी 2019 में लवली आनंद ने वापस कांग्रेस ज्वाइन किया.यह साफ है कि लवली आनंद का राजनीतिक जीवन काफी उतार चढाव वाला रहा है.

इसे भी पढ़ें :खामोशी से चले गये गीतकार अभिलाष…इतनी शक्ति हमें देना दाता जैसे गीत लिखे थे

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: