न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बिहार : चार लाख नियोजित शिक्षकों को झटका, नियमित करने से कोर्ट का इनकार

698

New Delhi : बिहार में करीब चार लाख नियोजित शिक्षकों को शुक्रवार को उस समय झटका लगा जब सुप्रीम कोर्ट ने उनकी सेवाएं नियमित करने से इनकार कर दिया.

साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने पटना हाईकोर्ट के उस फैसले को भी दरकिनार कर दिया जिसके कहा गया था कि ये शिक्षक समान कार्य के लिए समान वेतन पाने के पात्र हैं.

इसे भी पढ़ेंःमार्च, अप्रैल 2019 में 3,600 करोड़ से अधिक के चुनावी बॉन्ड बेचे गए : RTI

नियोजित शिक्षकों के साथ नियमित शिक्षकों जैसा व्यवहार करने से इनकार

न्यायमूर्ति अभय मनोहर सप्रे और न्यायमूर्ति यू यू ललित की पीठ ने 31 अक्टूबर, 2017 के हाई कोर्ट के आदेश को चुनौती देने वाली बिहार सरकार की याचिका को स्वीकार करते हुए नियोजित शिक्षकों के साथ नियमित शिक्षकों जैसा व्यवहार करने से इनकार कर दिया.

इसे भी पढ़ेंः‘हुआ तो हुआ’ बयान पर सैम पित्रोदा ने माफी मांगी, कहा- मेरी हिंदी अच्छी नहीं

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि बिहार सरकार द्वारा शिक्षकों के लिए दो अलग-अलग धाराओं या संवर्गों को रखना उचित है और ‘नियोजित’ (अनुबंधित) शिक्षकों के अधिकारों का कोई उल्लंघन नहीं हुआ है और न ही उनके खिलाफ कोई भेदभाव किया गया है.

हालांकि, अदालत ने नियोजित शिक्षकों को प्रारंभिक स्तर पर दिये जा रहे वेतनमान को लेकर चिंता जताई और सुझाव दिया कि राज्य ऐसे शिक्षकों के वेतनमान को कम से कम उस स्तर पर बढ़ाने पर विचार कर सकती है जिसका सुझाव तीन सदस्यीय समिति ने दिया है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

hosp22
You might also like
%d bloggers like this: