BiharBihar UpdatesELECTION SPECIAL

Bihar Election: नीतीश कुमार का बड़ा दांव, कहा- आबादी के हिसाब से मिले लोगों को आरक्षण

Patna: बिहार विधानसभा चुनाव के बीच सियासी दांव पेंच जारी है. वहीं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सियासी बिसात में आरक्षण की इंट्री करवा कर एक बड़ा दांव चला है. उन्होंने पश्चिमी चंपारण के वाल्मीकिनगर में चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए आबादी के हिसाब से आरक्षण देने की वकालत की है. उनका कहना है कि उनकी हमेशा से यही राय रही है और वो इस पर कायम है कि जातियों को उनकी आबादी के हिसाब से ही आरक्षण मिलना चाहिए.

इसे भी पढ़ेंः  डरना जरूरी है…कोरोना वायरस को छोड़िए…  दुनिया में मौजूद हैं 850,000 अज्ञात खतरनाक वायरस : रिपोर्ट

आबादी के हिसाब से आरक्षण मिले

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को कहा कि लोगों को आबादी के हिसाब से आरक्षण मिले, इसमें कोई दो राय नहीं है. नीतीश कुमार ने पश्चिमी चंपारण के वाल्मीकिनगर में चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, ‘ हम तो चाहेंगे कि जितनी आबादी है, उसके हिसाब से आरक्षण का प्रावधान होना चाहिए. इसमें हम लोगों की कहीं से कोई दो राय नहीं है.’ उन्होंने कहा कि जहां तक संख्या का सवाल है, जनगणना होगी तब उसके बारे में निर्णय होगा . यह निर्णय हमारे हाथ में नहीं है .

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘मुझे वोट की चिंता नहीं रहती है. आपने पहले काम करने का मौका दिया तब काफी काम किया. फिर काम करने का मौका मिला तो फिर आपके बीच आएंगे, आपके साथ बैठेंगे और कोई समस्‍या शेष रह गई हो तो उसका समाधान करेंगे.’

इसे भी पढ़ेंः जम्मू कश्मीर: बीजेपी के तीन कार्यकर्ताओं की हत्या के बाद आतंकी संगठन TRF ने दी धमकी

बता दें कि पश्चिमी चंपारण के वाल्मीकि नगर में थारू जाति के काफी वोट हैं और ये जाति जनजाति में शुमार करने की मांग उठा रही है. जनसभा में नीतीश कुमार ने ये भी कहा कि थारू को आरक्षण का फायदा दिलाने के लिए वो सालों से प्रयासरत हैं. असल में यहां प्रचार करने के लिए पहुंचे नीतीश के सामने थारू जाति ने पुरजोर तरीके से आरक्षण का मसला रखा था.

बता दें कि बिहार में पहले चरण की वोटिंग हो चुकी है. 71 सीटों पर मतदान के बाद दो चरण का मतदान शेष है. दो चरण की वोटिंग से पहले हर पार्टी जी-तोड़ कोशिश कर रही है. राज्य में बेरोजगारी, कानून व्यवस्था से लेकर घोटालों तक की जमकर चर्चा हो रही है. अब इसमें आबादी के अनुसार आरक्षण का दांव भी जुड़ गया है. बिहार में 10 नवंबर को चुनाव के नतीजे सामने आय़ेंगे.

इसे भी पढ़ेंः विश्व बैंक को 2020 में भारत भेजी जाने वाली धनराशि में नौ फीसदी की गिरावट का अंदेशा

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: