BiharCrime News

बिहार : मंदिर निर्माण के दौरान भूमि-विवाद में मारपीट, दस राउंड फायरिंग, छह जख्मी

Manjhi: मांझी थाना क्षेत्र के गरया टोला गांव में जरती माई मंदिर के निर्माण के दौरान उत्पन्न भूमि-विवाद में दो पक्षों के बीच जमकर हुई मारपीट की घटना में छह लोग गम्भीर रूप से जख्मी हो गए. मारपीट के दौरान दोनों पक्षों की ओर से तलवार तथा गंड़ासे जैसे धारदार हथियारों का भी जमकर इस्तेमाल किया गया वहीं गोली भी चली.

घटना की सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस की देख-रेख में सभी घायलों को मांझी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में भर्ती कराया गया, जिनमें से गम्भीर रूप जख्मी कृष्णा चौधरी को बेहतर इलाज के लिए चिकित्सकों ने छपरा सदर अस्पताल रेफर कर दिया, जहां से चिकित्सकों ने उन्हें पीएमसीएच पटना रेफर कर दिया.

advt

उनके अलावे घायलों में शंकर चौधरी, बलिराम चौधरी, राजीव रंजन, शशि रंजन, योगेश कुमार सिंह व कन्हैया यादव आदि शामिल हैं, जिनका इलाज मांझी स्वास्थ्य केंद्र में चल रहा है.

मारपीट की घटना के दौरान एक पक्ष की ओर से लगभग दस राउंड फायरिंग करने की भी खबर है. हालांकि पुलिस ने घटना स्थल से मात्र एक कारतूस का खोखा बरामद किया है.

इसे भी पढ़ें :झारखंडः कोरोना की दूसरी लहर में 60 से अधिक उम्रवालों की ज्यादा हुई मौत

पुलिस को भी झेलना पड़ा लोगों का आक्रोश, पहुंचे डीएसपी व बीडीओ

घटना की सूचना पाकर पहुंची मांझी थाना पुलिस को भी आक्रोशित ग्रामीणों के गुस्से का शिकार होना पड़ा. बाद में स्थिति को बेकाबू होता देख छपरा सदर एसडीपीओ एमपी सिंह, सीओ दिलीप कुमार व बीडीओ नीलकमल के द्वारा स्थिति को देखते हुए एकमा, दाउदपुर व रिवीलगंज थाना पुलिस को भी बुला लिया.

परिस्थिति को प्रतिकूल होता देख छपरा पुलिस लाइन से एक सेक्शन महिला व पुरुष पुलिस बल को भी बुलाना पड़ा. इधर पुलिस के साथ साथ मुखिया पति शैलेश्वर मिश्रा, पूर्व मुखिया विजय सिंह, पूर्व जिप सदस्य धर्मेन्द्र सिंह समाज, लक्ष्मण यादव, निरंजन सिंह, राजकुमार सिंह आदि अनेक ग्रामीणों ने बीच बचाव के लिए कड़ी मशक्कत की.

इसे भी पढ़ें :Unlock-2 में बड़ी छूट मिलने के संकेत, जानें क्या कह रही है सरकार

मंदिर में जमीन दान में दी गई है, दूसरे पक्ष पर हड़पने का आरोप

ग्रामीणों का कहना के गांव के समाजसेवी स्व. शुभ नारायण सिंह ने जरती माई मंदिर निर्माण के लिए तीन कट्ठा ग्यारह धुर जमीन दान में दिया था, जिसमें मंदिर के अलावा बरगद पीपल तथा नीम का एक बड़ा पेड़ है.

गांव के ही परशुराम चौधरी कथित रूप से मंदिर की भूमि हड़पने के उद्देश्य से जबरन निजी स्तर पर मंदिर का निर्माण करा रहे थे. जिसपर अन्य ग्रामीणों ने आपत्ति दर्ज करते हुए जबरन मंदिर के निर्माण कार्य को रोक दिया.

जिसके बाद परिवार के उत्तेजित सदस्यों ने अचानक हमला बोल दिया. जिसमें धारदार हथियार के प्रयोग के अलावा जमकर रोड़ेबाजी व फायरिंग भी की गई.

लोगों का आरोप है कि भभौली निवासी शिवजी यादव ने दहशत फैलाने के उद्देश्य से फायरिंग की. गांव में शांति-व्यवस्था व स्थिति को नियंत्रित करने के लिए बड़ी संख्या में पुलिस बल को तैनात किया गया है.

इसे भी पढ़ें :गढ़वा: सबसे पहले शत प्रतिशत टीकाकरण करनेवाले प्रखंड को पीएचइडी मंत्री देंगे एक लाख रुपये का इनाम

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: