Bihar

बिहारः महागठबंधन में मतभेद को कांग्रेस ने किया खारिज, गोहिल बोले- सब चंगा है

विज्ञापन

Patna: कांग्रेस ने महागठबंधन के भीतर किसी भी तरह के मतभेद को खारिज किया है. गुरुवार को कांग्रेस ने कहा कि गठबंधन में सब कुछ ठीक है, इसलिए किसी को न तो चेहरे (मुख्यमंत्री पद के कैंडिडेट) और न ही समन्वय समिति के गठन (महागठबंधन के घटक दलों की) की चिंता करने की जरूरत नहीं.

 

advt

बिहार कांग्रेस प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने पटना के सदाकत आश्रम स्थित बिहार प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में संवाददाता सम्मेलन के दौरान महागठबंधन में किसी भी तरह के मतभेद को खारिज करते हुए कहा कि उनकी अपने साथियों (महागठबंधन के अन्य घटक दलों) के साथ लगातार बातचीत होती रहती है.

इसे भी पढ़ेंःVikas Dubey Encounter: यूपी STF की टीम ने किया ढेर, हथियार छीनकर भागने की कर रहा था कोशिश

‘महागठबंधन में सब चंगा है’

शक्ति सिंह गोहिल ने महागठबंधन में सब कुछ ठीक होने का दावा करते हुए कहा, ‘महागठबंधन में सब चंगा है. आप लोग न तो चेहरे (मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार) और न ही समन्वय समिति (महागठबंधन के घटक दलों) की चिंता करें. वक्त बता देगा कि हम बड़ी मजबूती से साथ लडेंगे और अच्छा नतीजा लाएंगे.’

adv

उन्होंने कहा, ‘कुछ चीजें चुनावी रणनीति होती हैं. हम कैमरे के सामने नहीं कहेंगे. पूछना आपका अधिकार है. वक्त आने पर स्पष्ट कर दिया जाएगा और हम एक सकारात्मक एजेंडे के साथ अपने साथियों के साथ चुनाव लड़ेंगे.’

महागठबंधन बिहार विधानसभा चुनाव किसके नेतृत्व में लड़ेगा, इस बारे में पूछे जाने पर गोहिल ने चुनाव की घोषणा से पहले सब कुछ स्पष्ट हो जाने का दावा करते हुए कहा कि हमारे बीच में समन्वय है. बुधवार को तेजस्वी यादव ने हमें डिनर पर बुलाया था और गुरुवार शाम मांझी जी ने चाय पर बुलाया. मुलाकात के संबंध में लोजपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा का दिल्ली से फोन आया था.

राजद के तेजस्वी प्रसाद यादव को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किए जाने के बारे में पूछे जाने पर गोहिल ने कहा कि यह उनका हक है.

इसे भी पढ़ेंःबिहार: लगातार दूसरे दिन Corona के 700 से अधिक केस, संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 14 हजार के करीब

एनडीए में है तकरार- गोहिल

गोहिल ने बिहार में सत्तारूढ़ एनडीए में समस्या होने का दावा किया और आरोप लगाया कि राजग की सबसे बडी पार्टी भाजपा का इतिहास रहा है कि जब जरूरत पड़ती है तो ‘वह साथी के पांव पड़ती है और जरूरत खत्म हो जाने पर वह साथी का राजनीतिक तौर पर गला काटती है.’

उन्होंने कहा, इस मामले में (पूर्ववर्ती जम्मू-कश्मीर राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री) महबूबा मुफ्ती और शिव सेना सबसे बड़े उदाहरण हैं. अब (लोजपा प्रमुख) चिराग पासवान जी और (जदयू प्रमुख) नीतीश कुमार जी का आगे क्या होगा? देखिए, आगे-आगे होता है क्या.

‘बिहार में जनता चाहती है बदलाव’

कांग्रेस प्रभारी ने दावा किया कि बिहार की जनता बदलाव चाहती है. गोहिल ने कहा कि सही वक्त पर चुनाव जरूर होना चाहिए तथा चुनाव में जनता के आशीर्वाद के साथ हमारी सरकार बनेगी .

उन्होंने कहा, ‘संविधान गुप्त मतदान की बात करता है यानि आपने वोट किसे दिया, किसी को पता नहीं चलना चाहिए. अब आप 62 साल के ऊपर के लोगों को डाक मतपत्र की सुविधा दे दोगे. यदि कोई गुंडा उनसे आकर कहेगा कि मुझे दिखाकर मतदान करो, तो हम ऐसा फर्जी चुनाव नहीं चाहते.’

इसे भी पढ़ेंःबढ़ते कोरोना संकट में दो ट्रेनों की झारखंड में नो इंट्री, राज्य सरकार ने किया था रेलवे से आग्रह

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close