न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बिहार: उत्‍पात मचाने वाले 700 प्रशिक्षु पुलिसकर्मी ड्यूटी से हटाये गये

46

Patna: पटना पुलिस लाइन में शुक्रवार को जमकर हिंसा और उत्पात मचाने वाले 700 प्रशिक्षु पुलिसकर्मियों को ड्यूटी से हटा दिया गया है. पुलिस लाइन में हिंसा और जमकर हंगामा मचाने के मामले में शनिवार को बुद्धा कॉलोनी थाने में दो एफआईआर भी दर्ज करवाई गईं. इसके बाद यह कार्रवाई की गयी है. पहली प्राथमिकी बुद्धा कॉलोनी थाने के एसएसओ मनोज चौहान की शिकायत पर दर्ज करवायी गयी. जबकि दूसरी प्राथमिकी पुलिस लाइन में डीएसपी और सार्जेंट मेजर के पद पर तैनात मोहम्मद मसलउद्दीन के शिकायत पर दर्ज करवायी गयी है. गौरतलब है, प्रशिक्षु पुलिसकर्मियों ने जिससे ज्यादा संख्या महिला पुलिसकर्मियों की थी ने शुक्रवार को अपने सहयोगी सविता पाठक की मौत से आक्रोशित होकर पुलिस लाइन में जमकर तोड़फोड़ की थी. पुलिसकर्मियों का आरोप था कि 22 वर्षीय प्रशिक्षण पुलिसकर्मी सविता पाठक डेंगू से पीडि़त थीं और अपना इलाज कराने के लिए उसने डीएसपी मोहम्मद मसलउद्दीन को छुट्टी की अर्जी दी थी जिसे नामंजूर कर दिया गया था. शुक्रवार को ड्यूटी के दौरान सविता पाठक की तबीयत ज्यादा बिगड़ गयी और अस्पताल में इलाज के दौरान उनकी मौत हो गयी. सविता पाठक की मौत से उनके सहकर्मी इतने आक्रोशित हो गये कि उन्होंने पुलिस लाइन में डीएसपी मसलउद्दीन पर जानलेवा हमला कर दिया.

इसे भी पढ़ें: रांची में गैंगवार में कुख्यात अपराधी सोनू इमरोज की गोली मारकर की हत्या

एसपी से भी हुई थी हाथापाई, सीएम ने मांगी थी रिपोर्ट

उसके बाद हालात पर काबू पाने के लिए मौके पर पहुंचे पुलिस के आला अधिकारियों पर भी गुस्साए प्रशिक्षु पुलिसकर्मियों ने हमला बोल दिया और उनकी गाडिय़ों में तोडफ़ोड़ की. घटना में 3 एसपी रैंक के अधिकारियों के साथ भी पुलिसकर्मियों ने हाथापाई की. इस मामले की गंभीरता को देखते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी हस्तक्षेप किया और डीजीपी केएस द्विवेदी से विस्तृत जांच रिपोर्ट तलब किया.

इसे भी पढ़ें: News Wing Impact : IAS हों या सहायक, बिना सूचना बंक मारा तो कटेगा वेतन, ट्रेजरी से जुड़ेगा बायोमिट्रिक अटेंडेंस

सीसीटीवी कैमरे से हुई पुलिसकर्मियों की पहचान

पुलिस लाइन के अंदर और बाहर लगे सीसीटीवी कैमरों के आधार पर घटना में शामिल प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे पुलिसकर्मियों की पहचान कर ली गयी है. जिसके बाद उन पर कड़ी कार्रवाई करते हुए सभी को ड्यूटी से हटा दिया गया है. इस कार्रवाई के बाद बिहार में हालात और बिगडऩे की आशंका जतायी जा रही है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: