BiharLead NewsNEWS

बिहार में शिक्षकों को बड़ी राहत, ऐच्छिक स्थानों पर करवा सकेंगे तबादले

News Wing Desk: नीतीश सरकार ने एक बार फिर से राज्य के शिक्षकों को बड़ी राहत दी है. कोरोना काल में बिहार सरकार ने ये ऐलान किया है कि अब कोई भी शिक्षक और पुस्तकालयाध्यक्ष स्वयं या पति-पत्‍नी एक ही जगह पर तबादला करवा सकते है. इसके लिए शिक्षकों को तबादले संबंधी आवेदन वेब पोर्टल पर अपलोड करना अनिवार्य होगा, आइए विस्तार से जानते है सरकार का ये आदेश…

इसे भी पढ़ेंः झारखंड में अनलॉक-2 का एलान, अब चार बजे तक खुलेंगी दुकानें, शनिवार शाम से सोमवार सुबह तक कंप्लीट लॉकडाउन

advt

दरअसल, यदि कोई शिक्षक और पुस्तकालयाध्यक्ष स्वयं या पत्नी/ पति अथवा उनके आश्रित गंभीर बीमारी से ग्रसित होगा, तो उन्हें ऐच्छिक तबादले में प्राथमिकता मिलेगी. इसी तरह यदि किसी शिक्षक-पुस्तकालयाध्यक्ष का पुत्र-पुत्री या पत्नी-पति मंद बुद्धि अथवा मानसिक रोग से ग्रसित होगा, तो उन्हें भी तबादले में प्राथमिकता मिलेगी.

 

इसके लिए शिक्षक को तबादले संबंधी आवेदन के साथ सक्षम मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी से निर्गत स्वास्थ्य संबंधित प्रमाण पत्र वेब पोर्टल पर अपलोड करना अनिवार्य होगा यह प्रावधान शिक्षा विभाग ने पंचायती राज और नगर निकायों के प्रारंभिक से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों एवं पुस्तकालयाध्यक्षों के स्थानातंरण नियमावली में किया है.

इसे भी पढ़ेंःCorona Update: पूर्वी सिंहभूम ने बढ़ाई चिंता, 24 घंटे में 358 नये संक्रमित मिले, जानें-झारखंड की क्या है स्थिति

शिक्षा विभाग ने नियमावली में इसका भी प्रविधान किया है कि पति-पत्नी में से कोई एक अगर राज्य सरकार या केंद्र सरकार अथवा उसके उपक्रम के अधीन या स्थानीय निकाय में सेवारत है, तो पदस्थापन स्थल पर तबादले में दूसरे को प्राथमिकता दी जाएगी. इसी तरह पति और पत्नी, दोनों शिक्षक हैं, तो उन्हें भी एक कार्यस्थल पर तबादले का अवसर मिलेगा. संविदा पर कार्यरत रहने के मामले में यह प्रविधान लागू नहीं होगा.

इसे भी पढ़ेंः6th JPSC : नयी मेरिट लिस्ट में पेंच हैं हजार, आसानी से हल नहीं होगा ये मसला

खास बात यह कि शिक्षक व पुस्तकालयाध्यक्ष के स्थानातंरण में अंतर वरीयता का आधार नियोजन पत्र निर्गत की तिथि अथवा प्रशिक्षण अर्हता प्राप्त करने की तिथि, जो बाद की तिथि हो, होगी. उक्त तिथि के समान होने पर जिनकी जन्म तिथि पहले होगी, उन्हें वरीय माना जाएगा. जन्म तिथि के समान होने की स्थिति में अंग्रेजी के शब्दकोष के अनुसार जिस शिक्षक-पुस्तकालयाध्यक्ष का नाम पहले होगा, वह वरीय होगा. ऐच्छिक स्थानातंरण में कोई यात्रा भत्ता नहीं मिलेगा.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: