JharkhandMain SliderOpinion

बड़ा सवाल : धनबाद पुलिस कानून के हिसाब से चलती है या ढुल्लू महतो के इशारों पर

Surjit  Singh

तथ्य

–     धनबाद के आकाशकिनारी में ओरिएंटल कंपनी ने कोयला आउटसोर्सिंग का काम लिया है.

advt

–    28 जून से कंपनी का काम बंद है. आरोप है कि ढुल्लू महतो के लोगों की रंगदारी के कारण काम बंद है.

–    कंपनी ने राज्य के मुख्यमंत्री को भी पत्र लिखकर सुरक्षा की मांग की है.

–    आठ जुलाई को ओरिएंटल कंपनी के असिस्टेंट वाईस प्रेसिडेंट एसएस शेठ्ठी ने प्रेस कांफ्रेंस करके बताया कि ढुल्लू महतो के लोगों की रंगदारी की वजह से कंपनी परेशान हो चुकी है. विधायक ढुल्लू महतो ने सहयोग को अपना अधिकार मान लिया है.

–    विधायक के लोगों को और कंपनी के बीच धनबाद के एसडीओ ने समझौता कराया, पर बात नहीं बनी.

adv

–     प्रेस कांफ्रेंस के दो दिन बाद एक ऑडियो क्लिप वायरल हुआ, जिसमें विधायक ढुल्लू महतो ओरिएंटल कंपनी के अधिकारी को धमकाते हुए सुने जा सकते हैं.

–    22 जुलाई को कंपनी के एजीएम मुकेश चंदानी पर हमला हुआ, हमलावरों ने उन्हें पीटा, उनका पैर तोड़ दिया. उनका आरोप है कि पुलिस ने इस मामले में विधायक को अभियुक्त नहीं बनाया. जबकि हमलावर यह कह रहे थे कि विधायक जी से पंगा लोगे तो जान से हाथ धोना पड़ेगा.

इसे भी पढ़ें – JBVNL में 15 करोड़ का घपला और घपलेबाज को संरक्षण देने वाले आईएएस राहुल पुरवार पर सरकार की चुप्पी

उपर के तथ्य क्या कह रहे हैं ? उपर के तथ्यों से क्या साबित हो रहा है ?  धनबाद में कानून का राज है या ढुल्लू महतो का ? धनबाद की पुलिस कानून के हिसाब से काम करती है या ढुल्लू महतो के इशारे पर ? उनकी सुविधा को ध्यान में रखते हुए.

जब घटनाएं सिलसिलेवार हो रही हैं. हरेक घटना की जानकारी धनबाद जिला के एसएसपी मनोज रतन चौथे से लेकर थाना तक की पुलिस को और साथ ही जिला प्रशासन को भी है. यहां तक कि मुख्यमंत्री सचिवालय को भी है. मीडिया में लगातार खबरें आ रही हैं कि विधायक और उनके लोग कंपनी के लोगों को धमकी दे रहे हैं. ऑडियो क्लिपिंग भी मौजूद है. ऐसे में जब कंपनी के लोगों पर जानलेवा हमला होता है, तो जिम्मेदार कौन होगा. हो सकता है तीसरा भी कोई हो. पर यह तो तब पता चलेगा, जब विधायक के खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज हो और जांच हो. 23 जुलाई को दैनिक अखबार हिंदुस्तान में छपी खबर के मुताबिक पुलिस ने विधायक ढुल्लू महतो के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज नहीं की. ऐसे में धनबाद पुलिस पर यह सवाल उठता है कि वह कानून के हिसाब से काम करती है या ढुल्लू महतो के हिसाब से. एक सवाल यह भी है कि पुलिस मुख्यालय क्या कर रहा है. वह धनबाद पुलिस को निर्देश क्यों नहीं दे रहा. ढुल्लू महतो के मामले में मुख्यालय की चुप्पी कई बड़े सवालों को जन्म देता है.

इसे भी पढ़ें – आखिर रांची पुलिस ने किस अधिकार पर बालिग कपल को थाना लाकर उनकी मर्यादा को तार-तार किया

यह पहला मौका नहीं है, जब विधायक ढुल्लू महतो पर रंगदारी के आरोप लगे हैं. पहले भी लगते रहे हैं. लेकिन पुलिस कार्रवाई नहीं करती. ढुल्लू महतो भाजपा के विधायक हैं. झारखंड में भाजपा सत्ता में है. ऐसे में यह सवाल उठता है, कि क्या सत्ताधारी दल के लोग कुछ भी करेंगे और कानून का पालन कराने की जिम्मेदारी जिस पुलिस विभाग पर है और वह चुप रहेगी. अगर ऐसा ही होता रहा तो मुख्यमंत्री के जीरो टॉलरेंस वाली घोषणा का क्या होगा ?

इसे भी पढ़ें – कागजों पर संचालित फर्जी चाइल्ड केयर होम कर रहे सरकार को गुमराह, होगी कार्रवाई : आयोग

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button