NationalNEWSTOP SLIDER

Big News : आजीवन कारावास की सजा काट रहे कैदियों के लिए योगी सरकार का बड़ा फैसला, अब 60 साल से पहले हो सकेंगे रिहा

UP News : योगी सरकार ने जेलों में आजीवन कारावास की सजा काट रहे कैदियों की उम्र को लेकर अहम निर्णय लिया है. अब आजीवन कारावास की सजा काटने के बाद कैदी को 60 साल की उम्र होने का इंतजार नहीं करना होगा. बंदी की सजा खत्म होते ही उसे रिहा कर दिया जाएगा. सरकार ने उन बंदियों को राहत दी है, जो कम उम्र में कोर्ट से आजीवन कारावास की सजा पा जाते हैं लेकिन 60 साल की उम्र तक का इंतजार करना पड़ता है. सरकार के द्वारा लिए गए इस निर्णय को लेकर सोमवार को शासन में महत्वपूर्ण बैठक होगी. इसके बाद तय होगा कि सरकार के इस फैसले से कितने बंदियों की रिहाई का रास्ता खुलेगा.

इसे भी पढ़ें: रांची : तुपुदाना में लेवी वसूलने आए PLFI के तीन उग्रवादी गिरफ्तार, पुलिस कर रही पूछताछ

क्या है आजीवन कारावास की सजा का नियम?

ram janam hospital
Catalyst IAS

कानूनी भाषा में कहें तो किसी भी अपराध में मिली आजीवन कारावास की सजा से बंदी को जीवनपर्यंत जेल में रहना होता है, लेकिन जेल में बढ़ती कैदियों की भीड़ और अच्छे चाल चलन के चलते आजीवन कारावास की सजा पाए बंदियों को कम से कम 16 साल जेल में रहने का प्रावधान है. 20 साल की सजा काटने के बाद कोई भी बंदी अपने अच्छे चाल चलन के चलते सजा से पहले रिहाई पाने का हकदार हो जाता है. पहले लागू नियम के अनुसार आजीवन कारावास की सजा में समय पूर्व रिहाई पाने वाले बंदी की उम्र 60 साल होना जरूरी होती थी.

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

उदाहरण के तौर पर अगर किसी व्यक्ति को 25 साल की उम्र में आजीवन कारावास की सजा मिलती थी तो वह भले ही 20 साल की सजा काट ले लेकिन वह अच्छे चाल चलन के चलते समय पूर्व रिहाई का पात्र 60 साल की उम्र के बाद ही हो पाता था. ऐसे में उस बंदी को 15 साल जेल में रहना पड़ता था, लेकिन अब सरकार ने यह 60 साल की उम्र का नियम हटा दिया है. अच्छे चाल चलन में रहकर 20 साल की सजा काट चुके बंदी को भी रिहाई दी जा सकेगी.

इस संबंध में डीजी जेल आनंद कुमार का कहना है कि सरकार के इस निर्णय से बड़ी संख्या में आजीवन कारावास की सजा पाए कैदियों को राहत मिलेगी. जो बंदी जेल में रहकर सुधर गए उनके लिए राहत भरी खबर है. शासन इस संबंध में महत्वपूर्ण बैठक करेगा, जिसके बाद उत्तर प्रदेश की जेलों से इस नए नियम के तहत रिहा होने वाले बंदियों की संख्या और उनकी पूरी प्रक्रिया को अंतिम रूप दिया जा सकेगा.

इसे भी पढ़ें: President Election 2022: BJP अध्यक्ष ने सोनिया गांधी और पूर्व PM एचडी देवगौड़ा को किया फोन, द्रौपदी मुर्मू के लिए मांगा समर्थन

 

Related Articles

Back to top button