Crime NewsFashion/Film/T.VLead NewsNationalTOP SLIDERTRENDING

BIG NEWS :  Aryan Khan Drugs Case मामले के जांचकर्ता समीर वानखेड़े के खिलाफ विजिलेंस जांच शुरू

समीर वानखेड़े ने यह भी कहा कि उनकी बहन और स्वर्गवासी मां को भी किया जा रहा टारगेट

Mumbai : क्रूज ड्रग्स केस की जांच कर रहे मुंबई एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े के खिलाफ इंटरनल विजिलेंस (Internal Vigilance- आईवी) जांच शुरू हो गई है. नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (Narcotics Control Bureau- एनसीबी) के डिप्टी डायरेक्टर जनरल और एजेंसी के चीफ विजिलेंस ऑफिसर ज्ञानेश्वर सिंह (Chief Vigilance Officer Dnyaneshwar Singh) का कहना है कि वे समीर वानखेड़े (Sameer Wankhede) के खिलाफ खुद जांच की निगरानी कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें :वैशाली में छेड़खानी का विरोध करने पर लड़की सहित परिवार के सात  सदस्यों को मनचलों ने किया लहूलुहान

advt

ये कहा चीफ विजिलेंस ऑफिसर ने

एजेंसी के चीफ विजिलेंस ऑफिसर ज्ञानेश्वर सिंह से सवाल किया गया कि क्या समीर वानखेड़े अपने पद पर बने रहेंगें? इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि इस मामले की जांच शुरू कर दी गई है, इस पर टिप्पणी करना अभी जल्दबाजी होगी. स्वतंत्र गवाह ने एफिडेविट के माध्यम से सोशल मीडिया पर कुछ तथ्यों को साझा किया था.

तथ्यों के आधार पर उसका संज्ञान लेते हुए महानिदेशक एनसीबी ने विजिलेंस को इंक्वायरी मार्क की है. आज जांच के आदेश हुए हैं, तथ्यों और साक्ष्यों के आधार पर निर्यण होगा.

वहीं, क्रूज ड्रग्स केस में समीर वानखेड़े आज स्पेशल एनडीपीएस अदालत में पेश हुए और एफिडेविट दाखिल किया. समीर वानखेड़े ने यह भी कहा कि उनकी बहन और स्वर्गवासी मां को भी टारगेट किया जा रहा है. समीर वानखेड़े ने कहा है कि वे जांच के लिए तैयार है. केस को कमजोर करने के लिए सब कुछ किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें :प्रकाश झा और ‘आश्रम-3’ की टीम पर हमला, बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने निर्देशक पर स्याही फेंकी और दी धमकी

फंसाने के लिए गलत उद्देश्यों से कोई कानूनी कार्रवाई नहीं हो

जानकारी के लिए आपको बता दें कि बीते रविवार को एनसीबी की मुंबई इकाई के जोनल निदेशक समीर वानखेड़े ने मुंबई पुलिस आयुक्त को पत्र लिखा है.  समीर ने पत्र के माध्यम से मुंबई पुलिस आयुक्त से अपील की थी कि सुनिश्चित करें कि उन्हें फंसाने के लिए गलत उद्देश्यों के साथ कोई कानूनी कार्रवाई नहीं की जाए.

उन्होंने मुंबई पुलिस से झूठे आरोपों पर कार्रवाई से सुरक्षा मांगी थी. समीर वानखेड़े ने अपने पत्र में लिखा यह भी लिखा था कि यह मेरे संज्ञान में आया है कि कथित सतर्कता संबंधी मुद्दे के संबंध में अज्ञात व्यक्तियों द्वारा मुझे झूठा फंसाने के लिए कुछ कानूनी कार्रवाई की योजना बनाई जा रही है.

इसे भी पढ़ें :BIG NEWS :  राहुल गांधी और प्रियंका के करीबी अल्लू मियां गिरफ्तार,जालसाजी व रंगदारी मांगने का मामला

प्रभाकर सैल ने दायर किया है हलफनामा

जानकारी के लिए आपको बता दें कि अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान के ड्रग्स केस में रविवार को नया मोड़ आया. किरण गोसावी के बॉडीगार्ड रहे प्रभाकर सैल ने एक हलफनामे में कई चौंकाने वाले दावे किए.

मीडिया में आईं खबरों के मुताबिक, प्रभाकर ने बताया कि किरण गोसावी ने आर्यन खान को छोड़ने के लिए 25 करोड़ रुपये की मांग की थी. लेकिन 18 करोड़ में बात हो गई थी. किरण गोसावी ने कथित रूप से कहा था कि इस 18 करोड़ में से 8 करोड़ समीर वानखेड़े को जाएंगे. बाकी बचे पैसे दूसरों में बंटेंगे. उन्होंने यह भी कहा है कि एनसीबी ने गवाह बनाकर उनसे 10 ब्लैंक पेपर पर हस्ताक्षर भी कराए थे. अब इसी मामले को लेकर आईबी ने समीर के खिलाफ जांच शुरू कर दी है

इसे भी पढ़ें :सुपरस्टार रजनीकांत दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित, अभिनेता ने इनको समर्पित किया अवॉर्ड

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: